नीली वर्दी वाले 'कमांडो' संभालेंगे ट्रैफिक मैनेजमेंट

2018-11-14T06:00:37Z

- एनजीओ की मदद से मंगलवार को हुई तैनाती

- एनसीसी के ट्रेनर ने कराई 60 दिनों की ट्रेनिंग

GORAKHPUR: शहर की ट्रैफिक व्यवस्था को सुधारने के लिए ट्रेंड वालंटियर्स को तैनात किया गया है। जाम से निपटने के लिए 25 ब्लू कलर वर्दी पहने वालंटियर्स चौराहों पर नजर आएंगे। मंगलवार को एसपी ट्रैफिक आदित्य प्रकाश वर्मा ने वालंटियर्स को फील्ड में रवाना किया। एनजीओ की ओर से नियुक्त वालंटियर्स रोजाना ट्रैफिक पुलिस कर्मचारियों संग चौराहों पर मौजूद रहेंगे। जाम वाली जगहों पर इनकी ड्यूटी लगाई जाएगी। एसपी ट्रैफिक ने बताया कि इस व्यवस्था से ट्रैफिक के हालात सुधरेंगे। साथ ही पब्लिक के बीच अलग वर्दी पहने युवकों की टोली जागरुकता के लिए कैंपेन भी चलाएगी।

ट्रैफिक संभालने में छूट रहा पसीना

बेतरतीब ट्रैफिक व्यवस्था को सुधारने के लिए पुलिस अधिकारी काम कर रहे हैं। इसी व्यवस्था के तहत वालंटियर्स की मदद ली जा रही है। एक एनजीओ ने शहर में यातायात के सुचारू संचालन के लिए अपनी तरफ से 25 वालंटियर्स दिए हैं। नीली वर्दी पहने युवकों को ब्लू कमांडो का नाम दिया गया है। एनसीसी के ट्रेनर उदय प्रताप मिश्र और आदित्य कुमार ने युवकों को 60 दिन की ट्रेनिंग देकर तैयार किया है। इनका सारा खर्च एनजीओ वहन करेगा। दो माह बाद वालंटियर्स को वेतन भी दिया जाएगा। वालंटियर्स का पूरा फोकस सोमवारी जाम से निपटने पर भी रहेगा।

यह होगा फायदा

कमांडो की तरह वर्दी पहने वालंटियर्स पुलिस से अलग नजर आ रहे हैं।

चौराहों और तिराहों पर इनकी मदद से ट्रैफिक कंट्रोल किया जाएगा।

चौराहों-तिराहों पर वालंटियर्स लोगों को ट्रैफिक नियमों की जानकारी देंगे।

शहर में कहीं पर आपातकाल स्थिति में इनकी मदद ली जा सकेगी।

ट्रैफिक मैनेजमेंट की खामियों को चिन्हित कराकर वालंटियर्स सुधार में सहयोग करेंगे।

वर्जन

शहर में ट्रैफिक व्यवस्था सुधारने के लिए काम किया जा रहा है। इसलिए एनजीओ की मदद से वालंटियर्स का सहयोग लिया जाएगा। ट्रैफिक पुलिस के साथ मिलकर वालंटियर्स काम करेंगे।

- आदित्य प्रकाश वर्मा, एसपी ट्रैफिक

Posted By: Inextlive

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.