दूसरे की जमीन का फर्जी पेपर बनाकर बेच रहे हैं दलाल. शिकायत मिलने के बाद डीसी ऑफिस ने की जांच. छह डीड के फर्जीवाड़े की जानकारी मिली डीसी कोर्ट ने डीड रद्द करने का दिया निर्देश.

रांची(ब्यूरो)। राजधानी में अगर जमीन खरीदकर आशियाना बनाने की सोच रहे हैं तो जमीन के कागजात की पूरी डिटेल खंगाल लें, उसके बाद ही जमीन खरीदें। क्योंकि राजधानी में दूसरे की जमीन फर्जी कागज तैयार करके दलाल बेच रहे हैं। ताजा मामला रांची में आया है, जहां डीसी कोर्ट ने छह फर्जी डीड को रद्द करने का आदेश दिया है। डीसी के आदेश के बाद रांची के सब रजिस्ट्रार ने सभी डीड की रजिस्ट्री रद्द करते हुए कोतवाली थाना में एफआईआर दर्ज करने के लिए आवेदन दिया है।
36 लोगों पर होगी कार्रवाई
फ र्जी दस्तावेज व फर्जी वंशावली लगाकर जमीन का निबंधन कराने वालों पर शिकंजा कसने जा रहा है। डीसी सह जिला निबंधक ने इन मामलों में सुनवाई करने के बाद फर्जी दस्तावेज के सहारे हुए छह निबंधन रद कर दिए हैं। इन मामलों में क्रेता व विक्रेता के साथ ही गवाह व पहचान कर्ता भी फ ंस सकते हैं। क्रेता, विक्रेता, गवाह और पहचान कर्ता मिलाकर 36 लोगों पर कार्रवाई हो सकती है।
डीसी को निबंधन रद्द करने का अधिकार
भू-राजस्व, निबंधन एवं भूमि सुधार विभाग ने फ र्जी रजिस्ट्री रद्द करने का अधिकार डीसी सह जिला निबंधक को दे दिया है। इसके पहले डीसी द्वारा रद्द करने की अनुशंसा की जाती थी। अब विभाग ने डीसी को फ र्जी रजिस्ट्री के मामलों की जांच कर डीड रद्द करने का आदेश दिया है। आदेश में यह भी कहा गया है कि जैसे ही डीसी कार्रवाई करेंगे, संबंधित जिला के सब रजिस्ट्रार को फर्जी तरीके से जमीन या फ्लैट की रजिस्ट्री करने और कराने वालों के खिलाफ , एफआईआर दर्ज करानी होगी, इसी आधार पर यह एफआईआर की गई है।
कोतवाली में केस का आवेदन
जिला अवर निबंधक रांची घासीराम पिगुआ ने इस संबंध में बताया कि जितने लोगों पर कार्रवाई की जानी है, उसकी रिपोर्ट कोतवाली थाने में दे दी गई है। सभी पर प्राथमिकी दर्ज कर कार्रवाई का अनुरोध किया गया है।
इनपर होगी कार्रवाई
-हटिया तुपुदाना बस्ती के मदननाथ शाहदेव ने अपरडहू के लखन सिंह को फर्जी दस्तावेजों के आधार पर जमीन बेची है। विक्रम सिंह इसके पहचानकर्ता हैं। यह निबंधन रद कर दिया गया है। यह निबंधन 13 अप्रैल 2005 को हुआ था।
-सुखदेव नगर के हरमू रोड की माया देवी ने जमीन बेची है, इसमें पहचानकर्ता जालान हाउस के जगन्नाथ श्रीवास्तव हैं।
-जगन्नाथपुर थाना क्षेत्र के धुर्वा सेक्टर 2 निवासी रमेशचंद्र वर्मा को जमीन बेची गई है। मामले में पहचानकर्ता इंदर सिंह और गवाह रामरतन सिंह हैं, दोनों नामकुम के रहने वाले हैं। यह निबंधन भी रद कर दिया गया है। यह निबंधन 6 फरवरी 2012 को हुआ था।
-11 जुलाई 2019 को एक निबंधन हुआ था। जिसमें विक्रेता बिहार के नालंदा की संपति देवी और क्रेता गया की श्यामपति देवी हैं। यह निबंधन 11 जुलाई 2019 को हुआ था। इसमें पहचानकर्ता जगन्नाथ श्रीवास्तव हैं। जालान हाउस के रहने वाले हैं।
-16 अप्रैल 2010 को निबंधन हुआ था। यह निबंधन रातू के विगल महतो ने कराया था। वह विक्रेता हैं और खरीदार बुढ़मू सिदरौल के प्रकाश साहू हैं। इसमें चमरा उरांव पहचानकर्ता हैं। यह निबंधन भी रद कर दिया गया है।

ऐसे करें सही जमीन की जांच
-अगर आप जमीन ले रहे हैं तो उसका डिटेल्स पहले रजिस्टर टू में देखें कि जमीन का वास्तविक मालिक कौन है।
-जमीन के कागज का लीगल डिटेल्स वकील के माध्यम से हासिल करें।
-सीओ ऑफिस के कर्मचारी से उस जमीन के बारे में लिखित जानकारी लें

डीसी की कोर्ट से छह लोगों का फर्जी डीड रद्द करने का निर्देश जारी हुआ है। सभी फर्जी डीड की रजिस्ट्री रद्द कर दी गई है। जिन लोगों ने फर्जी तरीके से जमीन अपने नाम किया था, उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के लिए कोतवाली थाना को लिखा गया है।
घासीराम पिंगुआ, सब रजिस्ट्रार, रांची

Posted By: Inextlive