सिडनी टेस्ट 10 साल पहले हुए मंकीगेट कांड का वो सच जो आपको नहीं पता

2019-01-03T10:44:01Z

भारत बनाम आॅस्ट्रेलिया के बीच चार मैचों की टेस्ट सीरीज का चौथा आैर आखिरी टेस्ट सिडनी में खेला जा रहा। सिडनी ग्राउंड पर भारत आैर आॅस्ट्रेलिया के बीच कर्इ चर्चित मैच खेले गए। मगर 10 साल पहले खेला गया वो मैच कौन भूल सकता है जिसमें मंकीगेट मामला सामने आया था। आइए जानें इस विवाद से जुड़ी अनजानी बातें

कानपुर। विराट कोहली की कप्तानी में टीम इंडिया चौथा टेस्ट मैच खेलने सिडनी ग्राउंड पर उतरी है। भारत इस सीरीज में 2-1 की बढ़त पहले ही बना चुका है। एेसे में मेजबान कंगारु इस मैच में अपनी लाज बचाना चाहेंगे। आपको बता दें आज से 10 साल पहले इसी मैदान पर कुछ एेसा हुआ था जब भारत-आॅस्ट्रेलिया खिलाड़ियों की इज्जत दांव पर लग गर्इ थी। ये चर्चित टेस्ट मैच जनवरी 2008 में सिडनी में खेला गया था जिसमें दोनों टीमों के खिलाड़ियों के बीच इतना विवाद हुआ कि मामला कोर्ट तक पहुंच गया। इस मामले को मंकीगेट के नाम से जानते हैं। ये लड़ार्इ भारतीय स्पिनर हरभजन सिंह आैर आॅस्ट्रेलियार्इ खिलाड़ी एंड्रयू साइमंड्स के बीच हुर्इ थी। साइमंड्स का आरोप था कि भज्जी ने उन्हें मंकी यानी बंदर कहकर बुलाया था।

मंकीगेट' विवाद कभी नहीं भूला जा सकता
2008 में भारत के ऑस्ट्रेलिया टूर के दौरान हरभजन सिंह और एंड्रयू साइमंड्स के बीच 'मंकीगेट' विवाद कभी नहीं भूला जा सकता है। सिडनी टेस्ट के दौरान साइमंड्स ने भज्जी पर नस्लीय कमेंट करने का आरोप लगाया था। इसके लिए उन पर लेवल 3 के चार्ज लगाए गए। उन्हें तीन टेस्ट मैचों के लिए बैन किया गया और 50 फीसदी मैच फीस का जुर्माना भी लगाया गया। हरभजन पर बैन लगने से टीम इंडिया के कई खिलाड़ी नाराज हुए। बाद में सचिन तेंदुलकर की गवाही के बाद जज हेनसन ने हरभजन पर लगा बैन हटा लिया। इस विवाद के बाद दोनों टीमों में जबर्दस्त तनाव पैदा हो गया था। बाद में साइमंड्स को अपना आरोप वापस लेना पड़ा। साइमंड्स का आरोप था कि हरभजन ने उन्हें 'मंकी' बुलाया था।
इसलिए बच गए थे हरभजन सिंह
हरभजन सिंह पर आरोप लगने के बाद उन्हें सजा से मुक्ति क्यों मिल गर्इ। इसके पीछे एक बड़ा रहस्य है जिसका खुलासा उस टेस्ट में मैच रेफरी रहे माइक प्राॅक्टर ने किया था। माइक ने 2017 में अपनी किताब Caught in the Middle, Monkeygate, Politics and Other Hairy Issues में इस बात का जिक्र किया है। माइक का कहना था कि उन्होंने आॅस्ट्रेलियार्इ खिलाड़ी एडम गिलक्रिस्ट आैर मैथ्यू हेडन की गवाही पर हरभजन को दोषी पाया था। मगर मैदान पर मौजूद दोनों अंपायर आैर हरभजन के साथ बैटिंग कर रहे सचिन तेंदुलकर ने इस बात से साफ इंकार कर दिया था कि उन्होंने भज्जी को कुछ अपशब्द कहते सुना। यही नहीं वीडियो फुटेज में भी भज्जी कुछ एेसा कहते नहीं दिखार्इ दिए। इसके अलावा भारतीय टीम ने यह कहते हुए भी हरभजन का बचाव किया कि उन्हें इंग्लिा आती ही नहीं तो वह साइमंड्स से क्यों बोलेंगे। खैर इस विवाद को हुए एक दशक हो गया। अब तो ये दोनों विवादित खिलाड़ी टीम में भी नहीं हैं।

क्रिकेट का 'मंकीगेट' कांड फिर सुर्खियों में, हरभजन पर आरोप लगाने वाले ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी का बयान चौंका देगा

INDvsAUS सिडनी टेस्ट : 1978 के बाद भारत ने यहां नहीं जीता कोई मैच, अब क्या करेगी 'विराट' सेना



This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.