सट्टेबाजी में चार युवकों को चाकुओं से गोदा एक की मौत

2018-05-30T06:00:11Z

-आईपीएल की सट्टेबाजी में रुपयों के लेनदेन में किया हमला

-तीन युवक हमले में गंभीर रूप से घायल

GORAKHPUR: पुलिस की लापरवाही से शहर में एक युवक की हत्या कर दी गई। आईपीएल की सट्टेबाजी में रुपयों के लेनदेन में एक युवक की चाकूओं से गोदकर हत्या कर दी गई। वहीं, तीन अन्य युवक हमले में गंभीर रूप से घायल हैं। घटना कैंट इलाके के गोपलापुर इलाके में सोमवार की रात हुई। सट्टेबाजी के रुपयों को लेकर कुछ युवकों में विवाद हो गया। इसमें मनबढ़ों ने चार युवकों को चाकू से गोद डाला। तीन तो गंभीर रुप से घायल हुए, लेकिन एक ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। घायलों को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस मामले की पड़ताल में जुट गई है।

सट्टेबाजी का पैसा के लेनदेन पर हुआ विवाद

रसूलपुर इलाके के रहने वाले अजय का बेटा अमन 22 वर्ष सोमवार की रात करीब 8 बजे गोपलापुर मोहल्ले में आईपीएल मैच के दौरान लगे सट्टे का पैसा मांगने अपने साथी सुजीत 23 वर्ष पुत्र बसन्त के घर पहुंचा। सुजीत के रुपए देने से इंकार करने पर दोनों के बीच विवाद हो गया। शोर सुनकर सुजीत के बड़े पिता रमाकांत का लडक़ा नितराज बाहर आया और दोनों को डांटकर वहां से भगा दिया। इसके बाद अमन और सुजीत एक अन्य साथी रोहित के घर के सामने विवाद करने लगे। हंगामा सुनकर लालचंद का बेटा रोहित और उसका भाई मुन्ना बीच बचाव करने पहुंच गए। इससे पहले अमन ने फोन कर अपने अन्य साथियों को बुला लिया।

साथियों को बुलाकर किया चाकू से हमला

रुपए न मिलने से अमन ने गुस्से में आकर चाकू से ताबड़तोड़ वार करने शुरू कर दिए। हमले के दौरान चाकू रोहित के गले मे बाईं ओर, सुजीत की आंख पर व दीपक व मुन्ना के कंधे पर लगी। हमले में गंभीर रूप से घायल रोहित की मेडिकल कॉलेज में इलाज के दौरान मौत हो गई है। वहीं, सुजीत का मेडिकल कॉलेज में इलाज चल रहा है। जबकि मुन्ना, दीपक को इलाज के बाद घर भेज दिया गया। इंस्पेक्टर कैंट मनोज पाठक ने बताया कि रोहित के घरवालों की तहरीर पर पुलिस ने अमन व उसके पिता अजय सहित पांच लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर आरोपियों की तलाश शुरू कर दी गई है। जल्द ही आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

पहले भी हुई घटनाएं, लेकिन मूकदर्शक बनी रही पुलिस

गौरतलब है कि आईपीएल मैच शुरू होते ही शहर में सट्टेबाजी का खेल जोरों पर चलने लगा, लेकिन हैरानी वाली बात तो यह है कि इस साल आईपीएल मैच के दौरान गोरखपुर पुलिस ने इसे गंभीरता से नहीं लिया। बीते वर्षो में पहली बार जिले में ऐसा हुआ कि करीब एक महीने के आईपीएल मैच के दौरान सट्टेबाजी पर किसी तरह का अंकुश लगा पाना तो दूर पुलिस ने कोई कार्रवाई तक नहीं की। ऐसे में एक बार फिर आईपीएल को लेकर एक युवक की जान चली गई। जबकि तीन गंभीर रुप से घायल हैं। हालांकि आईपीएल सट्टेबाजी को लेकर इस तरह की यह घटना शहर में पहली बार नहीं हुई। बल्कि इससे पहले भी 16 अप्रैल को गुलरिहा इलाके के हरसेवकपुर नंबर दो चौहान टोला में रविवार की रात एक बजे दावत कर रहे युवकों में आईपीएल सट्टेबाजी को लेकर विवाद हुआ था। इसमें एक युवक ने अपने ही दोस्त की गोली मारकर हत्या कर दी। सभी पार्टी करने के दौरान शराब के नशे में चूर थे। नशे में दोस्त को गोली मारने के बाद इलाज के लिए उसके साथियों ने ही कार से मेडिकल कॉलेज पहुंचाया। जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। जबकि वर्ष 2016 में कोतवाली इलाके में एक युवक ने जहर खाकर आत्महत्या कर ली थी। वहीं, सट्टेबाजी में रुपयों के लेनदेन में पहले भी कई बार विवाद की बात सामने आ चुकी है।

सट्टेबाजों पर कब-कब हुई कार्रवाई

- 29 मई 2016 को कैंट पुलिस ने जटाशंकर व बलदेव प्लाजा में छापामारी कर किया था सट्टाबाजी का भंडाफोड़

- 24 मई 2015 को कोतवाली पुलिस ने एक घर में छापेमारी कर चार सटोरियों को किया था गिरफ्तार

- 27 मई 2014 कोतवाली पुलिस ने पुर्दिलपुर मुहल्ले से सट्टेबाजी में छह युवकों को गिफ्तार किया था

- 29 मई 2014 को बलदेव प्लाजा से तीन युवकों को लाखों रुपए के साथ पुलिस ने किया था गिरफ्तार

Posted By: Inextlive

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.