2018 में इतने खिलाड़ियों ने भारत के लिए की टेस्ट आेपनिंग एक को छोड़ सभी रहे फिसड्डी

2018-12-25T10:05:15Z

आॅस्ट्रेलिया के खिलाफ मेलबर्न टेस्ट से पहले टीम इंडिया के आेपनर बल्लेबाज केएल राहुल आैर मुरली विजय की टीम से छुट्टी हो गर्इ। ये दोनों आेपनर पिछले दो टेस्ट मैचों में पूरी तरह से फ्लाॅप रहे थे। आइए जानें इस साल टेस्ट में भारतीय आेपनर्स का एेसा रहा हाल

कानपुर। भारत बनाम आॅस्ट्रेलिया के बीच चार मैचों की टेस्ट सीरीज का तीसरा टेस्ट बुधवार को मेलबर्न के एमसीजी में खेला जाएगा। इस टेस्ट के लिए भारतीय टीम का एलान हो गया जिसमें आेपनर बल्लेबाज केएल राहुल आैर मुरली विजय को टीम में शामिल नहीं किया गया है। इन दोनों की टीम से छुट्टी इसलिए हुर्इ कि पिछली चार टेस्ट पारियों में दोनों पूरी तरह से फ्लाॅप रहे। आॅस्ट्रेलिया के खिलाफ पिछले दो टेस्ट में मुरली ने जहां 11, 18, 0, आैर 20 रन बनाए वहीं राहुल के बल्ले से 2, 44, 2 आैर 0 रन निकले। इतनी खराब बैटिंग के बाद इन दोनों का टीम से बाहर निकलना तय था।
इस साल कुल 5 आेपनर खेले

आंकड़ों पर नजर डालें तो साल 2018 में टेस्ट में भारतीय आेपनर्स का रिकाॅर्ड कुछ खास नहीं रहा। इस साल टीम इंडिया ने टेस्ट में कुल 5 आेपनर बल्लेबाज बदले जिसमें एक को छोड़ सभी फिसड्डी रहे। इनमें केएल राहुल, मुरली विजय, शिखर धवन, पार्थिव पटेल आैर पृथ्वी शाॅ शामिल हैं, हालांकि शाॅ को जितना मौका मिला, उन्होंने इसका पूरा फायदा उठाया। युवा भारतीय बल्लेबाज शाॅ ने वेस्टइंडीज के खिलाफ दो टेस्ट खेले जिसमें तीन पारियों में 118.50 की आैसत से 237 रन बनाए। इसमें एक शतक आैर एक अर्धशतक शामिल है।
इनका एेसा रहा है खराब रिकाॅर्ड
वहीं अन्य आेपनर्स का आैसत तो 30 के पास भी नहीं पहुंचा। केएल राहुल ने इस साल 10 मैचों में 18 पारियों में 22.41 की आैसत से कुल 381 रन बनाए। वहीं मुरली विजय की बात करें तो इस खिलाड़ी ने 8 मैचों में 15 पारियां खेलकर सिर्फ 282 रन बनाए। इस दौरान उनका आैसत तो 18.80 का रहा। वहीं बाएं हाथ के आेपनर बल्लेबाज शिखर धवन ने छह मैचों में 11 पारियों में 27.36 की आैसत से 301 रन बनाए। वहीं पार्थिव पटेल ने एक मैच में 16 रन बनाए थे। इस लिहाज से देखें तो यह साल भारतीय टेस्ट आेपनर्स के लिए किसी बुरे सपने जैसा रहा।
टेस्ट इतिहास में एक साल की सबसे खराब परफार्मेंस
एक कैलेंडर र्इयर में भारतीय टेस्ट आेपनर्स की टेस्ट इतिहास की यह सबसे खराब परफार्मेंस है। एक साल (कम से कम 10 टेस्ट मैच) में भारतीय आेपनर्स का इस साल सबसे कम आैसत रहा। 2018 में टेस्ट में भारतीय आेपनर्स ने 13 मैच खेलकर कुल 1217 रन बनाए। इस दौरान आैसत 26.45 का रहा। साल 2002 के बाद टेस्ट में आेपनर्स का यह सबसे कम आैसत है।
बाॅक्सिंग डे टेस्ट के लिए टीम इंडिया से बाहर हुए दोनों आेपनर, जानें कौन नया खिलाड़ी हुआ शामिल

जानें भारत ने कितनी बार खेला है बाॅक्सिंग डे टेस्ट ?आज तक है जीत का इंतजार



This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.