पुलवामा टेरर अटैक जम्मूकश्मीर में इन 5 अलगाववादी नेताओं की सुरक्षा छिनी

2019-02-18T11:41:04Z

पुलवामा में टेरर अटैक के बाद जम्मू एवं कश्मीर सरकार ने पांच अलगाववादी नेताओं की सुरक्षा वापस ले ली गर्इ।

श्रीनगर (आईएएनएस)। पुलवामा में टेरर अटैक के बाद जम्मू एवं कश्मीर सरकार ने पांच अलगाववादी नेताओं की सुरक्षा वापस ले ली है। जिन पांच अलगाववादी नेतओं की सुरक्षा वापस ली गर्इ है उनमें मीरवाइज उमर फारूक, अब्दुल गनी भट, बिलाल लोन, हाशिम कुरैशी व शबीर शाह शामिल हैं। इस फैसले से अलगाववादियों नेताआें को सरकार की आेर से दी गई सुरक्षा एवं दिए गए वाहन भी वापस करने होंगे। खबरों की मानें तो इस फैसले के बाद अलगाववादियों नेताआें में खलबली मची है।
फैसले पर बौखलाहट में कुछ एेसी दी प्रतिक्रिया प्रतिक्रिया
हालांकि अलगाववादी नेताओं की सुरक्षा वापस लेने के फैसले पर प्रतिक्रिया देते हुए हुर्रियत कांफ्रेंस ने कहा है कि उन्होंने कभी सुरक्षा नहीं मांगी थी। मीरवाइज उमर फारूक के नेतृत्व वाले हुर्रियत कांफ्रेस ने एक बयान में कहा सरकार ने खुद ही अलगाववादी नेताओं को सुरक्षा मुहैया कराने का फैसला लिया था। इतना ही नहीं उन्होंने यह भी कहा कि सरकार के सुरक्षा वापस लेने के फैसले से न तो अलगाववादी नेताओं के रुख में कोर्इ बदलाव आएगा न हीं इससे जमीनी हालात पर कोई असर पड़ेगा।
सीआरपीएफ काफिले पर आतंकी हमले से 41 जवान शहीद
बता दें कि बीते गुरुवार को जम्मू कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर आतंकी हमले से 41 जवान शहीद हुए। यह हमला जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी आदिल अहमद ने विस्फोटक कार के जरिए किया।  पीटीआई की रिपोर्ट के मुताबिक, सीआरपीएफ का काफिला जैसे ही लेथपोरा से गुजरा, आतंकी ने रॉन्ग साइड से आकर अपनी गाड़ी जवानों से भरी बस से टकरा दी। उस गाड़ी में 100 किलोग्राम विस्फोटक सामान था, जिससे बड़ा धमाका हुआ। इस अटैक ने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया।

तिरंगे में लिपटा दून पहुंचा शहीद मेजर चित्रेश, आज सैन्य सम्मान के साथ की जाएगी अंत्येष्टि

वो एक मारेंगे हम 10 तैयार हैं, Terror Attack से नहीं टूटता सेना में जाने का जज्बा


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.