ICC U19 World Cup: 36 साल से जापान में खेला जा रहा क्रिकेट, आज पहली बार खेलेगा वर्ल्डकप मैच

2020-01-21T12:07:13Z

ICC U19 World Cup 2020 आईसीसी अंडर 19 वर्ल्डकप में आज भारत बनाम जापान का मैच खेला जाएगा। भारतीय समयानुसार ये मुकाबला दोपहर 1:30 बजे से लाइव टेलिकाॅस्ट होगा। जापान की टीम पहली बार वर्ल्डकप खेल रही है। आइए जानें इस छोटे से देश में क्रिकेट के जन्म की कहानी...

कानपुर। ICC U19 World Cup 2020 साउथ अफ्रीका में चल रहे आईसीसी अंडर 19 वर्ल्डकप का 11वां मुकाबला आज ब्लोमफोंटेन में भारत बनाम जापान के बीच खेला जाएगा। जापान को आपने इससे पहले ओलंपिक और एथलीट टूर्नामेंट में हिस्सा लेते देखा है मगर यह पहली बार है जब जापान की टीम क्रिकेट वर्ल्डकप में क्वाॅलीफाई करके आई है और उनका आज डिफेंडिंग चैंपियन भारत से मुकाबला होगा। एक तरफ जहां भारत के स्टार अंडर 19 क्रिकेटर हैं जिसमें ज्यादातर सभी रणजी मैच खेल चुके, वहीं आधे खिलाड़ियों के पास आईपीएल का काॅन्ट्रैक्ट है। ऐसे में भारत जैसी मजबूत टीम के सामने जापान के खिलाड़ी कैसे टिक पाएंगे, यह तो वक्त बताएगा। मगर जापान का यहां तक पहुंचने का सफर काफी रोचक रहा है।

जापान कैसे शामिल हुआ अंडर 19 वर्ल्डकप में
जापान को आईसीसी अंडर 19 वर्ल्डकप में तकनीकी रूप से शामिल किया गया है। जून 2019 से पहले जापान ने अपने क्रिकेट इतिहास में सिर्फ यूथ गेम जीता था। यही नहीं 2020 वर्ल्डकप क्वालीफायर में जापान ने इसलिए भाग लिया, क्योंकि जापान ईस्ट एशिया पैसिफिकी राउंड की मेजबानी कर रहे थे। इस राउंड की विजेता जापान टीम रही थी मगर जापानियों को यह जीत उनके खेल के लिए नहीं बल्कि विरोधी टीम के मैदान में न उतरने पर मिली थी। दरअसल फाइनल मुकाबला पापुआ न्यू गिनी के खिलाफ था मगर मैच वाले दिन पापुआ की टीम खेलने ही नहीं आई जिसके चलते जापान को स्वतः विजेता घोषित कर दिया गया।

पापुआ न्यू गिनी ने खेलने से किया था मना
पापुआ न्यू गिनी टीम का जापान के खिलाफ मैच छोड़ने का कारण काफी अजीब था। दरअसल पापुआ न्यू गिनी क्रिकेट बोर्ड ने स्काॅड में शामिल 14 खिलाड़ियों में से 11 को सस्पेंड कर दिया था। इन खिलाड़ियों पर अनुशासनात्मक कार्रवाई की गई थी। इसके बाद पापुआ टीम में सिर्फ तीन खिलाड़ी बचे थे, इतने खिलाड़ियों को लेकर कोई मैच नहीं खेला जा सकता। ऐसे में पापुआ ने मैच खेलने से मना कर दिया और जापान ने पहली बार अंडर 19 वर्ल्डकप के लिए क्वाॅलीफाई कर लिया। वैसे आपको बता दें जापान ने इस क्वाॅलीफाॅयर राउंड में समोआ, फिजी और वंतू को करारी शिकस्त दी थी।

ऐसा रहा है जापान का क्रिकेट सफर

जापान ने साल 2011 के बाद पहली बार ईस्ट एशिया पैसिफिक रीजनल अंडर 19 क्वाॅलीफाॅयर में हिस्सा लिया था। इससे पहले जापान की जूनियर क्रिकेट टीम 2007, 2009 और 2011 क्वाॅलीफाॅयर में नजर आई थी। तब जापानी खिलाड़ियों ने अपने 11 मैचों में से सिर्फ एक में जीत दर्ज की थी। हालांकि पिछले 10 सालों में जापान ने क्रिकेट को लेकर काफी मेहनत की है। बोर्ड ने अब टीम में सभी जापानी खिलाड़ियों की बजाए उन प्लेयरों को शामिल किया जिनकी जड़े भारत, इंग्लैंड जैसे देशों से जुड़ी है। इससे टीम में विविधता और नयापन आया है।

36 साल पहले हो गई थी क्रिकेट बोर्ड की स्थापना
जापान में क्रिकेट नया नहीं है। यहां पिछले 36 सालों से क्रिकेट खेला जा रहा है। साल 1984 में जापान क्रिकेट एसोसिएशन की स्थापना हुई थी। इसके 11 साल बाद यानी 1995 में आईसीसी ने इसे एसोशिएट सदस्य का दर्जा दिया। इसके बाद जापान की टीम छोटे-छोटे मैचों में नजर आई। इस टीम ने पहली बार 2008 में किसी बड़े टूर्नामेंट में हिस्सा लिया। यह आईसीसी वर्ल्ड क्रिकेट लीग का डिवीजन फाइव टूर्नामेंट था। बता दें यह वनडे टूर्नामेंट है जो नाॅन टेस्ट प्लेइंग नेशंस के बीच खेला जाता है। साल 2012 में वर्ल्ड क्रिकेट लीग के डिवीजन 8 में जापान की टीम सेमीफाइनल तक भी पहुंच गई थी। जहां उसे घाना से मैच हारना पड़ा। इसके बाद जापान ने पीछे मुड़कर नहीं देखा और इस बार अंडर 19 वर्ल्डकप में जगह बनाई।


Posted By: Abhishek Kumar Tiwari

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.