वर्किंग वुमेंस को हॉस्टल की सौगात जल्द

2019-07-20T06:00:48Z

- आठ अगस्त को सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत करेंगे तिलू रौतेली वर्किंग हॉस्टल का शुभारंभ

DEHRADUN: अब दून की वर्किंग वूमेंस की दिक्कत दूर होने वाली है। सर्वे चौक के पास हॉस्टल बनकर तैयार है। जिसका शुभारंभ आठ अगस्त को होगा। इससे पहले फ्राइडे को व्यवस्थाओं का जायजा लेने महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास राज्य मंत्री रेखा आर्य यहां पहुंची और कार्यदायी एजेंसी को सभी कार्य जल्द से जल्द पूरा करने के निर्देश दिए। इस दौरान उन्होंने आगे की रूपरेखा भी तय की और बताया कि इस भवन का नाम तिलू रौतेली वर्किंग हॉस्टल रखा जाएगा।

सीएम करेंगे शुभारंभ

रेखा आर्य ने बताया कि वर्किंग हॉस्टल का शुभारंभ सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत आठ अगस्त को करेंगे। बताया कि आठ अगस्त को तिलू रौतेली का जन्मदिवस है। ऐसे में इस बार तिलू रौतेली पुरस्कार भी यहीं वितरित किए जाएंगे। उन्होंने हॉस्टल में नजर आने वाली खामियों को जल्द से जल्द दूर करने को कहा। साथ ही हॉस्टल में सिक्योरिटी के पुख्ता इंतजाम कराए जाने की भी बात कही। उन्होंने यहां वन स्टॉप सेंटर के कर्मचारियों से भी बात की और उनकी समस्याएं जानी। साथ ही पर्याप्त स्टाफ रखे जाने पर भी जोर दिया। आर्य ने बिजली, पानी सहित सभी व्यवस्थाओं का पूरा ख्याल रखे जाने पर जोर दिया।

विभाग को होगा हैंडओवर

अब तक बिल्डिंग कार्यदायी संस्था पेयजल निगम के पास है। जो जल्द ही महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास विभाग को हैंडओवर की जाएगी। इसके बाद विभाग की ओर से आगे की रूपरेखा तय की जाएगी। नियम के अनुसार पहले तो ये देखा जाएगा कि कौन महिला यहां रह सकती है और कौन नहीं। साथ ही यहां का किराया भी तय किया जाएगा। वहीं सिक्योरिटी की व्यवस्था आउटसोर्स एजेंसी को दिए जाने को लेकर भी विचार होगा।

वर्किंग हॉस्टल का नाम तय कर लिया गया है। फिलहाल यहां सभी तरह की व्यवस्थाओं को लेकर जायजा लिया गया। जल्द ही काम पूरा हो जाएगा। आठ अगस्त को शुभारंभ होगा।

- रेखा आर्य, महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास राज्य मंत्री।

शिफ्ट होगा वन स्टॉप सेंटर

अब तक इस भवन में वन स्टॉप सेंटर चल रहा है। जहां एक छत के नीचे पीडि़त महिलाओं को एडवोकेट से लेकर मेडिकल और पांच दिन तक रहने-खाने की सुविधा मिल रही है। हालांकि इस भवन के बगल में ही दूसरी बिल्डिंग बनाई जा रही है। जहां वन स्टॉप सेंटर को शिफ्ट किए जाने की तैयारी है। ताकि यहां पूरी तरह से सिर्फ वर्किंग लेडीज ही रह सकें।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.