जय श्री राम..से गूंजी नाथ नगरी, धू-धूकर जला रावण अहंकारी

Updated Date: Wed, 09 Oct 2019 06:00 AM (IST)

-शहर में जगह-जगह रावण, कुंभकरण और मेघनाद का हुआ पुतला दहन

-मेलों में बच्चों ने लिया झूले झूले तो बड़ों ने भी खूब किया इंज्वॉय

बरेली: अधर्म पर धर्म और असत्य पर सत्य की विजय का पर्व विजयादशमी का पर्व ट्यूजडे को शहर में धूमधाम से मनाया गया। शाम से रामलीला का मंचन किया जिसमें श्रीराम ने बुराई का प्रतीक रावण, कुंभकरण और मेघनाद का वध किया तो अहंकारी रावण के पुतलों का दहन किया। इस दौरान बच्चों शॉप्स पर मनपसंद खिलौने आदि खरीदकर इंज्वॉय किया। रात में जोगी नवादा रामलीला, कटरा चांद खां, सुभाषनगर और चौधरी तालाब रामलीला में रावण पुतला दहन किया गया।

हार्टमैन में लगा मेला

हार्टमैन कॉलेज मैदान में महारानी लक्ष्मीबाई रामलीला कमेटी और प्रशासन की तरफ से चौधरी तालाब रामलीला में भव्य दशहरा मेला लगाया गया। शाम होते ही मेले में दर्शकों की भीड़ उमड़ने लगी। देर शाम तक मेला ग्राउंड दर्शकों से फुल हो गया। बच्चों ने झूलों आदि का आनंद लिया तो महिलाएं और पुरुष अपनी जरूरत की सामान खरीदने में बिजी दिखे।

राम-रावण युद्ध देखने पहुंचे लोग

शाम को श्रीराम, सीता और लक्ष्मण के स्वरूप मेला प्रांगण में पहुंचे। जहां पर पूजन होने के बाद दो रथों पर मैदान के परिक्रमा की। एक रथ पर प्रभु श्री राम तो दूसरी तरफ रथ पर रावण और सेना थी। दोनों तरफ से युद्ध हुआ जिसमें राम ने रावण का वध किया, रावण के वध के कुंभकरण और मेघनाद के पुतलों का दहन किया गया। मेले में आतिशबाजी भी हुई। श्री राम स्वरूप पहुंच राम लक्ष्मण और सीता ने दर्शकों का मन मोह लिया।

-----

श्रीराम का हुआ राजतिलक

कटरा चांद खां में चल रही रामलीला में मंचन के दौरान 15वें दिन मंचन में राम और रावण का युद्ध दिखाया गया। जिसमें रावण ने आते ही राम की सेना के सैनिकों को मारकर मायावी युद्ध करने लगा। जिसमें राम लक्ष्मण भी चिंतित हो गए। लेकिन विभीषण ने सलाह दी कि रावण पर प्रहार करते हुए 31 तीर छोड़े जिससे उसके दस शीश और बीसों भुजाएं गिर गईं। जबकि 31वंा तीर अमृत वाली नाभि में लगा। जिससे वह धराशायी होकर जमीन पर गिर पड़ा। इसके बाद विभीषण का राजतिलक, भरत मिलाप और श्री राम का राजतिलक किया गया। इस मौके पर श्री रामलीला सर्व जाति समिति के महासचिव दिनेश दद्दा, उमेश कठेरिया, सूर्यकांत, सुरेश राठौर, ओम प्रकाश, अनिल गुप्ता, ज्ञानेश गुप्ता और पन्नी लाल आदि मौजूद रहे।

पुतलों पर लिखे स्लोगन

शहर में अलग-अलग स्थानों पर रावण, मेघनाद और कुंभकरण के पुतला तो सुबह से ही लगा दिए गए। जिन्हें देखने के लिए दर्शकों की भी भीड़ समय से पहुंचने लगी। इस बार रामलीला कमेटी की तरफ से लगाए गए पुतलों पर अवेयरनेस और मजाकिया स्लोगन भी लिखे गए। जिसमें रावण के पुतला पर लिखा कि आप सीसीटीवी की निगरानी में हो मेरे भईया बचाओअब मैं साइकिल चलाउंगा दो बूंद जिंदगी की नहीं ली तो देख लोग मेरा हाल इसी तरह के स्लोगन लिखे।

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.