तेल में सेस का 'तड़का' बिगाड़ न दे घर का बजट

2019-07-06T06:00:54Z

शुक्रवार को शहर में तेल की कीमतें

पेट्रोल: 70.34 रुपए प्रति लीटर

डीजल: 63.76 रुपए प्रति लीटर

-सेस में बढ़ोतरी किए जाने पर डीजल और पेट्रोल के दामों में बढ़ोतरी

-रोजमर्रा की चीजों के दाम बढ़ने की भी संभावना, गृहिणियों ने जताई चिंता

PRAYAGRAJ: बजट में सेस बढ़ाए जाने पर पेट्रोल-डीजल के दामों में बढ़ोतरी हो गई। शुक्रवार रात बढ़े हुए दाम लागू होने से पब्लिक की जेब पर अतिरिक्त बोझ बढ़ गया। इसका असर दूरगामी माना जा रहा है। एक्सप‌र्ट्स का कहना है कि आने वाले दिनों में डीजल का दाम बढ़ने से डेली यूज की चीजों की कीमतों में भी बढ़ोतरी हो जाएगी। इससे महंगाई दस्तक दे सकती है। बजट में से बढ़ाए जाने का फैसला आम जनता पर भारी पड़ सकता है।

रात 12 बजे से लागू होंगी नई कीमतें

शहर के फिलिंग स्टेशनों पर शाम से ही पेट्रोल-डीजल बढ़ाए जाने की चर्चा रही। हालांकि तेल कंपनियों ने बढ़े हुए दाम देर रात 12 बजे से लागू किए। खबर लिखे जाने तक 1 से 2 रुपए की बढ़ोतरी की बात पेट्रोल-डीजल के दामों पर की जाती रही। शुक्रवार को पेट्रोल की कीमत 70.34 रुपए प्रति लीटर और डीजल की कीमत 63.76 रुपए प्रति लीटर थी। पंप संचालकों का कहना था कि पिछले एक माह से लगातार पेट्रोल के दाम गिर रहे थे। इससे पब्लिक को राहत मिल रही थी। अचानक दाम बढ़ने से लोगों की जेब हल्की हो सकती है। बता दें कि सेस के साथ एक्साइज ड्यूटी और वैट में भी बढ़ोतरी होती है, इसका असर ओवरऑल पेट्रोल-डीजल के दाम पर पड़ता है।

महंगी हो जाएगी माल ढुलाई

लंबे समय से माल ढुलाई में बढ़ोतरी किए जाने की मांग चल रही थी। ऐसे में डीजल के दाम बढ़ जाने से माल ढुलाई पर फर्क पड़ना निश्चित माना जा रहा है। इससे रोजमर्रा के इस्तेमाल की चीजों का भाड़ा बढ़ने से उनके दाम भी बढ़ सकते हैं। अगर ऐसा हुआ तो घर का बजट भी महंगा हो सकता है। महिलाओं ने भी इस पर नाराजगी जाहिर की है। उनका कहना है कि आमदनी सीमित है और ऐसे में महंगाई बढ़ने से घर चलाना मुश्किल हो जाएगा।

वर्जन

लगातार पेट्रोल के दाम घट रहे थे। इससे लोगों को राहत मिल रही थी। सेस बढ़ जाने से अब ईधन के दाम में बढ़ोतरी तय है। इससे लोगों को अधिक पैसे खर्च करने होंगे।

-रोहित केसरवानी, महामंत्री, इलाहाबाद पेट्रोल डीजल डीलर वेलफेयर एसोसिएशन

लंबे समय से बल्क में पेट्रोल और डीजल के दाम में बढ़ोतरी नहीं हुई थी। इस बार ऐसा हुआ है। अगर टैक्स में फिर से बढ़ोतरी की गई तो एक साथ कई क्षेत्रों में इसका असर देखने को मिलेगा।

-शशांक वैश्य, उपाध्यक्ष, इलाहाबाद पेट्रोल डीजल डीलर वेलफेयर एसोसिएशन

लोगों की आमदनी में खास अंतर नहीं हो रहा है और उल्टे महंगाई बढ़ती जा रही है। डीजल के दाम बढ़ने से निश्चित है कि अनाज और सब्जियों के दाम पर असर पड़ेगा।

-शांता त्रिपाठी, गृहिणी

सरकार ने टैक्स वसूलने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। मध्यम वर्ग पर पूरी तरह से बोझ डाल दिया है। सेस बढ़ाकर जनता पर कई तरह से महंगाई का हमला होगा।

-पूनम पांडेय, गृहणी


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.