महीने भर में फीडिंग रूम पर लटका ताला

2018-12-21T06:01:13Z

RANCHI: डीसी ऑफि स में काम करने वाली और दूरदराज से आने वाली महिलाओं के लिए फीडिंग रूम बनाया गया है, जिसकी शुरुआत राज्य की कल्याण मंत्री लुईस मरांडी ने महीने भर पहले ही की थी। लेकिन एक महीने के अंदर ही इस फीडिंग रूम पर ताला लटक गया है। दिन में जिस समय महिलाएं कार्यालय में मौजूद रहती हैं उस समय ताला लगा रहता है। जबकि आईडीबीआई बैंक अपने सीएसआर फं ड के तहत इस स्तनपान कक्ष को डेवलप किया है। इसका मकसद है कि जो महिलाएं अपने बच्चों के साथ डीसी ऑफि स में आती हैं उनको अपने बच्चों को फ डिंग कराने में परेशानी नहीं हो, लेकिन यह मकसद पूरा होता नहीं दिख रहा है।

महिलाओं को लाभ नहीं

इस स्तनपान कक्ष को जिस मकसद से बनाया गया था उसका लाभ महिलाओं को नहीं मिल पा रहा है। फीडिंग रूम होने के बावजूद महिलाएं अपने बच्चों को वहां फ डिंग नहीं करा पा रही हैं। इसकी देखभाल जिला समाज कल्याण विभाग द्वारा की जा रही है। इस बारे में विभाग के अधिकारियों से बात की गई तो उन्होंने बताया कि ऐसा नहीं है फ डिंग रूम खुला रहता है। लेकिन जब कोई वहां उपस्थित नहीं रहता है उस समय ताला लगा दिया जाता है ताकि उसका मिसयूज नहीं किया जा सके।

हर सुविधा है मौजूद

इस फीडिंग रूम को बहुत ही अच्छे तरीके से बनाया गया है। यहां हर तरह की सुविधा उपलब्ध है। महिलाओं को अपने बच्चों को फीडिंग कराने के लिए बेड उपलब्ध है। बच्चों के खेलने की भी सुविधाएं हैं।

वर्जन

फीडिंग रूम महिलाओं की सुविधा के लिए बनाया गया है। इसका लाभ अगर उन्हें नहीं मिल पा रहा है तो इसके बारे में विभाग के अधिकारियों से बात की जाएगी।

राय महिमापत रे, डीसी रांची


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.