India vs South Africa 1st Test Day 3: तीसरे दिन प्रोटियाज का स्कोर 385/8, भारत के पास अभी भी 117 रन की बढ़त

भारत बनाम साउथ अफ्रीका के बीच विशाखापत्तनम में खेले जा रहे पहले टेस्ट का आज तीसरा दिन है। पहली पारी में साउथ अफ्रीका के 8 विकेट गिर चुके हैं।

Updated Date: Fri, 04 Oct 2019 06:55 PM (IST)

कानपुर। भारत बनाम साउथ अफ्रीका के बीच तीन मैचों की टेस्ट सीरीज का पहला मुकाबला विशाखापत्तनम में खेला जा रहा। आज टेस्ट का तीसरा दिन था। इसमें भारत ने सात विकेट के नुकसान पर 502 रन पर पारी घोषित कर दी। जवाब में साउथ अफ्रीका ने तक 385 रन पर 8 विकेट गंवा दिए। भारत अभी भी 117 रन की बढ़त पर है। तीसरे दिन का खेल खत्म होने तक सेनुरन मुथुसामी (12) और केशव महाराज (3) बल्लेबाजी कर रहे थे।
साउथ अफ्रीका को लगे शुरुआती झटके
वहीं दूसरे दिन का खेल खत्म होने तक साउथ अफ्रीका ने अपने तीन विकेट खोकर सिर्फ 39 रन बना लिए थे। तीसरे दिन की शुरुआत में भारतीय गेंदबाजों ने एक और झटका दिया। वावूमा को ईशांत शर्मा ने एलबीडब्ल्यू आउट किया। दक्षिण अफ्रीका को पहला झटका 13 रन पर लगा, जब एडन मार्करम 5 रन बनाकर बोल्ड हो गए। आर अश्विन ने उन्हें बोल्ड किया। इसके बाद थ्युनिस डिब्रून महज 4 रन के स्कोर पर विकेटकीपर रिद्धिमान साहा के हाथों कैच करवा बैठे। साउथ अफ्रीका को तीसरा झटका रवींद्र जडेजा ने दिया। जडेजा ने डेन पीट्ड को जीरो पर बोल्ड कर दिया।

Here it is, a brilliant delivery by @ImIshant to get rid of Bavuma on Day 3 of the 1st Test.
Live - https://t.co/67i9pBSlAp #INDvSA pic.twitter.com/fHkcFkroa2

— BCCI (@BCCI) 4 October 2019
भारत ने 502 रनों पर घोषित की पारी

भारत ने पहली पारी सात विकेट पर 502 रन बनाकर घोषित की। भारत की तरफ से सबसे ज्यादा 215 रन मयंक अग्रवाल ने बनाए। वहीं रोहित ने 176 रन की पारी खेली। हालांकि विराट कोहली (20), चेतेश्वर पुजारा (6) और अजिंक्य रहाणे (15) कुछ खास नहीं कर पाए। साउथ अफ्रीका की तरफ से सबसे ज्यादा 3 विकेट केशव महाराज ने लिए। वहीं डेन पिडट, डीन एल्गर, वर्नेन फिलंडर और मुथुस्वामी ने 1-1 विकेट लिए।  
मयंक अग्रवाल का पहला दोहरा शतक
पहले टेस्ट के दूसरे दिन भारतीय ओपनर मयंक अग्रवाल ने इतिहास रच दिया। मयंक ने दूसरे दिन के खेल के एक घंटे के भीतर ही सेंचुरी जड़ी दी। वहीं लचं के बाद मयंक ने दोहरा शतक लगा दिया। मयंक ने दूसरे दिन की शुरुआत 84 रन के साथ की थी। पहले दिन जहां रोहित शर्मा ने शतक बनाया था वहीं अब मयंक ने डबल सेंचुरी जड़ भारत को मजबूत स्थिति में पहुंचा दिया। मयंक की टेस्ट क्रिकेट में यह पहली सेंचुरी है।

