डेंगू चिकनगुनिया पर नगर निगम का स्ट्राइक

Updated Date: Mon, 13 Jul 2020 11:36 AM (IST)

रांची: सिटी में मानसून आने के बाद से डेंगू-चिकनगुनिया के फैलने का खतरा मंडरा रहा है। लेकिन रांची नगर निगम ने इस बार इनसे निपटने की पूरी तैयारी कर रखी है। चूंकि इस बार कोरोना से लड़ाई के लिए नगर निगम कई महीने से अभियान चलाकर सेनेटाइजेशन का काम कर रहा है। वहीं सफाई में भी काफी सुधार किया गया है। वहीं मच्छरों से निपटने के लिए नगर निगम ने स्ट्राइक कर दिया है, जिससे कि इस बार मच्छरों के पनपने पर रोक लगा दी जाएगी। इससे सिटी के लोगों को बीमारियां अपनी चपेट में नहीं ले सकेंगी।

350 सफाई योद्धा मोर्चे पर तैनात

केवल मच्छरों से निपटने के लिए नगर निगम ने इस बार 350 सफाई योद्धाओं को तैनात किया है, जो सफाई करने के साथ ही ब्लीचिंग पाउडर के छिड़काव पर भी ध्यान दे रहे हैं। इसके अलावा नालियों की सफाई और फॉगिंग की व्यवस्था भी नगर निगम द्वारा की गई है, जिससे कि मच्छरों के डेवलप होने की संभावना ही नहीं होगी। ऐसे में बीमारी फैलने की संभावना नहीं के बराबर होगी। इसके अलावा सफाई कर्मचारी घर-घर जाकर लोगों को चिकनगुनिया और डेंगू के खतरे और खुले में पानी नहीं रखने की जानकारी भी दे रहे हैं।

हेल्थ डिपार्टमेंट भी कर रहा मदद

चिकनगुनिया और डेंगू के खतरे से निपटने के लिए रांची नगर निगम ने तैयारी कर रखी है। वहीं, स्वास्थ्य विभाग भी कोरोना के बीच डेंगू-चिकनगुनिया से निपटने में सहयोग को तैयार है। इसके तहत विभाग ने निगम के लोगों को जागरूक करने की अपील की है। चूंकि इस साल कोरोना को देखते हुए हर घर में जाकर लोगों को जागरूक करना संभव नहीं है। बताते चलें कि दो साल पहले सिटी के कई इलाकों में चिकनगुनिया और डेंगू ने महामारी का रूप धारण कर लिया था। वहीं काफी संख्या में लोग इसकी चपेट में आ गए थे।

रिस्क लेने के मूड में नहीं अधिकारी

नगर निगम अंतर्गत 53 वार्ड आते हैं, जहां पर ब्लीचिंग के साथ ही लार्वीसाइडल का भी स्प्रे किया जा रहा है। इसके लिए नगर निगम ने 7 गाडि़यों को लगा रखा है। इसके अलावा टैंकर में भी मोटर गन लगाकर छिड़काव का काम चल रहा है। वहीं मैन हैंडल्ड मशीनें भी दी गई हैं, जिससे कि गली मोहल्लों में छिड़काव जारी रहे और मच्छरों को पनपने से रोका जा सके। इससे यह साफ है कि नगर निगम के अधिकारी इस बार रिस्क लेने के मूड में नहीं हैं। यही वजह है सेनेटाइजेशन के साथ ही लार्वीसाइडल का छिड़काव भी चल रहा है। वहीं कोल्ड फॉगिंग मशीनों से हफ्ते में दो दिन वार्डो में फॉगिंग कराई जा रही है।

हमलोगों ने इस बार पूरी तैयारी पहले से कर रखी है। चूंकि इस बार हमारे पास संसाधन जो है उसका इस्तेमाल सेनेटाइजेशन के साथ छिड़काव में भी किया जा रहा है, जिससे कि हमें नई मशीनें खरीदने की जरूरत ही नहीं पड़ी। रोस्टर बना दिया गया है और स्टाफ को भी सुरक्षा के साथ काम करने को कहा गया है। लोगों का सपोर्ट इसमें अहम होगा, चूंकि हम हर घर में जाकर चेक नहीं कर सकते। लोगों को अलर्ट रहकर जल जमाव वाली जगहों पर मॉनिटरिंग करनी होगी। तभी हम मच्छरों से निपट सकते हैं।

-शंकर यादव, डीएमसी, आरएमसी

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.