आईआरसीटीसी ने अपना सिस्टम किया अपग्रेड पुराने डेस्कटॉप व लैपटॉप के सॉफ्टवेयर पर टिकट बनना हुआ बंद

2019-02-08T11:10:23Z

VARANASI : अगर आप ट्रेंस में सफर के लिए टिकट की बुकिंग आईआरसीटीसी की वेबसाइट के थ्रू करते हैं तो संभल जाइए। यदि आपके डेस्कटॉप व लैपटॉप का सॉफ्टवेयर पुराना होगा तो टिकट की बुकिंग संभव नहीं है। दरअसल आईआरसीटीसी ने अपनी वेबसाइट को अपग्रेड कर दिया है। जिससे बहुत सारे यूजर्स हैं जो इस साइट के माध्यम से टिकट बुक नहीं कर पाएंगे। ऐसे में उन्हें परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। अगर आप भी इनमें शामिल हैं तो संभल जाइए। बेहतर होगा कि समय रहते अपने सॉफ्टवेयर को भी अपग्रेड कर लें।

 

अपडेट करना होगा ऑपरेटिंग सिस्टम

आईआरसीटीसी की वेबसाइट को हाल ही में टीएलएसस 1.1 और टीएलएस 1.2 में माइग्रेट कर दिया गया है। इसके बाद जो लोग अपने कम्प्यूटर और लैपटॉप में विंडोज एक्सपी ऑपरेटिंग सिस्टम यूज कर रहे हैं वो वेबसाइट से टिकट बुक नहीं कर पाएंगे। यही वजह है कि विंडोज एक्सपी और विंडोज सर्वर 2003 जैसे पुराने ऑपरेटिंग सिस्टम पर यह वेबसाइट काम नहीं करेगा और यूजर्स टिकट नहीं बुक कर पाएंगे। अगर विंडोज एक्सपी यूज कर रहे लोगों को आईआरसीटीसी के थ्रू ऑनलाइन टिकट बुक करना है तो उन्हें अपना ऑपरेटिंग सिस्टम अपडेट करना होगा।


अवैध धंधा करने वालों पर लगाम

 

आईआरसीटीसी की वेबसाइट से डेली सिटी के हजारों लोग ऑनलाइन टिकट बुक करते हैं। आईआरसीटीसी की वेबसाइट को यूजर फ्रेंडली बनाने के लिए पिछले साल इसे अपग्रेड किया गया था। वेबसाइट के यूजर फ्रेंडली बन जाने की वजह से ज्यादातर लोग ऑनलाइन टिकट बुक करने लगे हैं। इसकी वजह से रेलवे रिजर्वेशन सेंटर पर लगने वाली भीड़ में भी कमी आई है और दलालों पर भी लगाम लगा है। लेकिन इस साल सॉफ्टवेयर को अपग्रेड करने से नयी समस्या खड़ी हो गयी है। इससे बचने के लिए अपने सिस्टम को अपग्रेड करना होगा।

 

ट्रांजेक्शन भी पहले सिक्योर्ड

 

आईआरसीटीसी के थ्रू टिकट बुक करने वाले यूजर्स अपना टिकट ऑनलाइन ट्रांजेक्शन के माध्यम से करते हैं। इसके लिए या तो वो डेबिट कार्ड, नेट बैंकिग, क्रेडिट कार्ड या मोबाइल वॉलेट का यूज करते हैं। ये सभी ऑनलाइन ट्रांजेक्शन सिक्योर्ड रहे इसके लिए आईआरसीटीसी की वेबसाइट को और ज्यादा सुरक्षित बनाने के लिए इसे टीएसएल 1.1 और टीएसएल 1.2 पर माइग्रेट किया गया है। इससे फ्रॉड के केसेज कम होंगे। बता दें कि विंडोज एक्सपी यूजर्स की संख्या अब भी देश में काफी कम है। ज्यादातर यूजर्स विडोंज 07 या विंडोज 10 ही यूज करते हैं।

 

पैसेंजर्स की सुविधा के लिए वेबसाइट को अपग्रेड किया गया है। इससे जहां बिना रुकावट के टिकट की बुकिंग होगी तो दलालों पर भी लगाम लगेगा।


अश्विनी श्रीवास्तव, सीआरएम

आईआरसीटीसी


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.