फास्टिंग जरा संभलकर

2014-04-01T07:00:01Z

- नौ दिन के व्रत में अपनी सेहत का ख्याल रखना जरूरी

- डायबिटीज और ब्लड प्रेशर के मरीजों समेत प्रेगनेंट लेडीज को बरतनी होगी सावधानी

नौ दिन के व्रत में अपनी सेहत का ख्याल रखना जरूरी

- डायबिटीज और ब्लड प्रेशर के मरीजों समेत प्रेगनेंट लेडीज को बरतनी होगी सावधानी

ALLAHABAD: ALLAHABAD@inext.co.in

ALLAHABAD: कहते हैं भक्ति में शक्ति होती है। लोग अपनी मन्नत पूरी करने के लिए नवरात्र में नौ दिन का व्रत रखते हैं। इस दौरान वह केवल फलाहार पर डिपेंड रहते हैं। अन्न और नमक का पूरी तरह से त्याग कर दिया जाता है। बावजूद इसके इन नौ दिनों में अपनी सेहत का ख्याल रखना बेहद जरूरी है। जरा सी लापरवाही दिक्कतें पैदा कर सकती है। खासतौर से डायबिटीज, ब्लड प्रेशर के मरीजों सहित प्रेगनेंट लेडीज की नौ दिन व्रत के दौरान देखभाल करना बेहद जरूरी है।

चेक करते रहें शुगर लेवल

डायबिटीज के मरीजों के लिए व्रत के दौरान शुगर लेवल कांसटेंट रखने के लिए डाइट पर ध्यान देना होगा। फलाहार में बहुत ज्यादा मीठी और कैलोरी युक्त चीजों को खाने से बचना होगा। खासतौर से मीठे फल, आलू, जूस और दूसरी चीजों को एक साथ न लेकर दो से तीन घंटे के अंतराल में थोड़ी-थोड़ी मात्रा में लेना जरूरी है। इससे ब्लड में हाइपर ग्लाइसीमिया यानी शुगर लेवल बढ़ने की संभावना कम होगी। इसी तरह लगातार भूखा रहने से वह हाइपोग्लाइसीमिया यानी शुगर लेवल कम होने का खतरा बढ़ सकता है। दोनों कंडीशन से बचने के लिए मरीज को बराबर अपना शुगर लेवल चेक करते रहना चाहिए। डॉक्टर्स की मानें तो मरीजों के लिए दवाओं का यूज करना जरूरी है।

पूजा से पहले खाने में नहीं है बुराई

खासतौर से प्रेगनेंट लेडीज के लिए डॉक्टर्स की सलाह है कि मॉर्निग में पूजा में के लिए देर तक भूखे रहने से बचना होगा। चाहें तो पूजा से पहले दूध या कुछ हल्का नाश्ता कर सकती हैं। ऐसी लेडीज दिन में एक बार फलाहार लेने की आदत से बचें। दिन में कई बार हल्का फलाहार लेने की सलाह डॉक्टर्स ने दी है। प्रेगनेंट लेडीज के लिए दूध, फल, हरी सब्जियां और जूस फायदेमंद साबित होगा। इसी तरह ब्लड प्रेशर के मरीजों को भी होशियार रहना होगा।

गर्मी है तो पानी भी जरूरी

दिनोंदिन लगातार तापमान बढ़ता ही जा रहा है। ऐसे में बॉडी को पानी की बेहद जरूरत है। जो लोग नौ दिन का व्रत हैं, उनको चाहिए कि लिक्विड फॉर्म में डाइट भी लेते रहें। पानी के साथ चाहें तो मट्ठा, दूध, दही, कुट्टू के आटे की लप्सी ले सकते हैं। ऐसे में उनकी बॉडी में पानी की कमी नहीं होगी। डॉक्टर्स कहते हैं कि कभी-कभी कुट्टू के आटे से कब्ज की शिकायत भी होती है तो ऐसे में डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

पुण्य और फिटनेस साथ-साथ

कुछ लोग मात्र पुण्य कमाने के लिए व्रत रखते हैं तो यंगस्टर्स के साथ नवरात्र में डबल फैक्टर काम कर रहा है। ये लोग अपनी फिटनेस बरकरार रखने के लिए डाइटिंग का सहारा ले रहे हैं। बैंक इम्प्लाई रश्मि सिंह कहती हैं कि इससे अच्छा क्या होगा कि नौ दिन हम देवी मां की पूजा और व्रत करके पुण्य कमाएंगे और डाइटिंग के जरिए वजन भी कम होगा। इससे मेरी फिटनेस भी बनी रहेगी। आमतौर पर डाइटिंग करने का मौका नहीं मिलता है।

-नवरात्र में लोग नौ दिन व्रत रखना जरूरी समझते हैं। जो लोग डायबिटीज या ब्लड प्रेशर के मरीज हैं उनको अपनी सेहत का ख्याल रखना होगा। हाइपोग्लाइसीमिया या हाइपरग्लाइसीमिया जैसी कंडीशन से बचने के लिए डाइट पर विशेष ध्यान देना जरूरी है।

डॉ। ओपी त्रिपाठी, फिजीशियन

-प्रेगनेंट लेडीज को हम व्रत रखने की छूट जरूर देते हैं लेकिन हिदायत के साथ। कमजोरी से बचने के लिए उन्हें दिन में कई बार फलाहार करना चाहिए। भले ही मात्रा कम हो लेकिन बॉडी को फिट रखने के लिए लिक्विड और फल व हरी सब्जियों का लेते रहना जरूरी है।

डॉ। सबिता अग्रवाल, स्त्री रोग विशेषज्ञ


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.