यहां लगी आग तो सब हो जाएगा खाक!

2019-12-10T05:45:33Z

-आगजनी की घटना के बाद जागता है विभाग, होटलों के किचन में नहीं हैं अग्निशमन यंत्र

GORAKHPUR: गोरखपुर में अगर थोड़ी भी आग लग जाए तो सबकुछ जलकर खाक हो जाएगा। यहां की कुछ फैक्ट्रियों और अधिकांश होटलों के पास न एनओसी है और न पर्याप्त फायर सिस्टम। शहर का प्रशासन इस तरह के हादसों के प्रति कितना गंभीर है यह इस बात से समझा जा सकता है कि अग्निशमन विभाग के पास तो शहर में होटल व मैरेज हाउस का पूरा ब्यौरा तक नहीं हैं। जानकारों के मुताबिक, करीब 50 फीसदी होटल संचालकों ने एनओसी नहीं लिया है। पर्यटन विभाग के मुताबिक, इसे लेकर सभी होटलों, रेस्टोरेंट और मैरेज हाउस में फायर सेफ्टी मानक के लिए मॉक ड्रिल कराने के लिए पत्र भी लिखा गया है। लेकिन इनका पालन अब तक नहीं किया गया है।

आसपास की आबादी को खतरा

गीडा सेक्टर में करीब 30 से अधिक और गोरखनाथ एरिया में करीब 20 फैक्ट्रियां संचालित हैं। हालांकि दशक पहले यह एरिया आबादी से अलग था। औद्योगिक एरिया के आसपास स्कूल से लेकर मकान आबाद हो गए हैं। इससे आए दिन खतरा बना रहता है। यदि गीडा के फैक्ट्रियों की बात की जाए तो यहां आग से बड़ी घटनाएं हो चुकी है। शहर के चुनिंदा होटल को छोड़ दिया जाए तो बचे होटल, रेस्टोरेंट, मैरेजहाल में अग्निशमन यत्र नहीं हैं।

फायर स्टेशन है कम

सीएफओ डीके सिंह ने बताया कि सिटी की आबादी बढ़ती जा रही हैं। इलाके की गलियां सकरी होती जा रही है। मैनपावर के साथ संसाधन भी सीमित हैं। फायर स्टेशन कम हैं चार नए और बढ़ाए जा रहे हैं। फायर ब्रिगेड के पास अब सकरी गलियों में जाने के लिए छोटे वाहन आ चुके हैं। आग लगने की सूचना पर मौके पर टीम पहुंचती है लेकिन कुछ जगहों पर काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

अग्निशमन विभाग चलाएगी सघ्ान अभियान

दिल्ली में हुई आगजनी की घटना को लेकर अग्निशमन विभाग पूरी तरह से अलर्ट पर है। अब अवैध तरीके से फैक्ट्रियां चलाने वालों में अंकुश लगाने के मूड में हैं। इसलिए सघन अभियान चलाने जा रही है। यदि इस दौरान कोई भी पकड़ा जाता है तो उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई के साथ फै क्ट्री को सील कर दिया जाएगा।

-----------------

शहर में होटल की संख्या--500

मैरेज हाउस--135

छोटी- बड़ी फैक्ट्रियां--20

----------------

गीडा एरिया में हो चुकी है बड़ी घटनाएं

-गीडा स्थित प्लावुड फैक्ट्री में आग से लाखों की क्षति

-तीन साल पहले गीडा स्थित एआरपी हवाई चपल की फैक्ट्री में लगी आग।

-चार माह पहले सिटी मॉल में कपड़े के शोरूम में लगी आग

-रामगढ़ताल एरिया स्थित होटल में शार्ट सर्किट से आग लगी।

--------------

विभाग के पास क्या है संसाधन

-एमएफवी टाइप बी छोटा--03

-वोटर टेंडर--04

-हाइड्रोलिक प्लेटफार्म-01

-वाटर मिस्ट हाईप्रेशर-01

-मुख्य शमन अधिकारी -01

-दरोगा-01

-फायरमैन--15

-फायर सर्विस चालक-14

-फायरमैन--58

-------------------

अगर आग लगे तो कैसे बचें

-आग लगने की फौरन 101 नंबर पर कॉल करें

-आग लगने पर बिल्डिंग के फायर सेफ्टी अलार्म को एक्टिव करें

-आग लगने पर लिफ्ट का यूज न करें, सीढि़यों का यूज करें

-धूएं से घिरे होने पर अपने नाक ओर मुंह को गीले कपड़े से ढके

--------------

साल भर में आग की घटनाएं गोरखपुर टोटल करीब -650

-आग से सालना नुकसान करीब -100 करोड़

-------------------

शहर में सिर्फ चार फायर स्टेशन

-गीडा

-गोला

-गोरखपुर सिटी

-बड़हलगंज

नोट-चार नए फायर स्टेशन बनाए जा रहे हैं।

---------------

---------------

वर्जन

दिल्ली में आगजनी की घटना को लेकर जल्द अभियान चलाया जाएगा। साथ ही अवैध तरीके से फैक्ट्री चलाने वालों और शहर में जिन्होंने एनओसी नहीं ली है। उन होटल, रेस्टोरेंट आदि के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

डीके सिंह, सीएफओ

Posted By: Inextlive

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.