पूर्वी लद्दाख में रात के समय भारतीय वायुसेना लगा रही गश्त, अंधेरे में सुखोई और मिग ने भरी उड़ान

भारत और चीन के बीच सीमा विवाद को लेकर वायुसेना अलर्ट पर है। देर रात भारतीय वायुसेना के विमानों को पूर्वी लद्दाख के पास गश्त लगाते देखा गया।

Updated Date: Tue, 07 Jul 2020 01:31 PM (IST)

(भारत-चीन सीमा से) (एएनआई)। चीन के साथ तनाव के बीच, भारतीय वायु सेना (आईएएफ) पूर्वी लद्दाख सेक्टर में रात के समय हवाई गश्त लगा रही है। टीम एएनआई चीन की सीमा के पास एक आगे के एयरबेस में पहुंची, जहां से भारतीय वायु सेना अपने अपाचे और चिनूक हेलीकॉप्टरों के साथ मिग -29, सुखोई -30 एमकेआई सहित लड़ाकू विमानों से अंधेरे में गश्त लगा रही है। तेज हवाओं और सर्द मौसम के बावजूद, हवा की गति कम होने पर ग्राउंड क्रू और पायलट बहुत छोटी खिड़कियों का उपयोग कर उड़ रहे हैं। रात के समय के संचालन के महत्व के बारे में बताते हुए, फारवर्ड बेस में तैनात वरिष्ठ फाइटर पायलट ग्रुप कैप्टन ए राठी ने एएनआई को बताया, "रात के ऑपरेशनों में एक आश्चर्य का तत्व होता है। भारतीय वायु सेना पूरी तरह से प्रशिक्षित है और किसी भी ऑपरेशन के पूरे स्पेक्ट्रम के लिए तैयार है।'
नाइट विजन चश्मा लगाकर भरी उड़ान


चीन सीमा के पास आगे एयरबेस पर जहां टीम एएनआई ने देर रात तक छह घंटे से अधिक समय बिताया, सबसे पहले टेक ऑफ करने वाले घातक अपाचे हमलावर हेलीकॉप्टर थे। अपाचे हेलिकॉप्टरों के पायलटों को उनकी नाइट विजन चश्मे के साथ उड़ते हुए देखा जा सकता था जो उन्हें एयरबेस और अंधेरी रात के आसपास पहाड़ों के माध्यम से नेविगेट करने की अनुमति देता है। देर रात तेज हवाओं के चलते लगभग गश्त खत्म होने वाली थी मगर 10 बजे सभी अपने-अपने विमानों में वापस चले गए क्योंकि हवा की गति कम हो गई थी।चिनूक और सुखोई लगा रहे थे गश्तइसके तुरंत बाद, शक्तिशाली चिनूक हेलिकॉप्टर रनवे पर बाहर आए और लद्दाख के पूर्वी हिस्सों की ओर उड़ान भरने से पहले हवा की गति को समायोजित करने के लिए कुछ समय के लिए मँडराया। अपने हाई टेक गैजेट्स और नेविगेशन एड्स के साथ चिनूक 24x7 ऑपरेशन के लिए पूरी तरह से तैयार है और सैनिकों को पीछे के स्थानों से वास्तविक नियंत्रण रेखा तक स्थानांतरित करने में बड़ी भूमिका निभाई। रात 11 बजे के आसपास, लड़ाकू विमानों के संचालन की शुरुआत हुई। मिग -29 लड़ाकू विमानों के टेक ऑफ की गड़गड़ाहट साफ सुनाई दे रही थी। लगभग उसी समय जब मिग -29 आगे के एयरबेस से उड़ान भर रहा था, उत्तरी क्षेत्र के कई हवाई ठिकाने सक्रिय हो गए थे जहाँ से मिराज -2000, सुखोई -30 एमकेआई और जगुआर सहित लड़ाकू विमानों ने वास्तविक लाइन के आसपास अलग-अलग स्थानों की ओर उड़ान भरी थी। भारतीय वायुसेना पूरी तरह से तैयार

वारंट ऑफिसर पी शर्मा ने एएनआई को बताया, "एयरबेस पर सैनिकों की प्रेरणा का स्तर बहुत अधिक है। मनोबल हमारे आदर्श वाक्य नाभा स्पर्षम दीप्थम (टच द स्काई विद ग्लोरी) की तरह है।" एक फ्लाइट लेफ्टिनेंट ने फॉरवर्ड एयरफील्ड के महत्व के बारे में एएनआई को बताया, "यह आधार इस क्षेत्र में ऑपरेशन करने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यहीं से सभी ऑपरेशन होते हैं।' विंग कमांडर ने कहा, "भारतीय वायु सेना सभी ऑपरेशनल बातचीत करने और सभी सैन्य अभियानों के लिए अपेक्षित सहायता प्रदान करने के लिए सभी पहलुओं में तैयार है।"

Posted By: Abhishek Kumar Tiwari
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.