लॉटरी के नाम पर 75 लाख का गेम

2019-02-21T06:01:12Z

ष्ट॥न्ढ्ढक्चन्स्न् : सदर प्रखंड अंतर्गत तुईबीर के सोसोहातु गांव में लॉटरी के नाम पर ग्रामीणों को ठगने का मामला प्रकाश में आया है। गांव के कुछ लोगों ने लाइम ड्रामी लॉटरी लक्की ड्रा, शिव मंदिर के नाम से एक समिति बनायी थी। समिति ने मंदिर के निर्माण की बात कहकर पूरे जिले में 217 एजेंटों की मदद से डेढ़ लाख रसीदें बेचीं थी। प्रति रसीद 50 रुपये मूल्य रखा गया था। इस हिसाब से करीब 75 लाख रुपये की लॉटरी बेची गयी है। लॉटरी लक्की ड्रा की तिथि 20 फरवरी को निर्धारित थी। ऐसे में काफी संख्या में लोग निधार्रित स्थल पर पहुंचे हुए थे। लेकिन, लाइम ड्रीम लॉटरी लक्की ड्रा समिति का कोई आदमी वहां मौजूद नहीं था। यह देखकर लॉटरी खरीदने वाले लोग आक्रोश में आ गए। इस दौरान समिति का अध्यक्ष मौके पर पहुंच गया। कुछ लोगों ने उसे पहचान लिया और घेर लिया और हंगामा मचाना शुरु कर दिया।

आश्वासन देने पर छोड़ा

लोगों के आक्रोश को देखकर अध्यक्ष ने आश्वासन दिया कि लक्की ड्रा जरूर होगा। किसी कारणवश 20 फरवरी को हम नहीं करा पाए हैं। इस पर लोगों ने तिथि निर्धारित करते हुए लिखित देने को कहा। उसने लिखित नहीं दिया मगर यह विश्वास दिलाया कि पांच मार्च को लक्की ड्रा किया जाएगा। इसके बाद लोग शांत हो गए मगर जाते-जाते चेतावनी दे गए कि अगर हम लोगों के साथ ठगी हुई तो किसी को छोड़ेंगे नहीं। मालूम हो कि लक्की ड्रा में सोनालिका ट्रैक्टर, छोटा हाथी, पल्सर-150, एक जोड़ा बैल, पैशन प्रो मोटरसाइकिल, स्कूटी, सोनी टीवी, हैवी ड्यूटी मोटरसाइकिल और 10 हजार रुपये का जियो मोबाइल जैसे आकर्षक पुरस्कार रखे गए थे।

आयोजकों का स्विच आफ था मोबाइल

लाइम ड्रामी लॉटरी लक्की ड्रा, शिव मंदिर नाम से काटी गयी रसीद में दिए गए फोन नंबर पर जब लोगों ने कॉल लगाया तो वह स्विच आफ बता रहा था। रसीद काटने के दौरान कुछ एजेंटों के नंबर भी लोगों को दिए गए थे। वे नंबर भी बंद थे। बाद में समिति अध्यक्ष का कहीं से नंबर मिलने पर उसे किसी तरह मौके पर बुलाया गया।

---------------------

217 एजेंटों के माध्यम से बेची रसीदें (बाक्स)

समिति ने रसीद काटने के लिए करीब 217 एजेंटों को नियुक्त किया था। ये एजेंट लगातार तीन-चार माह तक जिले भर में घूम-घूमकर 50 रुपये मूल्य की रसीद काटकर पैसा जमा कर रहे थे। इसके एवज में हर एजेंट को 1000-1200 रुपये का भुगतान किया गया। समिति अध्यक्ष के पास भुगतान का कोई लिखित प्रमाण नहीं है। इस संबंध में अभी तक स्थानीय थाना में किसी तरह की शिकायत दर्ज नहीं करायी गयी है।

पुरस्कार में दिखाया था क्या-क्या सब्जबाग (बाक्स)

सोनालिका ट्रैक्टर

छोटा हाथी

पल्सर-150

एक जोड़ा बैल

मोटरसाइकिल

स्कूटी

सोनी टीवी

हैवी ड्यूटी मोटरसाइकिल

10 हजार का मोबाइल


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.