तो कैसे ओडीएफ होगा जिला

2018-06-08T06:00:17Z

-अनिश्चितकालीन हड़ताल पर गए जिले के ग्राम पंचायत व विकास अधिकारी

-कई जरूरी योजनाओं को लगा ब्रेक, प्रशासनिक अधिकारियों में मचा हड़कंप

ALLAHABAD: जिले के सैकड़ों ग्राम पंचायत व ग्राम विकास अधिकारियों के हड़ताल पर चले जाने से सरकार की तमाम योजनाओं पर ब्रेक लगने लगा है। खासकर ओडीएफ पर पूर्णविराम लग गया है। दो अक्टूबर तक शासन ने जिले को पूरी तरह खुले में शौचमुक्त करने का संकल्प लिया है, जो इस आंदोलन की भेंट चढ़ने लगा है। गुरुवार को भारी संख्या में अधिकारियों ने अपनी मांगों को लेकर विकास भवन परिसर में दिनभर आंदोलन किया।

अभी तक 19 ब्लॉक बाकी

समय कम है और काम बहुत ज्यादा है। वर्तमान में जिले का केवल चाका ब्लॉक पूर्ण ओडीएफ बनने को अग्रसर है। बाकी 19 ब्लॉकों में युद्धस्तर पर काम होना है। ऐसे में ग्राम विकास व पंचायत अधिकारियों की हड़ताल से प्रशासनिक अधिकारियों के खेमे में हड़कंप मच गया है। शौचालय निर्माण से लेकर उसके सत्यापन और कम्प्यूटर पर अपलोडिंग का काम इन्हीं अधिकारियों के भरोसे होता है।

फिलहाल करना होगा इंतजार

इसके अलावा जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र का सत्यापन सहित वृद्धा और विधवा पेंशन आदि योजनाओं पर भी ब्रेक लग गया है। इनके सत्यापन काम हड़ताल के चलते रुका हुआ है। ऐसे में लाभार्थी तहसीलों के चक्कर काटकर वापस लौट रहे हैं। हड़ताल के दूसरे दिन कुछ लाभार्थियों ने विकास भवन में भी दस्तक दी लेकिन सुनवाई नही हुई। अगर हड़ताल लंबे समय तक चली तो विकास भवन पर जनता का रेला उमड़ सकता है।

यह हैं तीन मांगें

-ग्राम पंचायत व ग्राम विकास अधिकारी की शैक्षिक योग्यता को इंटर की जगह स्नातक व कम्प्यूटर सीसीसी प्रमाण पत्र की जगह ओ लेवल किया जाए।

-सातवें वेतन आयेाग की मैट्रिक्स के सापेक्ष लेवल पांच पर प्रारंभिक मूल वेतन 29200 रुपए प्रदान किया जाए।

-दस, 16 और 26 वर्ष पर प्रोन्नति प्रदान की जाए। प्रोन्नति नही दे पाने से इन वर्षो पर पद के सापेक्ष वेतन एसीपी की अनुमन्यता से प्रदान किया जाए।

वर्जन

कुल 350 अधिकारी इस हड़ताल में शामिल हैं। हमारी मांगों पर सरकार द्वारा ध्यान नही दिए जाने से ग्राम विकास व पंचायत अधिकारी नाराज हैं। हमने पूरी तरह से कामकाम ठप कर दिया है।

-सुनील सिंह, जिला मंत्री समन्वय समिति इलाहाबाद

सबसे पहले ओडीएफ योजना का काम बंद हो गया है। इसके अलावा तमाम प्रमाण पत्रों का सत्यापन व विकास योजनाओं पर लगा ब्रेक तभी हटेगा जब हम काम पर लौटेंगे।

-आलोक कुमार, जिला संयोजक, समन्वय समिति इलाहाबाद


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.