ई सिगरेट पर झारखंड में लगा बैन

2019-04-09T15:24:57Z

इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट पर झारखंड में पाबंदी लगा दी गयी है

ranchi@inext.co.in
RANCHI:  इलेक्ट्रॉनिक निकोटिन डिलिवरी सिस्टम के माध्यम से लिक्विड तरल ग्रुप में सेवन किये जाने वाले सिगरेट पर झारखंड में पाबंदी लगा दी गयी है. स्वास्थ्य विभाग ने इससे संबंधित आदेश जारी कर दिया है. इएनडीएस एक यंत्रनुमा चीज है, जिसकी सहायता से प्रोपाइलीन तथा ग्लाइकोल या ग्लिसरीन या दोनों के लिक्विड को गर्म करके इसका कश लगाया जाता है. इसमें तंबाकू का इस्तेमाल नहीं होता, लेकिन इसमें निकोटिन पाया जाता है. इएनडीएस की सहायता से निकोटिन युक्त तरल का सेवन, निकोटिन पर निर्भरता बढ़ाता है. झारखंड में आयात, निर्माण, बिक्री, व्यापार, प्रदर्शन, उपयोग व विज्ञापन पर रोक लगी है.

दिल्ली हाईकोर्ट ने जारी किया निर्देश
गौरतलब हो कि दिल्ली हाईकोर्ट ने ई-सिगरेट आर निकोटिन फ्लेवर वाले ई-हुक्का जैसे इलेक्ट्रोनिक्स निकोटिन सिस्टम के उत्पादन और बिक्री पर पाबंदी लगाने वाले केन्द्र के परिपत्र पर रोक लगा दी है. अदालत ने कहा है कि ये उत्पाद औषधि नही है. कोर्ट ने 18 मार्च के अपने आदेश के माध्यम से ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया द्वारा सभी राज्यों के ड्रग कंट्रोलर्स को अपने-अपने राज्यों में इलेक्ट्रॉनिक निकोटिन डिलीवरी सिस्टम ईएनडीएस और संबंधित उत्पादों के निर्माण, वितरण, बिक्री ऑनलाइन सहित, आयात, विज्ञापन और व्यापार पर प्रतिबंधित करने के लिए जारी निर्देश पत्र पर रोक लगा दी है.


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.