डीपीएस में ग्लोबल सिटीजन पर वर्कशॉप

2018-12-19T06:01:08Z

RANCHI: दिल्ली पब्लिक स्कूल रांची ने ग्लोबल सिटीजन बनाने के लक्ष्यों पर शिक्षकों के लिए एक कार्यशाला का आयोजन किया। ए.एफ.एस(एक अंतरराष्ट्रीय संगठन जो दुनियाभर में अंतर सांस्कृतिक विनिमय कार्यक्रम को बढ़ावा देता है) से सरिता बाधवार जो एक राष्ट्रीय योग्य प्रशिक्षक हैं इस कार्यशाला की रिसोर्स पर्सन थीं।

आइस ब्रेकिंग सेशन

कार्यशाला की शुरुआत में एस्केलेटर डेटिंग के रूप में एक दिलचस्प आइस ब्रेकिंग सत्र शुरू हुआ। शिक्षक नागरिकों को पोषित करने में बच्चों को शिक्षित करने में और अधिक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। कार्यशाला में शिक्षकों को इंटर सांस्कृतिक संबंध, व्यक्तिगत संबंध और वैश्रि्वक संबंध के बारे में जानकारी दी गई। कई मुद्दे उठाए गए जो विद्यार्थियों के टिकाऊ विकास का महत्व रखते हैं और हम अन्य देशों की संस्कृति और परंपरा कैसे सीख सकते हैं ताकि हम सही तरीके से वैश्रि्वक नागरिक कह सकें।

कार्यशाला का क्या है उद्देश्य

इस कार्यशाला का मुख्य उद्देश्य शिक्षकों को छात्रों में वैश्रि्वक क्षमता बढ़ाने की बारीकियों को सक्षम करना था। इसने संस्कृति की वास्तविक परिभाषा के साथ भी निपटाया क्योंकि यह संस्कृति है जो व्यक्ति को अपनी पहचान देती है। सभा के संबोधन के दौरान स्कूल के प्रिंसिपल डॉ। राम सिंह ने कहा कि आज के युग में हमें अपने बच्चों को अच्छे वैश्रि्वक नागरिक बनने के लिए शिक्षित करने की जरूरत है। उन्होंने यह भी कहा कि यहां डीपीएस में हम हमेशा दुनियाभर से सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने की कोशिश करते हैं ताकि हम दुनिया में सर्वश्रेष्ठ उत्पादन कर सकें। कार्यशाला के अंत में शिक्षकों ने कहा कि वे अब बच्चों को प्रशिक्षित करने के लिए सुसच्जित हो गए हैं। यह एक बहुत समृद्ध सत्र था जो दुनिया को निश्चित रूप से शिक्षकों को आत्मविश्वास और अच्छी तरह से समझने में मदद करने के लिए एक लंबा रास्ता तय करता है, जो छात्रों को विश्व स्तर पर समृद्ध और स्वीकार्य छात्रों की सहायता के लिए पर्याप्त है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.