पुलवामा आतंकी हमला रिलायंस ने दुनियाभर में बंद करवाया पाकिस्तान के PSL मैचों का प्रसारण

2019-02-18T13:18:40Z

जम्मूकश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद भारत में पाकिस्तान को लेकर काफी विरोध प्रदर्शन हो रहा। इस कड़ी में अब भारत की सबसे बड़ी कंपनी रिलायंस का नाम भी जुड़ गया। रिलायंस ने पाकिस्तान में हो रहे पीएसएल मैचों के प्रसारण करने से इंकार कर दिया।

कोलकाता (पीटीआर्इ)। पुलवामा में सीआरपीएफ जवानों पर हुए आतंकी हमले के विराध में रिलायंस ने पाकिस्तान क्रिकेट फैंस को करारा झटका दिया है। बता दें आर्इएमजी-रिलायंस मिलकर पाक में हो रही पाकिस्तान सुपर लीग यानी पीएसएल मैचों का प्रसारण कर रहे थे। मगर अब भारत में हुए आतंकी हमले को देखते हुए आर्इएमजी-रिलायंस ने अपने हाथ पीछे खींच लिए हैं। रिलायंस ने पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड को र्इमेल के जरिए इस बात की सूचना दी। मेल में लिख गया, 'पिछले दिनों पुलवामा में हुए आतंकी हमले में कर्इ भारतीय जवान शहीद हो गए। एेसे में आर्इएमजी-रिलायंस अब पीएसएल मैचों के प्रसारण को तत्काल प्रभाव से बंद कर रहा है।'
बंद हुअा मैचों का प्रसारण

आपको बता दें 14 फरवरी से शुरु हुर्इ पाकिस्तान सुपर लीग का इकलौता अफिशल प्रोड्यूसर आर्इएमजी-रिलायंस ही है। एेसे में कंपनी के हाथ पीछे खींचने के बाद पीएसएल आॅफ एयर हो जाएगा। यानी कि पाक क्रिके बोर्ड को जब तक कोर्इ नया ब्राॅडकाॅस्टर नहीं मिल जाता तब तक पीएसएल के मैचों का प्रसारण बंद रहेगा। भारत में ये मैच डी स्पोर्ट चैनल पर दिखाए जा रहे थे।
पीसीबी को लगा बड़ा झटका
सुरक्षा कारणों से इस टूर्नामेंट का आयोजन यूएई में हो रहा है। आर्इएमजी-रिलायंस कराची और लाहौर में अगले महीने होने वाले नॉकआउट मैचों का भी प्रसारण करने वाला था। पीसीबी ने कहा कि टूर्नामेंट के नए लाइव ब्रॉडकास्टरों की घोषणा सोमवार को की जाएगी। बता दें पीएसएल में कुल छह टीमें हिस्सा ले रही हैं। इसमें कर्इ बड़े आैर नामी विदेशी खिलाड़ी भी हिस्सा ले रहे हैं।
ये भारतीय क्रिकेटर पहनते हैं सेना की वर्दी, मैदान पर पाकिस्तानियों को चटा चुके हैं धूल
पुलवामा आतंकी हमले से दुखी विराट कोहली ने लिया ये बड़ा फैसला



This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.