अभिरक्षा में मौत पर हत्या का मुकदमा

2018-11-24T06:00:31Z

आगरा। पुलिस अभिरक्षा में युवक को पीट-पीटकर मारने वाले पुलिसकर्मियों पर शुक्रवार को हत्या का मुकदमा दर्ज हो गया। इसमें युवक पर चोरी का आरोप लगाने वाले फैक्ट्री के दो मालिक भी शामिल हैं। प्रारंभिक जांच के बाद एसएसपी अमित पाठक ने इस मामले में प्रभारी इंस्पेक्टर ऋषिपाल सिंह समेत तीन को निलंबित कर दिया। सिकंदरा के गैलाना रोड स्थित नरेंद्र एन्क्लेव निवासी राजू गुप्ता की सिकंदरा थाने में पुलिस की पिटाई से गुरुवार को मौत हो गई थी। शुक्रवार को उसकी मां रेनू लता गुप्ता ने थाने में तहरीर दी। उनका आरोप है कि बेटे को कॉलोनी में रहने वाले अंशुल प्रताप सिंह और विवेक ने पकड़कर चोरी के आरोप में पीटा था। इसके बाद पुलिस को सौंप दिया। फिर पुलिसकर्मियों ने उससे मारपीट की। उन्होंने अज्ञात पुलिसकर्मियों और अधिकारियों के साथ अंशुल और विवेक पर हत्या का आरोप लगाया।

घटना की जांच करेगी लोहामंडी इंस्पेक्टर

साथ ही सुरक्षा दिलाने की मांग की। पुलिस ने महिला की तहरीर पर अज्ञात पुलिसकर्मियों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कर लिया। इसकी जांच लोहामंडी इंस्पेक्टर को दी गई है। एसएसपी अमित पाठक ने बताया कि इस मामले में सिकंदरा में तैनात प्रभारी इंस्पेक्टर ऋषिपाल सिंह, एसआइ अनुज सिरोही और एसआइ तेजवीर सिंह को निलंबित कर दिया गया है। सभी के खिलाफ विभागीय जांच चल रही है।

शासन को भेजी गई रिपोर्ट

पुलिस हिरासत में मौत के मामले में अधिकारियों ने गुरुवार को ही शासन को रिपोर्ट भेज दी। अधिकारियों को फोन पर भी अपडेट दिया जाता रहा।

मजिस्ट्रेटी जांच होगी

राजू की पुलिस हिरासत में मौत की विभागीय जांच के साथ मजिस्ट्रेटी जांच होगी। इसमें घटना से जुड़े लोगों के बयान भी दर्ज किए जाएंगे।

एसीएम प्रथम करेंगे जांच

डीएम एनजी रवि कुमार ने बताया कि पुलिस हिरासत में राजू की मौत की जांच के आदेश दिए गए हैं। एसीएम प्रथम संगम लाल मामले की जांच करेंगे।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.