टीचर्स डे के दिन खुली गुरु की काली करतूत, कहा- एक घंटे के लिए चलो बेडरूम में

Updated Date: Fri, 06 Sep 2019 10:50 AM (IST)

रांची : टीचर्स डे को एक गुरु की काली करतूत खुलकर सामने आयी है. रांची के रामपुर इलाके में मेगा स्किल सेंटर ड्रीम वेवर्स प्रा. लि. के टीचर अशोक राणा ने अपनी ही स्टूडेंट कल्पना काल्पनिक नाम को फोन कर कहा कि एक घंटे के लिए बेडरूम में चलो.

रांची : टीचर्स डे को एक गुरु की काली करतूत खुलकर सामने आयी है। रांची के रामपुर इलाके में मेगा स्किल सेंटर, ड्रीम वेवर्स प्रा। लि। के टीचर अशोक राणा ने अपनी ही स्टूडेंट कल्पना (काल्पनिक नाम) को फोन कर कहा कि एक घंटे के लिए बेडरूम में चलो। यही नहीं, उसने कई बार कल्पना को फोर्स भी किया कि एक बार मेरे साथ बेडरूम में चलो। जब कल्पना बार बार इनकार करती रही तब पेशे को कलंकित करते हुए अशोक राणा ने कल्पना को बेडरूम के बदले कहीं बाहर चलने को कहा लेकिन कल्पना उसके लिए भी तैयार नहीं हुई। अंत में जब अशोक ने देखा कि कल्पना किसी भी बात के लिए तैयार नहीं हो रही है तब उसने कल्पना को कहा कि अपनी फ्रेंड को ही सेट करा दो।

3 मिनट की रिकार्डिग में सम्मान तार तार

दैनिक जागरण आईनेक्स्ट के पास आरोपी टीचर अशोक राणा और विक्टिम स्टूडेंट कल्पना के बीच की बातचीत का टेप है। इस तीन मिनट के टेप में टीचर अशोक ने कई बार गुरु -शिष्य के सम्मानित संबंधों को तार-तार किया। फोन नहीं उठाने पर उसने कल्पना को यहां तक कहा कि फोन क्यों नहीं उठा रही हो। वह कई दफा गिड़गिड़ाता रहा कि एक बार चलो। वहीं कल्पना पूछती रही कि क्यों चलना है, क्या काम है। जब अशोक ने कहा कि एक घंटा बेडरूम में चलो उसके बाद कल्पना ने सीधे इनकार कर दिया।

सॉरी बोलती रही स्टूडेंट, टीचर करता रहा मनमानी

अशोक राणा का घटिया ऑफर सुनने के बाद स्टूडेंट कल्पना लगातार उससे सॉरी बोलती रही लेकिन आरोपी अशोक उसके साथ फोन पर ही मनमानी करता रहा। कभी इस फ्रेंड को तो कभी उस फ्रेंड को सेट करने का प्रेशर बनाता रहा।

महिला आयोग में मचा हंगामा

मामले को लेकर पीडि़ता महिला आयोग तक पहुंची और आयोग की अध्यक्षा कल्याणी शरण को सारी आपबीती सुनाई। आयोग ने आनन फानन में टेप सुनने के बाद मामले को गंभीरता से लेते हुए स्किल सेंटर के मैनेजर को तलब किया। बाद में माफीनामे के बाद टीचर को छोड़ा गया।

कैसे डेवलप हो पाएगा स्टूडेंट का स्किल

इस तरह के हालात में आखिरकार इन स्किल सेंटरों में कैसे एक स्टूडेंट का स्किल डेवलप हो पाएगा। इनके संचालकों को सरकार द्वारा प्रति स्टूडेंट रुपए पेमेंट किया जाता है। सरकार के रुपयों को लेकर इन सेंटरों में इस तरह से स्टूडेंट की सुरक्षा और अस्मत से खेलने का प्रयास होने से सरकार की कल्याणकारी योजनाओं पर भी सवाल खडे़ हो रहे हैं।

वर्जन

दोनों पक्षों को बुलाकार आपसी समन्वय के आधार पर माफीनामा बनाया गया। शिक्षक अशोक राणा ने अंडरटेकिंग दिया है कि वह इस तरह की हरकत नहीं करेगा।

कल्याणी शरण, अध्यक्षा, महिला आयोग झारखंड
ranchi@inext.co.in

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.