मेट्रो मैन ने इंजीनियर्स को बताए सफलता के गुर

2014-12-09T07:05:41Z

- आईआईटी रुड़की एल्यूमनी एसोसिएशन लखनऊ चैप्टर के तत्वावधान में आयोजित हुआ कार्यक्रम

- बतौर चीफ गेस्ट शामिल पद्म विभूषण डॉ। ई। श्रीधरन ने इंजीनियरियों को किया सम्बोधित

- समारोह में पूर्व छात्रों को किया गया सम्मानित

- टॉम क्रूज ने सबको गुदगुदाया

LUCKNOW: समयनिष्ठा, सत्यनिष्ठा, पेशेवर घटक और सामाजिक जिम्मेदारी व जवाबदेही। इन सभी गुणों के साथ काम करने वाला इंजीनियर कभी असफल नहीं हो सकता। वह न तो कभी थकता है और न ही उसे थकना चाहिए। यह बात पद्म विभूषण डॉ। ई श्रीधरन (मोट्रो मैन) ने विश्वेसरैय्या सभागार में कहें। वह आईआईटी रुड़की एल्यूमनी एसोसिएशन लखनऊ चैप्टर के वार्षिक समारोहम में चीफ गेस्ट के तौर पर उपस्थित थे।

जनहित कार्यो में विशेष ध्यान दें

डॉ। श्रीधरन कहा कि समयनिष्ठा होने से जब कार्य समय से होता है तो निर्धारित बजट में हो जाता है। कोलकाता में चार किलो मीटर की मेट्रो शुरू करने में ख्ख् साल का समय लगा और बजट क्ब् गुना हो गया। इस बात को ध्यान में रखते हुए दिल्ली में मेट्रो शुरू करते समय ध्यान दिया गया तो वह निर्धारित समय के दो साल सात माह के पहले ही पूरा कर दिया। साथ ही उन्होंने कोकण रेलवे शुरू करने और मेट्रो प्रोजेक्ट के विषय में बताया। सत्यनिष्ठा पर बोले कि इंजीनियर का स्वयं में आदर्श होना चाहिए। उन्होंने कहा कि दिल्ली में कॉमन वेल्थ गेम में कितना घपला घोटला निकला लेकिन दिल्ली मेट्रो में कोई घोटला नहीं हुआ। मेट्रोमौन ने कहा कि इंजीनियर में काम के प्रति समर्पण का भाव होना जरूरी है। यह जरूरी नहीं कि दिन रात काम किया जाएं लेकिन जब आवश्यकता लगती है तो काम को ही ध्यान देना चाहिए। उन्होंने इंजीनियर को सोचना चाहिए कि उसका सामाजिक दायित्व है और समाज के प्रति उत्तरदायित्व है। इसलिए जनहित के कार्यो पर विशेष ध्यान दे चाहिए।

इस अवसर पर विशिष्ट अतिथि के रूप में आईआईटी रुड़की एल्यूमानी के अध्यक्ष प्रो। प्रेम कृष्णा ने अपने छात्र जीवन को याद किया और एसोसिएशन के किए जा रहे कार्यो की प्रशंसा की। समारोह में क्9म्ब् बैच के क्ख् पूर्व छात्रों, क्97ब् बैच के क्0 पूर्व छात्र और क्989 बैच के पांच पूर्व छात्रों को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया। वरिष्ठ पूर्व छात्र क्9भ्8 बैच के एसआर गोयल को भी सम्मानित किया गया। समारोह में टॉम क्रूज का कार्यक्रम हुआ, जिसमें सभी इंजीनियर उनकी बातों को सुनकर हंसने लगे। लखनऊ चैप्टर के अध्यक्ष अशोक कुमार गुप्ता ने आगुंतकों का स्वागत और सचिव सविता अग्रवाल ने रिपोर्ट पेश किया। मंच का संचालन जीतेश श्रीवास्तव ने किया। इस अवसर पर शाम को सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन हुआ।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.