10 हजार से ज्यादा बकाया पर शुरू हुआ अभियान, 310 की बत्ती गुल

Updated Date: Sat, 26 Sep 2020 12:48 PM (IST)

रांची : बिजली विभाग ने 10 हजार रुपये से ज्यादा बकाया वाले उपभोक्ताओं के बिजली कनेक्शन काटने का अभियान शुरू कर दिया है। शुक्रवार को राजधानी में कुल 310 कनेक्शन काटे गए। जिन बिजली उपभोक्ताओं के कनेक्शन काटे गए, उन पर कुल मिलाकर 76 लाख 13 हजार रुपये का बकाया था। इन बकाएदारों को बिजली विभाग की तरफ से कई बार नोटिस जारी किया जा चुका था। बिल का भुगतान नहीं करने पर अब इनके कनेक्शन काट दिए गए हैं। अब इन बकाएदारों को कनेक्शन जुड़वाने के लिए बकाया भुगतान करने के अलावा अलग से शुल्क भी जमा करना होगा।

सुबह से शाम तक चला अभियान

शुक्रवार को बिजली विभाग के अधिकारियों ने सुबह से ही कनेक्शन काटने का अभियान शुरू कर दिया था। यह अभियान शाम चार बजे तक चला। अभियान के तहत सबसे ज्यादा 60 कनेक्शन रांची पश्चिम इलाके में काटे गए। सबसे कम 28 कनेक्शन रांची के न्यू कैपिटल इलाके और खूंटी में काटे गए। अधीक्षण अभियंता प्रभात कुमार श्रीवास्तव ने उपभोक्ताओं से अपील की है कि जल्द बिजली का बिल जमा कर दें ताकि कनेक्शन कटने की स्थिति में उन्हें दिक्कत का सामना नहीं करना पड़े। बिजली विभाग के अधिकारियों ने कनेक्शन काटने का शुक्रवार से जो अभियान शुरू किया है। उसमें 10 हजार रुपये से अधिक बकाया रखनेवालों के कनेक्शन काटे गए हैं। विभाग के कार्यपालक अभियंताओं ने बकाएदारों की सूची तैयार की है। राजधानी में बिजली के 25 हजार के करीब बकाएदार हैं। इन पर बिजली विभाग का लगभग 20 करोड़ रुपये बकाया है।

किस्त में कर सकते हैं भुगतान

अधीक्षण अभियंता प्रभात कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि अगर किसी उपभोक्ता के पास बिजली बिल का एकमुश्त भुगतान करने के लिए पैसा नहीं है तो किस्त में भुगतान की सुविधा का उपयोग कर सकते हैं। 50 हजार रुपये से कम बकाया पर असिस्टेंट इंजीनियर किस्त का निर्धारण करेंगे। वहीं, 50 हजार रुपये से अधिक बकाया पर कार्यपालक अभियंता किस्त का निर्धारण करेंगे।

राजधानी में कनेक्शन काटने का अभियान शुरू कर दिया गया है। उपभोक्ताओं से अपील है कि बकाए का भुगतान कर दें ताकि उन्हें किसी तरह की कोई दिक्कत नहीं हो।

- प्रभात कुमार श्रीवास्तव, अधीक्षण अभियंता बिजली।

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.