आज ही पैदा हुआ था वो गेंदबाज जो मैदान में तोड़ता था बल्लेबाजों की हड्डियां बाउंड्री पर लगानी पड़ती थी पुलिस

2018-11-14T13:33:33Z

क्रिकेट जगत में एेसे कर्इ खिलाड़ी हैं जो अपने अनोखे खेल को लेकर चर्चा में रहे। एेसे ही एक खिलाड़ी हैं पूर्व इंग्लिश क्रिकेटर हेराल्ड लाॅरवुड जिन्हें बल्लेबाजों की हड्डियां तोड़ने के लिए जाना जाता था। आइए आज उनके जन्मदिन पर जानें उनके करियर से जुड़ी रोचक बातें।

कानपुर। 14 नवंबर 1904 को इंग्लैंड में जन्में पूर्व इंग्लिश क्रिकेटर हेराॅल्ड लाॅरवुड क्रिकेट की दुनिया के सबसे विवादित क्रिकेटरों में गिने जाते हैं। साल 1933 में आॅस्ट्रेलिया बनाम इंग्लैंड के बीच खेले गर्इ एक टेस्ट सीरीज में हेराॅल्ड अपनी घातक गेंदबाजी के चलते सुर्खियों में रहे। उस सीरीज में हेराॅल्ड ने डाॅन ब्रैडमैन जैसे बल्लेबाजों को घुटने पर ला दिया था। यह सबकुछ हुआ था उनकी गेंदबाजी के नए तरीके से। जी हां हेराॅल्ड ने उस वक्त दुनिया को दिखाया कि 'बाॅडीलाइन' गेंदबाजी क्या होती है जिसके आगे ब्रैडमैन जैसा बल्लेबाज भी बेबस नजर आया।