 

Come Onnnn....@ashwinravi99 gives us the first breakthrough
Live - https://t.co/67i9pBSlAp #INDvSA pic.twitter.com/mnDK8tLXoG

— BCCI (@BCCI) 3 October 2019


बड़ी मुश्किल से टूटी ओपनिंग पार्टनरशिप
पहले दिन का स्कोर 202 रन से आगे बढ़ाते हुए भारत ने दूसरे दिन भी सधी शुरुआत की। पहली बार टेस्ट में बतौर ओपनर खेल रहे रोहित ने शानदार खेल दिखाया। वहीं मयंक अग्रवाल ने भी अफ्रीकी गेंदबाजों को खूब परेशान किया। बता दें अफ्रीकी गेंदबाज को पहला विकेट चटकाने के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ी थी। बता दें पहले विकेट के लिए रोहित और मयंक ने 317 रन की साझेदारी की थी।
रोहित ने खेली शानदार पारी
विशाखापत्तनम टेस्ट में कप्तान विराट कोहली ने टाॅस जीतकर बैटिंग का निर्णय लिया। भारत की तरफ से मयंक अग्रवाल और रोहित शर्मा ओपनिंग करने आए और दोनों पहले दिन नाबाद लौटे मगर दूसरे दिन करीब डेढ़ घंटे से ज्यादा बैटिंग करने के बाद रोहित 176 रन बनाकर आउट हो गए। टेस्ट क्रिकेट में बतौर ओपनर रोहित की यह पहली सेंचुरी है। इसी के साथ टेस्ट क्रिकेट में रोहित के चार शतक हो गए हैं। बता दें रोहित ने टेस्ट डेब्यू में भी शतक जड़ा था।
यहां टाॅस जीतने वाला जीतता मैच
विशाखापत्तनम के वीडीसीए क्रिकेट स्टेडियम पर टाॅस जीतने वाला कप्तान फायदे में रहेगा। जो भी टाॅस जीतेगा वह पहले बल्लेबाजी करना चाहेगा क्योंकि यहां की पिच बल्लेबाजों की काफी मददगार है। ऐसे में भारतीय फैंस चाहेंगे कि विराट कोहली ही टाॅस के बाॅस बने और भारत एक बड़ा स्कोर खड़ा करे।

बाद में खेलने वाली टीम हारती है
विशाखापत्तनम की पिच वैसे तो बल्लेबाजों की मददगार रहती है मगर यहां जैसे-जैसे खेल आगे बढ़ता है, पिच धीमी होती जाती है। यही वजह है कि आखिरी तीन दिन में बड़ा स्कोर चेज करना आसान नहीं रहता।
पिछले मैच का यह निकला था नतीजा
इस मैदान पर आज तक सिर्फ एक टेस्ट मैच खेला गया है जोकि 2016 में भारत बनाम इंग्लैंड के बीच खेला गया था। विराट कोहली की कप्तानी में भारत ने इस मैच में अंग्रेजों को 246 रनों से मात दी थी। बता दें इस टेस्ट में कोहली ने टाॅस भी जीता और मैच भी।
भारत की प्लेइंग इलेवन
मयंक अग्रवाल, रोहित शर्मा, विराट कोहली, अजिंक्य रहाणे, चेतेश्वर पुजारा, हनुमा विहारी, रिद्घिमान साहा, रवींद्र जडेजा, मोहम्मद शमी, ईशांत शर्मा और रविचंद्रन अश्विन।
साउथ अफ्रीका की प्लेइंग इलेवन
फाॅफ डु प्लेसिस (कप्तान), एडन मार्कम, डीन एल्गर, थेनस डी ब्रुयान, तेंबा बावुमा, क्विंटन डी काॅक, वर्नेन फिलेंडर, सेनुरन मुथुसामी, केशव महाराज, डेन पिएडेट और कागिसो रबाडा।

 

Posted By: Abhishek Kumar Tiwari
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.