ICC World Cup 2019 जब फील्ड में हेडफोन लगाकर कोच से बात करते पकड़ा गया क्रिकेटर

2019-05-14T16:41:16Z

आईसीसी क्रिकेट वर्ल्ड कप की शुरुआत 30 मई से हो रही। इस बार टूर्नामेंट का आयोजन इंग्लैंड में हो रहा। वर्ल्ड कप से जुड़ा एक वाक्या आज ही के दिन 1999 में हुआ था। जब फील्ड में हेडफोन लगाकर क्रिकेटर अपने कोच से बात करते पकड़ा गया।

कानपुर। क्रिकेट का सबसे बड़ा टूर्नामेंट आईसीसी वर्ल्ड कप हमेशा से सुर्खियों में रहा है। इस बार 12वां एडीशन इंग्लैंड और वेल्स में 30 मई से आयोजित किया जाएगा। पिछले 11 वर्ल्ड कप काफी खास थे मगर 1999 में खेला गया विश्व कप किसी और वजह से चर्चा में रहा था। इस टूर्नामेंट में पहली बार किसी खिलाड़ी को फील्ड में हेडफोन लगाकर कोच के साथ बात करते देखा गया था। मामला इतना बढ़ा कि बाद में आईसीसी को एक कानून बनाना पड़ा कि किसी इंटरनेशनल मैच में कोई भी क्रिकेटर हेडफोन लगाकर मैदान में नहीं आएगा।
जानें कौन आया था हेडफोन लगाकर

इंग्लैंड में आयोजित हुए 1999 वर्ल्ड कप को शुरु हुए अभी दो दिन भी नहीं हुए थे एक नए विवाद ने जन्म ले लिया। टूर्नामेंट का दूसरा मैच 15 मई को भारत बनाम साउथ अफ्रीका के बीच खेला गया। इस मैच में भारतीय कप्तान मो अजहरुद्दीन ने टाॅस जीतकर पहले बैटिंग का निर्णय लिया। अफ्रीकी कप्तान हैंसी क्रोन्ये अपने साथी खिलाड़ियों के साथ मैदान में फील्डिंग करने आए। शुरुआत में तो सबकुछ नाॅर्मल रहा। मगर पहला ड्रिंक्स इंटरवल होते ही मैच रेफरी तलत अली की निगाह क्रोन्ये के कानों के पास गई। पता चला कि हैन्सी हेडफोन लगाए हुए हैं और चलते मैच में कोच बाॅब वूल्मर से बात कर रहे। यह नजारा देख पहले तो मैच रेफरी भी हैरान रह गए। उन्होंने तुरंत क्रोन्ये से हेडफोन हटाने को कहा।
दोबारा किसी ने नहीं दोहराई ये गलती
इंटरनेशनल क्रिकेट इतिहास में यह पहला और आखिरी प्रयोग था। इसके बाद किसी खिलाड़ी ने चलते मैच में ईयरफोन या अन्य किसी गैजेट के माध्यम से कोच से बात नहीं की। इस वाक्ये के बाद क्रोन्ये और कोच वूल्मर की काफी आलोचना हुई। साउथ अफ्रीका ने बाद में वो मैच 4 विकेट से जीत लिया। बता दें हैन्सी क्रोन्ये साउथ अफ्रीका के दिग्गज खिलाड़ियों में रहे हैं।  उन्होने कुल 188 एकदिवसीय मैच खेले जिसमें उनके नाम 5565 रन दर्ज हैं। इस दौरान उनके बल्ले से 2 शतक और 39 अर्धशतक निकले।
नायक से बने खलनायक
साउथ अफ्रीकी क्रिकेट टीम के बेहतरीन कप्तानों में शुमार हैंसी क्रोन्ये के क्रिकेट करियर का अंत काफी शर्मनाक रहा। साल 2000 में क्रोन्ये के ऊपर मैच फिक्सिंग का आरोप लगा और यह सही भी साबित हुआ, यानी कि क्रोन्ये पैसे लेकर खेल बदल देते थे। जांच में क्रोन्ये को दोषी पाया गया और आईसीसी ने उन पर आजीवन प्रतिबंध लगा दिया। हालांकि उन्होंने इसके खिलाफ अपील की, मगर उसे भी खारिज कर दिया गया।
IPL 12 में कैसा रहा वर्ल्ड कप खेलने जा रहे भारतीय खिलाड़ियों का प्रदर्शन

ICC World Cup 2019 : भारत वर्ल्ड कप का दावेदार नहीं, जोंटी रोड्स ने गिनाए कारण


दो साल बाद प्लेन क्रैश में हुई मौत

साल 2000 में फिक्सिंग के चलते आजीवन बैन झेलने वाले क्रोन्ये दो साल बाद ही दुनिया को अलविदा कह गए। एक प्लेन दुर्घटना में क्रोन्ये की मौत हो गई थी। हालांकि कुछ लोगों का कहना था कि, क्रोन्ये की हत्या करवाई गई। असल बात क्या है, यह किसी को नहीं पता।



This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.