बाॅडीलाइन' गेंदबाजी बनी नया हथियार
दिसंबर 1932 में इंग्लिश टीम पांच मैचों की टेस्ट सीरीज खेलने आॅस्ट्रेलिया गर्इ थी। उस वक्त इंग्लिश टीम के कप्तान डगलस जार्डिन थे। डगलस यह सीरीज हर हाल में जीतना चाहते थे। एेसे में वह नए हथियार के साथ मैदान में उतरे, जिसे 'बाॅडीलाइन' के नाम से जाना जाता है। इस सीरीज से पहले एशेज में आॅस्ट्रेलियार्इ बल्लेबाज डाॅन ब्रैडमैन ने इंग्लिश गेंदबाजों की खूब धुनार्इ की थी। उस वक्त ब्रैडमैन ने एक सीरीज में 974 रन ठोंक दिए थे। डगलस चाहते थे कि आॅस्ट्रेलिया दौरे पर ब्रैडमैन इस प्रदर्शन को न दोहरा पाएं, एेसे में उन्होंने अपने गेंदबाज हेराॅल्ड लाॅरवुड के साथ ब्रैडमैन को आउट करने की प्लाॅनिंग बनार्इ। डगलस को पता था हेराॅल्ड काफी तेज गेंदबाज हैं आैर वह अगर 'बाॅडीलाइन' गेंदबाजी करेंगे तो विपक्षी बल्लेबाज पिच पर टिक नहीं पाएंगे।
बाउंड्री पर तैनात की गर्इ फोर्स
दोनों टीमें एडीलेड आेवल में मैच खेलने उतरीं। स्टेडियम में करीब 50 हजार दर्शक मैच देखने आए थे। आॅस्ट्रेलिया ने टाॅस जीतकर पहले बैटिंग का निर्णय लिया। कंगारु कप्तान बिल वुडफुल अभी कुछ गेंदें ही खेले थे लाॅरवुड की एक गेंद उनके शरीर पर आकर लगी जिसके बाद वह लड़खड़ा कर जमीन पर गिर गए। करीब तीन मिनट तक खेल रुका रहा। मगर बिल ने हिम्मत नहीं हारी आैर दोबारा खड़े होकर लाॅरवुड का सामना किया। इस पूरे वाक्ये के बाद इंग्लिश कप्तान ने न सिर्फ हेराॅल्ड को शाबाशी दी बल्कि अगली गेंद के लिए 'बाॅडीलाइन' फील्डिंग भी लगा दी। इसके बाद लाॅरवुड लगातार आॅस्ट्रेलियार्इ बल्लेबाजों के सामने बाॅडीलाइन गेंदबाजी करते रहे। अपने देश के बल्लेबाजों को परेशान होता देख एडीलेड के दर्शक गुस्से में आ गए। मैदान में हूटिंग शुरु हो गर्इ। लाॅरवुड की सुरक्षा के लिए बाउंड्री लाइन पर पुलिस फोर्स तैनात कर दी गर्इ।
बल्लेबाज की टूटी पसलियां
मैच के दूसरे दिन भी लाॅरवुड ने अपनी घातक गेंदबाजी जारी रखी। हद तो तब हो गर्इ जब लाॅरवुड की एक गेंद आॅस्ट्रेलियार्इ बल्लेबाज आेल्डफील्ड के पसलियों पर जाकर लगी। गेंद इतनी तेज थी कि बल्लेबाज की पसलियां टूट गर्इं थीं। इसके बाद तो मानो आॅस्ट्रेलियार्इ दर्शक बेकाबू हो गए फिर लाॅरवुड को सुरक्षाकर्मियों ने मैदान से बाहर निकाला। क्रिकेट बाइबिल मानी जाने वाली 'विस्डन' मैग्जीन ने इसे क्रिकेट इतिहास का सबसे डरावना टेस्ट मैच कहा था। लाॅरवुड ने पांच मैचों की इस सीरीज में कुल 33 विकेट चटकाए थे। यही नहीं 20 बल्लेबाजों को तो उन्होंने डक आउट किया। वहीं महान बल्लेबाज डाॅन ब्रैडमैन आठ पारियों में चार बार लाॅरवुड का ही शिकार बने।
क्या होती है बाॅडीलाइन गेंदबाजी
आम तौर पर गेंदबाज विकेट के सामने या बल्लेबाज के आॅफ स्टंप के बाहर गेंद फेंकता है मगर बाॅडीलाइन गेंदबाजी इससे बिल्कुल अलग होती है। इसमें गेंदबाज बल्लेबाज के शरीर को निशाना बनाकर गेंद फेंकता है। इसमें या तो बल्लेबाज को झुकना पड़ता है जिससे चोटिल होने का खतरा रहता है। वहीं अगर वह शाॅट खेलता है तो कैच अाउट होने के पूरे चांस रहते हैं। इंटरनेशनल क्रिकेट में इस गेंद को लीगल माना जाता है आैर लाॅरवुड ने उस वक्त इसका खूब फायदा उठाया।

माफी नहीं मांगने पर हुए टीम से बाहर

आॅस्ट्रेलिया के खिलाफ लाॅरवुड ने भले ही घातक गेंदबाजी की मगर इंग्लैंड के लिए वह ज्यादा समय तक नहीं खेल सके। लाॅरवुड ने सिर्फ 21 टेस्ट मैच खेले जिसमें 78 विकेट अपने नाम किए। उनकी आखिरी टेस्ट सीरीज आॅस्ट्रेलिया के खिलाफ ही थी। बाॅडीलाइन गेंदबाजी प्रकरण में आने के बाद उनकी काफी आलोचना हुर्इ थी। लाॅरवुड पर माफी मांगने का दबाव बनाया गया मगर उनका साफ कहना था कि उन्होंने बस अपने कप्तान का आदेश माना था। बाद में यही उनके टीम से बाहर होने की वजह भी बनी।

बाॅलिंग करते समय फेफड़ों से निकलता था खून, आखिरकार क्रिकेट से लेना ही पड़ा संन्यास

वर्ल्ड कप सेमीफाइनल में 'नाॅटआउट' होने के बावजूद पवेलियन लौट गया था ये दिग्गज बल्लेबाज



This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.