बोरिंग के विवाद में चली सौ राउंड गोलियां, एक की मौत

2019-09-06T12:38:54Z

मौके से पांच खोखे 315 बोर राइफल का एक पैकेट जिंदा कारतूस बंदूक की दो गोलियां और एक मिस फायर हुई गोली बरामद की गईं। पूर्व सैनिक के शव को पोस्टमॉर्टम के लिए पटना मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल पीएमसीएच भेज दिया गया।

पटना : टाल क्षेत्र के नुरूद्दीनपुर गांव में गुरुवार की सुबह पटवन के लिए बोरिंग पर दावेदारी को लेकर पट्टीदारों (गोतिया) के बीच जमकर फायरिंग हुई। इसमें गोली लगने से पूर्व सैनिक कपिलदेव सिंह की मौत हो गई। करीब सौ राउंड फायरिंग के बाद खुसरूपुर थाने के दारोगा मो। मोइद खां दलबल के साथ मौके पर पहुंचे। तब उपद्रवी फरार हो गए। मौके से पांच खोखे, 315 बोर राइफल का एक पैकेट जिंदा कारतूस, बंदूक की दो गोलियां और एक मिस फायर हुई गोली बरामद की गईं। पूर्व सैनिक के शव को पोस्टमॉर्टम के लिए पटना मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (पीएमसीएच) भेज दिया गया। घटना में दो और लोगों को गोली लगने की बात कही जा रही है, लेकिन वे पुलिस के सामने नहीं आए।
कपिलदेव को सिर में लगी थीं दो गोलियां
मौके पर पहुंची पुलिस ने लहूलुहान हालत में जमीन पर पड़े कपिलदेव सिंह को उठाया और जिप्सी से प्राथमिक उपचार केंद्र लेकर गई। तब तक उनकी सांसें चल रही थीं। गंभीर हालत होने के कारण डॉक्टरों ने उन्हें पीएमसीएच रेफर कर दिया। हालांकि, अस्पताल पहुंचने से पहले ही उन्होंने दम तोड़ दिया। डॉक्टरों ने बताया कि उनके सिर में दो गोलियां लगी थीं।
फायरिंग होते ही घरों में दुबक गए लोग
ग्रामीणों की मानें तो एकाएक दोनों पक्षों के बीच फायरिंग शुरू हो गई। अंधाधुंध गोलियां बरसाई जा रही थीं। जान की परवाह में लोग घरों में दुबक गए। घंटेभर में करीब सौ राउंड गोलियां चलीं। आरोप है कि घटना के वक्त थाना पुलिस को सूचना दी गई थी, लेकिन पुलिस काफी देर से पहुंची। घटना के बाद इलाके में तनाव है। भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती की गई है।

संजय सिंह से चल रहा था विवाद

पटवन की सामूहिक बोरिंग को लेकर कपिलदेव सिंह और संजय सिंह के बीच लंबे समय से विवाद चल रहा था। गुरुवार की सुबह संजय सिंह के पक्ष के लोग धान की पटवन करने के लिए बोरिंग चलाने पहुंचे तो दूसरे पक्ष ने उन्हें रोक दिया। इस दौरान उनके बीच कहासुनी होने लगी। इसने मिनटों में बड़ा रूप ले लिया। घटना के बाद पहुंची पुलिस जब कपिलदेव को जख्मी हालत में लेकर जाने लगी, तब ग्रामीण आक्रोशित हो गए। उन्होंने पुलिस को रोकने की कोशिश की, लेकिन सफल नहीं हो सके।
बोरिंग को लेकर पट्टीदारों में विवाद चल रहा था। इसमें कपिलदेव सिंह की हत्या कर दी गई। आरोपितों की पहचान कर ली गई है। उनकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस ताबड़तोड़ छापेमारी कर रही है। वे जल्द गिरफ्त में होंगे।
- मनीष कुमार सिन्हा, एएसपी, फतुहा
patna@inext.co.in

Posted By: Mukul Kumar

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.