लखनऊ के चौराहों से गायब होमगार्ड ट्रैफिक डिरेल

2019-10-18T05:45:40Z

- 395 होमगार्ड मिले अगस्त में

- 354 होमगार्ड मिले सितंबर में

- 224 होमगार्ड मिले अक्टूबर में

- हजरतगंज समेत शहर के प्रमुख चौराहों पर कम की गई होमगार्ड की ड्यूटी

- ट्रैफिक पुलिस पर बढ़ा ओवरलोड, मैनुअॅल चौराहों पर बिगड़ी स्थिति

जरूरत से काफी कम है शहर में ट्रैफिक पुलिस

टीआई टीएसआई हेड कॉन्स। कॉन्सटेबल

स्वीकृत 10 43 137 777

उपलब्ध 09 31 187 326

रिक्त 01 12 +50 451

LUCKNOW: शहर के चौराहों से होमगार्ड गायब होने से हालत और ज्यादा बिगड़ते जा रहे हैं। होमगार्ड की कमी की वजह से शहर का ट्रैफिक डिरेल हो रहा है। इसका नतीजा यह है कि ट्रैफिक पुलिस पर ओवर लोड बढ़ गया है। शहर के प्रमुख मेन चौराहों से भी ट्रैफिक होमगार्ड की ड्यूटी आधी कर दी गई है। वहीं जो चौराहे केवल होमगार्ड के भरोसे चलते थे वह भी तन्हां हो गये हैं। ऐसे में न केवल छोटे-छोटे एक्सीडेंट बल्कि ट्रैफिक व्यवस्था भी बिगड़ रही है। इसका असर ट्रैफिक अभियान पर भी नजर आ रहा है। ट्रैफिक पुलिस कर्मियों की ओवरलोड ड्यूटी से ट्रैफिक रूल्स तोड़ने पर होने वाले चालान पर भी फर्क पड़ रहा है। इस पर दैनिक जागरण आई नेक्स्ट ने कई चौराहों की ट्रैफिक व्यवस्था की लाइव रिपोर्टिग की। पेश है लाइव रिपोर्टिग के कुछ अंश।

सिकंदरबाग चौराहा पहले वर्तमान

ट्रैफिक ड्यूटी

ट्रैफिक सब इंस्पेक्टर - 01 01

ट्रैफिक कांस्टेबल - 01 01

होमगार्ड - 02 01

एक होमगार्ड वह भी एक दिन छोड़ मिलता है

सिकंदरबाग चौराहे पर अब मात्र एक होमगार्ड ड्यूटी पर लगाया जा रहा है। यहां ट्रैफिक सुबह 10 बजे से शाम 7 बजे तक कंट्रोल किया जाता है। ट्रैफिक सिग्नल होने के बाद भी हजरतगंज से जुड़ा होने के चलते यहां ट्रैफिक ड्यूटी लगती है। अब एक कांस्टेबल और एक होमगार्ड के भरोसे पूरी व्यवस्था चल रही है। एक होमगार्ड भी उन्हें एक दिन छोड़ कर मिलता है।

सप्रू मार्ग चौराहों पहले अब

ट्रैफिक ड्यूटी

ट्रैफिक सब इंस्पेक्टर - 01 01

ट्रैफिक कांस्टेबल - 01 01

होमगार्ड - 02 01

चंद कदमों की दूरी पर है एसएसपी आवास

सप्रू मार्ग चौराहों हजरतगंज मेन रोड से जुड़ा होने के साथ एसएसपी आवास, जवाहर भवन की वजह से महत्वपूर्ण है। यहां हर समय दो से तीन होमगार्ड की ड्यूटी रहती थी, लेकिन वर्तमान में मात्र एक होमगार्ड की ड्यूटी लगाई जा रही है। तीन रूट्स की तरफ से आने वाले ट्रैफिक को कंट्रोल करने के लिए एक ट्रैफिक कांस्टेबल के साथ-साथ होमगार्ड को भी तैनात किया जाता है।

हजरतगंज (अटल) चौराहा

सप्रू मार्ग चौराहों

ट्रैफिक ड्यूटी पहले अब

ट्रैफिक सब इंस्पेक्टर - 02 02

ट्रैफिक कांस्टेबल - 04 04

होमगार्ड - 07 03

सबसे व्यस्त और वीआईपी चौराहा

शहर के सबसे प्रमुख चौराहों में गिनती होने वाले हजरतगंज चौराहे पर भी होमगार्ड की ड्यूटी में कटौती की गई है। यहां ट्रैफिक ड्यूटी के लिए 6 से 7 होमगार्ड की ड्यूटी लगाई जाती थी। हजरतगंज चौराहों से विधान सभा, राजभवन, लोहिया हॉस्पिटल की तरफ जाने वाले रूट्स पर बिजी ट्रैफिक रहता है। ट्रैफिक सिग्नल से कंट्रोल होने के बाद भी ट्रैफिक कंट्रोलर की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण होती है।

बर्लिग्टन चौराहा

ट्रैफिक ड्यूटी पहले अब

ट्रैफिक सब इंस्पेक्टर - 00 00

ट्रैफिक कांस्टेबल - 01 01

होमगार्ड - 03 01

यहां पहले तीन अब एक ही है होमगार्ड

बर्लिंग्टन चौराहों पर भी सबसे ज्यादा ट्रैफिक लोड रहता है, जिसके चलते यहां ट्रैफिक पुलिस कर्मी के साथ-साथ तीन होमगार्ड की ड्यूटी लगाई जाती है। हालांकि होमगार्ड की कटौती के चलते यहां भी ट्रैफिक ड्यूटी में कमी की गई है। यहां अब एक या दो ही होमगार्ड ड्यूटी पर मिल रहे हैं, वह भी एक से दो दिन के अंतराल में है। वीआईपी ड्यूटी होने के चलते होमगार्ड की ड्यूटी नहीं लगाई जाती है।

1090 चौराहों का भी यहीं हाल

1090 चौराहा का भी कुछ यही हाल दिखा। यहां ट्रैफिक सिग्नल से कम और मैनुअल ज्यादा चलता है। चौराहों पर ट्रैफिक पुलिस कर्मियों के साथ-साथ होमगार्ड और पीआरडी जवानों की भी ड्यूटी लगाई जाती है। यहां अब होमगार्ड ड्यूटी में कटौती की गई। ट्रैफिक पुलिस और पीआरडी जवानों को तैनात किया गया है।

होमगार्ड की कमी के बाद शहर की बिगड़ी ट्रैफिक व्यवस्था को सुधारने के पास आपके पास कोई सुझाव हो तो हमें भेंजे।

मंयक श्रीवास्तव का नाम

Posted By: Inextlive

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.