लौहनगरी में जागृति यात्रा का हुआ भव्य स्वागत

2019-06-25T06:00:47Z

JAMSHEDPUR: शब्द कीर्तन से शहर में भक्तिमय माहौल बन गया। जागृति यात्रा जिस मार्ग से गुजर रही थी। बड़े बूढ़े शीश झुका रहे थे और पालकी साहिब में बैठे ग्रंथी से प्रसाद ले रहे थे। गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश उत्सव को समर्पित जागृति यात्रा कर्नाटक से निकाली गई है। सोमवार को जागृति यात्रा रांची से जमशेदपुर पहुंची है। पारडीह चौक पर सोमवार की दोपहर तीन बजे से ही संगत जागृति यात्रा के आने का इंतजार सैकड़ों संगत कर रही थी। करीब शाम साढ़े चार बजे जागृति यात्रा पारडीह कालीमंदिर चौक वाहनों के काफिले के साथ कीर्तन गायन करते हुए पहुंची। यहां संगत ने पालकी साहिब के समक्ष शीश झुकाए, जिसके बाद जागृति यात्रा वहां से चेपापुल के पास पहुंची। जहां मुस्लिम समुदाय के लोगों ने जागृति यात्रा का स्वागत किया। फिर मानगो संत कुटिया गुरुद्वारा पहुंची। जहां चाय व नाश्ता की सेवा संगत को गुरुद्वारा प्रबंध कमेटी द्वारा किया गया।

फूलों की वर्षा की

इसी तरह मानगो गुरुद्वारा की ओर से मानगो चौक पर जागृति यात्रा के स्वागत किया गया और फूलों की वर्षा की गई। फिर मेरीन ड्राइव होते हुए जागृति यात्रा गम्हरिया गुरुद्वारा के लिए रवाना हुई। आदित्यपुर के पास कीताडीह गुरुद्वारा के प्रधान अर्जुन वालिया व उनकी टीम ने जागृति यात्रा के स्वागत किया और संगत के बीच शर्बत की सेवा की। वहां से देर शाम लौटने के बाद बिष्टुपुर,रामदास भट्टा, कदमा व सोनारी गुरुद्वारा जागृति यात्रा पहुंची। जहां संगत ने जोरदार स्वागत जागृति यात्रा का किया गया। रास्ते भर जयकारा लगता रहा। साकची गुरुद्वारा पहुंचने पर जागृति यात्रा का स्वागत किया गया और कीर्तन दरबार का आयोजन किया गया। जिसके उपरांत गुरु का अटूट लंगर की सेवा संगत के बीच की गई। वहीं पालकी साहिब को साकची गुरुद्वारा मैदान में संगत के दर्शन के लिए रखा गया।

आगे-आगे थे बाइक सवार

जागृति यात्रा के आगे आगे 80 से ज्यादा बाइक सवार जयकारा लगाते हुए बढ़ रहे थे। उसके पीछे सड़क को क्लियर करने के लिए ग्रंथियों की वाहन सायरन बजाते हुए चल रही थी। जिसके पीछे पालकी साहिब चल रही थी पालकी साहिब के पीछे सौ से ज्यादा चार पहिया वाहनों का काफिला चल रहा था।

पारडीह चौक पर भाजपा नेता अमरप्रीत सिंह काले, झारखंड राज्य अल्पसंख्यक आयोग गुरदेव सिंह राजा, झारखंड प्रदेश गुरुद्वारा कमेटी के प्रधान शैलेंद्र सिंह, गुरदेव सिंह राजा, सीजीपीसी के प्रधान गुरमुख सिंह मुखे मौजूद थे। जागृति यात्रा के साथ साथ गुरदेव सिंह राजा, शैलेंद्र सिंह, हरविंदर सिंह मंटू, इंदर सिंह, तरनप्रीत सिंह बन्नी आ रहे थे। जबकि एनएच 33 स्थित रणगांव से सीजीपीसी के प्रधान गुरमुख सिंह मुखे ने जागृति यात्रा को अपने साथ लेकर चले। होटल वेब इंटरनेशनल में भी जागृति यात्रा का स्वागत किया गया।

25 जून : गुरुद्वारा साहिब साकची से जागृति यात्रा सुबह साढ़े आठ बजे शुरू होगी, जो रिफ्यूजी कॉलोनी मुख्य सड़क, टुइलाडंगरी, टिनप्लेट चौक, एग्रीको, बारीडीह, बिरसानगर, तारकंपनी टेल्को, गोविंदपुर, आजादबस्ती जेम्को, नामदा बस्ती, बर्मामाइंस, कीताडीह, जुगसलाई स्टेशन रोड, गौरी शंकर रोड गुरुद्वारा, बागबेड़ा से होते हुए साकची गुरुद्वारा पहुंचेगी।

26 जून: जागृति यात्रा सुबह साढ़े आठ बजे साकची से निकलकर ह्यूमपाइप गुरुद्वारा, मुसाबनी के लिए रवाना होगी।

कर रहे कंट्रोलिंग की सेवा

जागृति यात्रा की तीनों दिन कंट्रोलिंग की सेवा हरविंदर सिंह मंटू, तरनप्रीत सिंह बन्नी मनजीत सिंह, बलबीर सिंह बबलू, दीपक सिंह गिल, चरणजीत सिंह एवं सोनू बिंद्रा करेंगे।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.