शादी में मुफ्त की दावत है पुराना ट्रेंड

Updated Date: Thu, 25 Apr 2019 06:00 AM (IST)

रात में भूख लगती है तो मैरिज हाल में घुसकर खाते हैं हास्टल के छात्र

यूनिवर्सिटी रोड पर जितने भी गेस्ट हाऊस, वहां रखी जाती है एक्स्ट्रा प्लेट

1द्बद्मड्डह्यद्ध.द्दह्वश्चह्लड्ड@द्बठ्ठद्ग3ह्ल.ष्श्र.द्बठ्ठ

क्कक्त्रन्ङ्घन्द्दक्त्रन्छ्व: हास्टल में रहने वाले छात्रों की फौज की मौज ही अलग होती है. अपनी स्टाईल में रहना और छात्र जीवन को अपने ही अंदाज में एंज्वाय करने का अंदाज निराला होता है. इस मौज मस्ती भरे माहौल में कुछ ऐसी चीजें भी हो जाया करती हैं जो कई सारे सवाल भी खड़ा करती हैं. 15 अप्रैल की रात बैंक रोड के एक गेस्ट हाऊस में भी कुछ ऐसा ही हुआ था. जिसके बाद छात्रों को अपने मनमौजी स्वभाव का खामियाजा भुगतना पड़ा.

मौज मस्ती में पड़ गई खलल

बैंक रोड स्थित गेस्ट हाऊस में सोमवार की रात शादी समारोह के दिन बारातियों और डॉ. ताराचन्द छात्रावास के लड़कों में झगड़ा हो गया था. पुलिस ने जैसे तैसे मामला शांत करवाया. घटना के बाद पुलिस ने 150 छात्रों पर मुकदमा दर्ज किया था और देर रात 16 छात्रों को हिरासत में भी ले लिया. घटना की जो वजह बताई गई. वह थोड़ा चौकाने वाली भी थी. बताया गया कि हास्टल के छात्र शादी समारोह में मुफ्त का खाना खाने पहुंचे थे. उन्होंने एक लड़की से बदसलूकी कर दी. जिसके बाद बवाल खड़ा हो गया. हालांकि, हास्टल के छात्र इससे इंकार करते रहे.

हास्टल में मेस की हालत अच्छी नहीं

पुलिस का मानना है कि शादी समारोह में घुसकर खाने-पीने और मौज लेने का ट्रेंड इसलिए भी है, क्योंकि हॉस्टल्स में मेस की फैसेलिटी अच्छी नहीं है. रात में एक टाइम के भोजन के लिए छात्रों का समूह समारोह में जाकर फ्री में खाना उड़ाने को ही अच्छा विकल्प मान लेता है. नाम ना छापने की शर्त पर कुछ छात्रों से जब इस मसले पर बात की गई तो उन्होंने चौकाने वाली जानकारी दी.

..तो वह रात हो जाती है पार्टी नाइट

छात्रों ने बताया कि यूनिवर्सिटी रोड और कटरा में जितने भी मैरिज हाल हैं. शादी सीजन में वहां केवल बाराती या लड़की पक्ष के ही लोग नहीं पहुंचते. छात्र भी शामिल होते हैं. गेस्ट हाऊस में खाने पीने की जिम्मेदारी संभालने वाले 50 से 100 प्लेट एक्स्ट्रा रखकर ही चलते हैं. उन्हें कांफिडेंस होता है कि छात्रों का कोई न कोई समूह दावत उड़ाने पहुंचेगा ही. कुछ छात्र मुस्किया कर बताते हैं कि हास्टल के छात्रों से कोई पंगा लेना नहीं चाहता. ऐसे में उन्हें कोई रोकता टोकता भी नहीं है. ज्यादातर जूनियर छात्रों के लिए यूनिवर्सिटी इलाके में कोई वैवाहिक कार्यक्रम उस रात पार्टी नाइट की तरह होता है.

Posted By: Vijay Pandey
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.