गूगल का 'स्‍मार्ट कांटेक्‍ट लेंस' अब लांचिंग से सिर्फ एक कदम दूर

2014-07-16T12:30:00Z

गूगल का नाम अभी तक सर्च इंजन के तौर पर सबसे ऊपर देखा जाता है लेकिन जल्‍द ही यह एक ऐसा प्रोडक्‍ट लांच करने वाला है जो आपके लिये सपने किसी सपने से कम नहीं आइये जानते हैं इस ड्रीम प्रोजेक्‍ट के बारे में

मेडिकल में मिलेगा फायदा
गूगल द्वारा बनाये जा रहे सेंसर पैक्ड कांटेक्ट लेंस अब सिर्फ सपना नहीं हैं. अभी तक यह फ्यूचर प्रोडक्ट के तौर पर देखा जाता था, लेकिन फाइनली गूगल ने मंगलवार को 'नोवर्टिस'कंपनी के साथ हुई पार्टनरशिप को एनाउंस कर दिया है. इसके साथ ही स्विस फॉर्मास्यूटिकल कंपनी का कहना है कि इसमें गूगल के ही स्मार्ट लेंस की टेक्नोलॉजी का यूज किया जायेगा. यह इंटेलीजेंट कांटेक्ट लेंस का मेन यूज मेडिकल में ज्यादा होगा. यह लेंस डायबिटीज पेशेंट के लिये ज्यादा फायदेमंद साबित हो सकेगा. यह पेशेंट की आंख से ग्लूकोज लेवल को रेगुलर अपडेट करता रहेगा. स्मार्ट लेंस द्वारा ली गई इन्फारमेशन को स्मार्टफोन के जरिये ट्रांसमीट कर सकते हैं.


जीवन को बनाना है बेहतर

गूगल द्वारा तैयार किया जा रहा यह स्मार्ट लेंस काफी संख्या में लोगों को प्रभावित करेगा. यह एक मेडिकल टूल की तरह यूज किया जा सकेगा. गूगल के को-फाउंडर सेर्जी ब्रिन का कहना है कि हमारा सपना है कि हम टेक्नोलॉजी का सही इस्तेमाल करके लोगों की लाईफ को और आसान बना सके. हमारी कोशिश है कि उनके जीवन की गुणवत्ता को और अधिक इंप्रूव कर सकें. हम इस सपने को साकार करने के लिये बहुत ज्यादा एक्साइटेड हैं. इसके लिये हमने नोवार्टिस के साथ यह काम जल्द से जल्द पूरा करना चाहते हैं.
कई और मैदान में
गूगल एक्स के रिसर्चर परवेज जो कि गूगल ग्लास के लीड डेवलेपमेंट रहे हैं. हालांकि वे इस कंपनी को छोड़कर अमेजन के पास चले गये. गौरतलब है कि गूगल का इस प्रोजेक्ट पर एकाधिकार है लेकिन हम यह एस्यूम कर सकते हैं कि परवेज भी इस जैसे किसी प्रोजेक्अ पर काम कर सकते हैं. माइक्रोसाफ्ट ने कुछ साल पहले परवेज की मदद से इस टेक्नोलॉजी को डेवलप किया था. फिर भी गूगल पहली कंपनी होगी जो इस टेक्नोलॉजी को वास्तव में मार्केट में लांच करेगी.



This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.