चार दिनों से गायब हैं गुड्डू

2014-09-19T07:00:05Z

- जिले के बाहर खूब बनाई है बदमाशों में पैठ

- बंटी उर्फ अजीत के पकड़े जाने पर खुला राज

GORAKHPUR : चरगांवा के पूर्व ब्लॉक प्रमुख के पति, ईट भट्ठा बिजनेसमैन महेंद्र पाल सिंह से रंगदारी मांगने की योजना झुगियां में गढ़ी गई। मेडिकल कॉलेज के सामने दवा की दुकानों पर बैठने वाले गुड्डू ने इसमें अहम भूमिका निभाई। गुड्डू चार दिनों से लापता है। गोरखपुर जिले के बाहर एक्टिव रहने वाले गुड्डू की पुलिस ने तलाश शुरू कर दी है, लेकिन गलत नाम, पता बताकर वह फिर से पुलिस को चकमा देने में लगा है।

ईट भट्ठा कारोबारी के करीबियों में मची खलबली

गाजीपुर के मरहद एरिया में वेंस्डे को पकड़े गए बंटी उर्फ अजीत ने कई राज खोले हैं। पुलिस ने दावा किया उसने पूर्व ब्लॉक प्रमुख के पति महेंद्र पाल सिंह से रंगदारी की बात कबूल की है। उसने दक्षिणांचल के डॉक्टर आनंद जायसवाल से रंगदारी मांगी थी। बंटी ने पुलिस को बताया है कि गोरखपुर में उसके मददगार वीरेंद्र उर्फ गुड्डू और धर्मेद्र हैं जो उसको पनाह देते रहे। बंटी ने एक पूर्व ब्लॉक प्रमुख के पति के बेहद करीबी व्यक्ति का नाम रंगदारी में पुलिस को बताया है। हालांकि उसने उस करीबी का पता सोनौली का बताया है, लेकिन नाम को लेकर कंफ्यूज पुलिस ने चरगांवा ब्लॉक में रहने वाले व्यक्ति पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। पुलिस की कार्रवाई से प्रमुख के कई करीबी भी परेशान हो गए हैं।

चार दिनों से नजर नहीं आ रहा गुड्डू

रंगदारी मांगने के मामले में गुड्डू का नाम सामने आने से मेडिकल कॉलेज में चर्चा रही। खुलासे में पुलिस ने बताया है कि मेडिकल कॉलेज के चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी गुड्डू के कहने पर बंटी ने वारदात की, लेकिन वहां लोगों ने बताया कि जिस गुड्डू का नाम सामने आया है कि वह मेडिकल कॉलेज के पास एक गांव का रहने वाला है। वह अक्सर मेडिकल कालेज के सामने दवा की दुकानों पर बैठता है। लेकिन चार-पांच दिनों से नजर नहीं आ रहा है। वह गोरखपुर के बजाय इलाहाबाद, आजमगढ़, गाजीपुर सहित कई जगहों पर एक्टिव रहता है।

डॉक्टर ठक्कर के अपहरण की बनाई थी योजना

झुगियां से जुड़ा गुड्डू पूर्वाचल के बदमाशों में अच्छी पैठ रखता है। सूत्रों का कहना है कि कुशीनगर के कसया निवासी कमोदमणि और बेतिया के राजेश यादव के साथ मिलकर मेडिकल कॉलेज के डॉक्टर एके ठक्क्र के अपहरण की योजना बनाई, लेकिन दोस्तों के बीच फुटव्वल होने से वह कामयाब नहीं हो सके। राजेश यादव बेतिया की जेल में बंद है। बताया जाता है कि वर्ष ख्008 में सीबी मद्धेशिया के अपहरण में भी गुड्डू से जुड़े कुछ लोगों का नाम सामने आया था। पुलिस सूत्रों का कहना है कि बदमाशों के साथ अच्छी पैठ रखने वाला गुड्डू अक्सर लोगों को दावत देता है। महेंद्र पाल सिंह के करीबी पर इसी गुड्डू से मिलकर रंगदारी मांगने की साजिश का आरोप है, लेकिन इस मामले की जांच पड़ताल अब थानों की पुलिस करेगी। एसटीएफ से जुड़े लोगों का कहना है कि बंटी यादव से जुड़े लोगों पर शिकंजा कसा जाएगा। इसके लिए जिला पुलिस को जिम्मेदारी सौंपी गई है।

गोरखपुर में गहरी पैठ बना चुका है शातिर बंटी

पुलिस का कहना है कि गाजीपुर के मरहद थाना क्षेत्र का अजीत यादव उर्फ बंटी यादव काफी दिनों से गोरखपुर में एक्टिव है। शाहपुर, चिलुआताल और गुलरिहा एरिया में उसने कुछ प्रॉपर्टी डीलर्स से संपर्क साध लिया है। प्रॉपर्टी डीलर्स की राह में रोड़ा बनने वालों को सबक सिखाने का वह ठेका ले रहा है। गुड्डू और धर्मेद्र के कहने पर बंटी ने गुलरिहा के बहादुर चौहान पर गोली दागी थी। बंटी यादव के खिलाफ गोरखपुर, आजमगढ़, गाजीपुर मऊ, लखनऊ में हत्या, हत्या के प्रयास, गुंडा गैंगस्टर, समेत ख्फ् मुकदमे दर्ज हैं। ख्9 मई ख्0क्फ् को लखनऊ में माज अहमद की हत्या के मामले में वह पकड़ा गया बंटी। जनवरी ख्0क्ब् को बलिया में पेशी के दौरान भाग गया।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.