Jharkhand Assembly Elections 2019 झामुमो के पूर्व विधायक अकील अख्तर आजसू में शामिल

2019-11-14T16:13:29Z

टिकट नहीं मिलने से नाराज विक्षुब्ध नेताओं का दूसरे दलों में शामिल होना जारी है। इस क्रम में झामुमो के दिग्गज नेता सह पूर्व विधायक अकील अख्तर भी बुधवार को आजसू में शामिल हो गए।

रांची (ब्यूरो)। पार्टी कार्यालय में आयोजित मिलन समारोह में अध्यक्ष सुदेश महतो ने उन्हें पार्टी का पट्टा पहनाकर सदस्यता दिलाई। उनके साथ पाकुड़ के सैंकड़ों कार्यकर्ताओं ने भी आजसू की सदस्यता ग्रहण की।
जेएमएम ने 6 साल के लिए निकाला

अकील आजसू के टिकट पर पाकुड़ से चुनाव लड़ेंगे। हालांकि उनकी उम्मीदवारी की घोषणा अभी नहीं हुई है। झामुमो से टिकट नहीं मिलने पर वे नाराज थे। उन्होंने मंगलवार को झामुमो की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था। झामुमो ने भी आजसू में शामिल होने से पहले उन्हें छह वर्ष के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया। आजसू में उन्हें शामिल कराने के बाद अध्यक्ष सुदेश महतो ने कहा कि अकील ने जिस प्रतिबद्धता से अपने क्षेत्र में काम किया है उसी प्रतिबद्धता से पार्टी इनके क्षेत्र में काम करेगी। मौके पर काफी भावुक होते हुए अकील ने कहा कि उनके क्षेत्र के कार्यकर्ताओं की भावना तथा उनके निर्णय के बाद ही वे आजसू में शामिल हो रहे हैं। उन्होंने अपने कार्यकाल में सुदेश के सहयोग से वहां कई काम करने की भी बात कही। इस मौके पर पाकुड़ के प्रो। अशोक यादव, जीएन पप्पू, विजय साहा, अकबर अंसारी आदि ने भी आजसू की सदस्यता ग्रहण की।
आज ज्वाइन कर सकते हैं बलमुचू
कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष प्रदीप बलमुचू गुरुवार को आजसू में शामिल हो सकते हैं। सुदेश ने भी स्वीकार किया कि दूसरे दलों के अन्य नेता भी उनसे संपर्क में हैं और आनेवाले दिनों में वे पार्टी में शामिल होंगे।
एक-दो दिनों में पार्टी का घोषणापत्र
एक ओर सुदेश महतो ने संयुक्त घोषणापत्र की बात कही, वहीं पार्टी का अपना अलग घोषणा पत्र भी लगभग तैयार है। पार्टी एक-दो दिनों में अपना घोषणापत्र जारी करेगी। पार्टी ने पहले 14 नवंबर को इसके जारी करने की घोषणा की थी।
ranchi@inext.co.in


Posted By: Sudhir Jaiswal

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.