सफलता के लिए ध्यान रखनी होगी यह एक काम की बात इस घटना से जानें

2018-08-31T11:50:08Z

खुद से यह सवाल जरूर पूछें कि कहीं आप गार्बेज ट्रक तो नहीं बन रहे। किसी ने आपको गुस्सा दिला दिया और आप गुस्से में आपे से बाहर हो गए।

features@inext.co.in

एक दिन एक आदमी टैक्सी से एयरपोर्ट जा रहा था। टैक्सीवाला कुछ गुनगुनाते हुए बड़े इत्मीनान से गाड़ी चला रहा था कि अचानक एक दूसरी कार पार्किंग से निकलकर रोड पर आ गई। टैक्सी वाले ने तेजी से ब्रेक लगाई। गाड़ी स्किड करने लगी और बस एक-आध इंच से सामने वाली कार से लड़ते-लड़ते बची। आदमी ने सोचा कि टैक्सी वाला कार वाले को भलाबुरा कहेगा, लेकिन इसके उलट सामने वाला ही पीछे मुड़कर उसे गलियां देने लगा।

इसपर टैक्सी वाला नाराज होने की बजाय उसकी तरफ हाथ हिलाते हुए मुस्कुराने लगा और धीरे-धीरे आगे बढ़ गया। आदमी ने आश्चर्य से पूछा, 'तुमने ऐसा क्यों किया? गलती तो उस आदमी की थी। उसकी वजह से तुम्हारी गाड़ी लड़ सकती थी और हम हॉस्पिटलाइज भी हो सकते थें’ 'सर जी,’ टैक्सी वाला बोला- 'बहुत से लोग गार्बेज ट्रक की तरह होते हैं। वे बहुत सारा गार्बेज उठाए हुए चलते हैं, फ्रस्ट्रेटेड, हर किसी से नाराज और निराशा से भरे। जब गार्बेज बहुत ज्यादा हो जाता है, तो वे अपना बोझ हल्का करने के लिए इसे दूसरों पर फेंकने का मौका खोजने लगते हैं। जब ऐसा कोई आदमी मुझे अपना शिकार बनाने की कोशिश करता है, तो मैं ऐसे ही मुस्कुराकर हाथ हिलाते हुए उससे दूरी बना लेता हूं।

किसी को भी उनका गार्बेज नहीं लेना चाहिए। अगर ले लिया तो शायद हम भी उन्हीं की तरह उसे इधर-उधर फेंकने लग जाएंगे। घर में, ऑफिस में, सड़कों पर और माहौल गंदा कर देंगे।‘

फोकस क्लियर रखें, नकारात्मक विचारों से दूर रहें


फ्रेंड्स खुद से यह सवाल जरूर पूछें कि कहीं आप गार्बेज ट्रक तो नहीं बन रहे। किसी ने आपको गुस्सा दिला दिया और आप गुस्से में आपे से बाहर हो गए। अपना फोकस क्लियर रखें। लोग आपको आपके रास्ते से भटकाने की कोशिश करेंगे, लेकिन आपको भटकना नहीं है। अपने दिमाग को गलत और नकारात्मक विचारों से खाली रखें, तभी आप अपने लक्ष्य को पा सकेंगे।

काम की बात


1. कोई अगर आपको गुस्सा दिलाने की कोशिश करता है, तो आप उसे इग्नोर करें।

2. कभी भी अपने दिमाग में नकारात्मक विचारों के लिए कोई भी जगह ना रखें।

अपनी ताकत पहचान आप खुद रच सकते हैं इतिहास, पढ़िए यह बेमिसाल सच्ची घटना

सफलता की ऐसी कहानी, जो बदल देगी आपके सोचने का नजरिया


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.