अपनी औकात को पार करके दिखाना ही सक्सेस

2018-05-13T07:00:01Z

-इलाहाबाद के केपी ग्राउंड में आयोजित मोटिवेशनल सेमिनार में बोले फेमस राइटर चेतन भगत

ALLAHABAD: मोशन कोचिंग इंस्टीट्यूट पत्रिका मार्ग सिविल लाइंस की ओर से मोटिवेशनल सेमिनार का आयोजन केपी ग्राउंड पर किया गया। इसमें मशहूर लेखक चेतन भगत ने सक्सेस मंत्रा देकर युवाओं का दिल जीत लिया। इस पूरे प्रोग्राम का फोकस इंजीनियरिंग एंड मेडिकल की तैयारी करने वाले यंगस्टर्स को मोटिवेट करना था। प्रोग्राम के दौरान उन्होंने यूथ से पूछा कि आपकी राय में सक्सेस क्या है? इसपर एक स्टूडेंट ने बिल्कुल इलाहाबादी अंदाज में जवाब दे डाला अपनी औकात से ज्यादा कुछ कर दिखाना ही सक्सेस है।

कुछ होता है जो थिंकिंग बदल देता है

व‌र्ल्ड फेमस राइटर चेतन भगत ने छात्र के इस जवाब को एप्रिसिएट किया और ज्यादातर समय इसी बात पर फोकस किया कि औकात से बाहर जाकर कुछ करना ही सक्सेस है। तभी लोग आपको जानेंगे-पहचानेंगे। उन्होंने कहा कि लाइफ के किसी न किसी स्टेज पर आपको अपनी औकात पार करनी ही होगी। उन्होंने कहा कि जिंदगी में कोई न कोई ऐसी बात होती ही है जो आपकी पूरी थिकिंग को चेंज कर डालती है। बताया कि उनकी भी जिंदगी में एक ऐसा समय आया जब उन्हें 15-16 साल की उम्र में बोर्ड एग्जाम में केवल 76 फीसदी अंक हासिल हुए।

बदल गए मामा जी के सुर

चेतन भगत ने बताया कि रिजल्ट जानने के बाद जब वे अपने घर पहुंचे तो ऐसा लगा जैसे घर में मातम पसर गया हो। बताया कि तब उनके मामा ने उनकी ओर देख कर बड़ी ही गहरी बात बोली कि चलो कुछ न कुछ तो कर ही लेगा। कहा कि उन्हें यह बात बहुत कचोटी और उन्होंने डिसाइड किया कि वो कुछ अलग करके दिखाएंगे। इसके बाद उन्होंने आईआईटी की प्रिपरेशन की और उनका सेलेक्शन भी हो गया। बताया कि फिर उनके मामा के बोल थे मुझे तो पता था इसमें कोई बात तो थी, मुझे तो शुरू से ही पता था। कहा कि उनके मामा के सुर इसलिए बदल गए थे कि उन्होंने औकात को पार कर लिया था। प्रोग्राम में कबीना मंत्री नंद गोपाल गुप्ता नंदी, मेयर अभिलाषा गुप्ता, कमिश्नर आशीष गोयल, मोशन कोचिंग के चेयरमैन ब्रिजेश अग्रवाल, एमडी नितिन श्रीवास्तव आदि मौजूद रहे।

-------------

चेतन भगत के टिप्स

-सक्सेस के लिए प्लान ए और बी बताया।

-प्लान ए में बताया कि अगर आप 20 से 30 वर्ष की उम्र तक जमकर ऐश करेंगे तो बाकी पूरी जिंदगी परेशान ही रहेंगे।

-प्लान बी में बताया कि अगर इन दस सालों में जमकर लांग टर्म मेहनत करेंगे तो बाकी की पूरी जिंदगी सुकून से जिएंगे।

-कहा कि अब आपको यह तय करना है कि आपको प्लान ए फॉलो करना है या प्लान बी।

-शॉर्ट एफर्ट गोल बनाम लांग एफर्ट गोल के डिफरेंस के बारे में भी बताया।

-औकात से ज्यादा करने के लिए लांग टर्म की प्लानिंग जरूरी है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.