UP: हाथरस सामूहिक दुष्कर्म पीड़िता का रात में हुआ अंतिम संस्कार, इलाके में भारी संख्या में पुलिस बल तैनात

उत्तर प्रदेश के हाथरस में कथित सामूहिक दुष्कर्म की शिकार पीड़िता का शव आधी रात को दिल्ली से हाथरस पहुंचा। इसके बाद उसके पैतृक स्थान पर रात में ही अंतिम संस्कार कर दिया गया है। प्रशासन का कहना है कि मामले की जांच की जा रही है। दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा।

Updated Date: Wed, 30 Sep 2020 12:26 PM (IST)

हाथरस (एएनआई)। हाथरस दुष्कर्म पीड़िता का अंतिम संस्कार बुधवार की तड़के अंधेरे में उसके पैतृक स्थान पर किया गया। इस संबंध में हाथरस संयुक्त मजिस्ट्रेट प्रेम प्रकाश मीणा ने एएनआई को बताया हमने पीड़ित के परिवार के सदस्यों से बात की है।आधी रात के बाद पीड़ित का शव दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल से यहां पहुंचा। इसके बाद पीड़िता का अंतिम संस्कार शांति की स्थिति को ध्यान में रखते हुए किया गया है। चार आरोपियों को पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है। पुलिस और प्रशासन यह सुनिश्चित करेगा कि पीड़ितों को न्याय और अपराधियों को सजा दी जाए। उन्होंने कहा कि पीड़िता के परिवार को वित्तीय सहायता प्रदान की गई है।

The last rites of the victim (of Hathras gang-rape) has been performed. Police and administration will ensure that the perpetrators of the crime are brought to justice: Prem Prakash Meena, Hathras Joint Magistrate pic.twitter.com/pM3qAkOB6c

— ANI UP (@ANINewsUP) September 29, 2020


पीड़िता के परिवार को हर संभव सहायता का आश्वासन
हाथरस जिला प्रशासन ने मंगलवार को कहा कि पीड़ित परिवार को 10 लाख रुपये का मुआवजा प्रदान किया जाएगा। जिला मजिस्ट्रेट ने ट्वीट किया कि राज्य सरकार ने पहले ही परिवार को 4.12 लाख रुपये का मुआवजा दिया है। वहीं इस घटना को लेकर मंगलवार को राज्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने गहरा दुख व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि घटना बहुत दुखद है। हमारी सरकार पीड़ित परिवार के साथ खड़ी है। राष्ट्रीय महिला आयोग (एनसीडब्लू) ने पीड़िता के परिवार को हर संभव सहायता का आश्वासन दिया है।
सफदरजंग अस्पताल में युवती ने कल ली अंतिम सांस
बता दें कि हाथरस में 14 सितंबर को 19 साल की युवती के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया गया था। आरोपियों ने पीड़िता का गला घोंट कर हत्या करने की भी कोशिश की थी। मामले की जानकारी होते ही पीड़िता को अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कालेज और अस्पताल में भर्ती कराया गया था। हालांकि यहां पर उपचार के बाद भी उसकी हालत में सुधार के कोई संकेत नहीं मिलने के बाद सोमवार को अलीगढ़ से दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल भेज दिया गया था। यहां मंगलवार को उसकी माैत हो गई।

Posted By: Shweta Mishra
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.