सिंभावली शुगर मिल की 109 करोड़ की संपत्ति अटैच

2019-07-03T10:02:51Z

ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स के साथ करोड़ों का फ्रॉड करने वाली हापुड़ की सिंभावली शुगर मिल की करोड़ों रुपये की संपत्तियों को ईडीं ने अटैच कर लिया है।

- पंजाब के सीएम अमरिंदर सिंह के करीबी रिश्तेदार हैं डायरेक्टर्स
- सीबीआई के बाद ईडी ने केस दर्ज कर संपत्तियों को किया अटैच

lucknow@inext.co.in
LUCKNOW : ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स के साथ 148.59 करोड़ का फ्रॉड करने वाली हापुड़ की सिंभावली शुगर मिल की 109.80 करोड़ रुपये की संपत्तियों को इंफोर्समेंट डायरेक्टरेट (ईडी) ने अटैच कर लिया है। खास बात यह है कि बैंक फ्रॉड के आरोपित शुगर मिल के डायरेक्टर्स पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के करीबी रिश्तेदार है। ईडी ने इस मामले में विगत 27 फरवरी 2018 को सिंभावली स्थित चीनी मिल, नोएडा स्थित कारपोरेट ऑफिस और मेरठ स्थित ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स की शाखा में छापा मारकर कई अहम सुबूत जमा किए थे। उल्लेखनीय है कि बैंक फ्रॉड के इस मामले की जांच सीबीआई भी कर रही है। सीबीआई ने भी घोटाले के आरोपितों के ठिकानों को खंगाला था।

किसानों को नहीं दिया पैसा

दरअसल शुगर मिल ने बैंक से यह रकम 5762 गन्ना किसानों को देने के लिए जुटाई थी पर जांच में सामने आया कि उसने किसानों के खाते में पैसा भेजने के बजाय अपने पुराने लोन चुकाने शुरू कर दिए। साथ ही कंपनी को चलाने में पैसा खर्च किया और गन्ना किसानों का पुराना बकाया का भुगतान किया जो कि नियमों के मुताबिक कंपनी को अपने राजस्व से करना था। इतना ही नहीं, कंपनी ने बैंक से दोबारा लोन के लिए संपर्क साधना शुरू कर दिया। एनपीए के बावजूद जनवरी 2015 में बैंक द्वारा निजी चीनी मिल को 110 करोड़ रुपये का लोन और स्वीकृत कर दिया गया जबकि उसने पुराना 97.85 करोड़ का लोन वापस नहीं किया था। यह मामला सामने आने के बाद बैक प्रबंधन ने इसकी शिकायत सीबीआई से की जिसके बाद शुगर मिल प्रबंधन  पर जांच एजेंसियों का शिकंजा कसने लगा। ईडी की जांच में मनी लांड्रिंग के आरोपों की पुष्टि होने के बाद ईडी लखनऊ के जोनल डायरेक्टर राजेश्वर सिंह के निर्देश पर शुगर मिल की संपत्तियों को जब्त करने की कवायद शुरू कर दी गयी। ईडी के अधिकारियों ने सोमवार को शुगर मिल की भूमि, प्लांट, मशीनरी को अटैच कर लिया जिसकी कीमत 109.80 करोड़ रुपये आंकी गयी है।
ये हैं घोटाले के आरोपित
सिंभावली शुगर मिल लिमिटेड, गुरमीत सिंह मान (चेयरमैन एवं एमडी), गुरपाल सिंह (डिप्टी एमडी), जीएससी राव (चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफिसर), संजय तापरिया (सीएफओ), गुरसिमरन कौर मान (एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर, कमर्शियल), एसके गांगुली, एससी कुमार, बीके गोस्वामी, यशवंत वर्मा, राम शर्मा (नॉन एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर), अज्ञात बैक अधिकारी व निजी लोग।
यूपी में 21 नये थानों के लिये 901 पदों को मंजूरी
जगन्नाथ रथयात्रा में पति निखिल जैन संग शामिल होंगी सांसद नुसरत, इस्कॉन ने भेजा निमंत्रण
फैक्ट मीटर

- 18 जनवरी 2012 को सिंभावली शुगर मिल के डायरेक्टर्स ने लिया बैंक से लोन
- 5762 किसानों को पैसा देने के लिए बैंक से लिए थे 148।59 करोड़ रुपये
- 28 जनवरी 2015 को शुगर मिल प्रबंधन ने फिर लिया 110 करोड़ का लोन
- 22 फरवरी 2018 को बैंक की शिकायत पर सीबीआई ने दर्ज किया केस
- 25 फरवरी 2018 को ईडी ने भी मनी लांड्रिंग का केस दर्ज कर शुरू की जांच
- 27 फरवरी 2018 को कंपनी के ठिकानों पर ईडी ने की थी छापेमारी की कार्रवाई



This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.