700 दिन में भी पीटी की रेस पूरी नहीं कर सका है जेपीएससी

Updated Date: Wed, 12 Jul 2017 07:41 AM (IST)

RANCHI : जेपीएससी की छठी सिविल सेवा परीक्षा कछुए की चाल से चल रही है। इस परीक्षा का नोटिफिकेशन जारी हुए दो साल होने को हैं, लेकिन आयोग पीटी की पहली रेस तक पूरी नहीं कर सका है। इससे भी बड़ा सवाल यह है कि पीटी रद होगा, अथवा संशोधित रिजल्ट जारी किया जाएगा या फिर अतिरिक्त परिणाम घोषित किए जाएंगे, इसपर भी आयोग फैसला नहीं ले पाया है। मालूम हो कि छठी सिविल सेवा परीक्षा के लिए जेपीएससी ने 16 अगस्त 2015 को नोटिफिकेशन जारी किया था, लेकिन अब तक परीक्षा का एक फेज भी पूरा नहीं हो सका है।

क्यों रूकी है प्रक्रिया ?

पीटी परिणाम को लेकर मुख्यमंत्री रघुवर दास ने तीन महीने पहले ही जेनरल कैटेगरी से ज्यादा मा‌र्क्स लाने वाले सभी अभ्यर्थियों को सफल घोषित करने के निर्देश आयोग को दिए हैं, लेकिन आयोग यह तय नहीं कर पा रहा है कि संशोधित रिजल्ट दें अथवा एडिशनल। मालूम हो कि पीटी में रिजर्वेशन पॉलिसी को लेकर ही छठी सिविल सेवा परीक्षा लेने का मामला लटकता आ रहा है।

आगे क्या होगा?

छठी सिविल सेवा के फिर से पीटी परिणाम जारी किए जाने के मुद्दे पर आयोग चुप्पी साध रखा है। पीटी में सफल हों या असफल सभी अभ्यर्थी इस बात को लेकर चिंतित है कि आगे क्या होगा। सफल अभ्यर्थी इसलिए बेचैन हैं कि कहीं रिवाइज्ड रिजल्ट में वे असफल न घोषित कर दिए जाएं तो असफल स्टूडेंट्स को इस बात का इंतजार है कि एडिशनल रिजल्ट जारी होने पर वे भी सफल हो सकते हैं, जबकि ओबीसी अभ्यर्थी हर हाल में संशोधित रिजल्ट जारी करने की मांग पर अड़े हैं, जो किसी भी कीमत पर पदों की संख्या से 15 परसेंट ज्यादा नहीं हो।

क्यों परीक्षा प्रक्रिया में होता रहा विलंब

1-नोटिफिकेशन को लेकर

नोटिफिकेशन जारी होने के साथ ही छठी सिविल सेवा परीक्षा विवादों के घेरे में आ गया था था। सी सैट शामिल करना, कट ऑफ डेट कम करना, महिलाओं, विकलांगों और स्पो‌र्ट्स पर्सन्स को रिजर्वेशन नहीं देने के मामले पर सड़क से सदन तक बवाल हुआ था। आखिरकार, 2015 के मॉनसून सत्र के दौरान सदन में सीसैट वापस लेने, कट ऑफ डेट को पांच साल कम करने और अवसर की बाध्यता खत्म करने की घोषणा मुख्यमंत्री ने की थी।

2-दो बार मांगे गए आवेदन

जेपीएससी ने छठी सिविल सेवा के लिए अभ्यर्थियों से दो बार आवेदन मांगे। पहली बार नोटिफिकेशन जारी होने के बाद 16 अगस्त से 15 सितंबर तक आवेदन लिए गए। लेकिन, संशोधित नोटिफिकेशन जारी होने के बाद

3-पीटी में सवालों में गड़बडि़यां

जेपीएससी ने 18 अप्रैल 2016 को पीटी तो ले लिया, लेकिन इसमें पूछे गए कई सवाल गलत थे। इतना ही नहीं हिंदी में सवालों की भाषा इतनी जटिल थी कि कई अभ्यर्थी आंसर सॉल्व करने के लिए इंग्लिश का सहारा लिया था। सवालों को लेकर अभ्यर्थियों ने आपत्तियां भी दर्ज कराई थी।

4- पीटी परिणाम पर बवाल

24 फरवरी 2017 को पीटी का परिणाम जारी किया गया। लेकिन, इस रिजल्ट को लेकर अभ्यर्थियों का गुस्सा फिर फूट पड़ा। जेनरल से ज्यादा मा‌र्क्स लाने के बाद भी ओबीसी कैंडिडेट्स को असफल घोषित किए जाने को लेकर सड़क पर एक बार भी अभ्यर्थी उतरे। आयोग के दफ्तर से लेकर सीएम-मंत्रियों के आवास तक विरोध-प्रदर्शन का दौर चला। आखिरकार सीएम ने जब जेनरल से ज्यादा मा‌र्क्स लाने वाले ओबीसी अभ्यर्थियों को सफल घोषित करने का आदेश दिया तो मामला शांत हुआ।

अभ्यर्थियों पर क्या हो रहा असर

1-पीटी रिजल्ट पर सस्पेंस

सीएम के आदेश के बाद आयोग संशोधित परिणाम जारी करेगा, अथवा एडिशनल रिजल्ट निकलेगा या पीटी रद होगा, इसे लेकर आयोग की चुप्पी अभ्यर्थियों को चिंतित कर रखा है।

2-प्रभावित हो रही तैयारी

पीटी के परिणाम को लेकर सस्पेंस बरकरार है, ऐसे में अभ्यर्थियों की तैयारी पर असर पड़ रहा है। कब पीटी का संशोधित रिजल्ट निकलेगा और मेन्स कब होगा, इसे लेकर वे परेशान हैं।

अभ्यर्थियों की बढ़ती जा रही उम्र

परीक्षा में जितना विलंब होगा, अभ्यर्थियों की उम्र भी बढ़ती जाएगी। ऐसे में झारखंड को जवान अफसर कैसे मिलेंगे, यह सहज ही समझा जा सकता है।

7 वीं जेपीएससी में होगा विलंब

जबतक छठी सिविल सेवा परीक्षा की प्रक्रिया पूरी नहीं हो जाती, 7वीं के लिए प्रक्रिया शुरू नहीं हो पाएगी। ऐसे में परीक्षाओं में विलंब होने से आयोग के साथ अभ्यर्थियों की भी मुश्किलें बढ़ेगी।

फीगर स्पीक्स

326

पदों के लिए हो रही छठी सिविल सेवा परीक्षा

105000

लाख से ज्यादा अभ्यर्थियों ने किए थे आवेदन

74666

अभ्यर्थी पीटी में हुए थे शामिल

5133

अभ्यर्थी पीटी में किए गए थे सफल

टाइम लाइन

16 अगस्त 2015

छठी सिविल सेवा परीक्षा का नोटिफिकेशन जारी

24 अगस्त 2015

सीसैट, कट ऑफ डेट व अवसर की संख्या को लेकर विरोध प्रदर्शन

28 अगस्त 2015

सरकार ने समस्या के लिए बनाई हाई लेवल कमिटी

4 सितंबर 2015

सदन में सीएम का सी सैट, अवसर की बाध्यता खत्म व कट ऑफ डेट बढ़ाने का ऐलान

15 सितंबर 2015

तक आवेदन करने की थी अंतिम तिथि

30 नवंबर 2015

तक फिर से भरे गए आवेदन फॉर्म

18 दिसंबर 2016

राज्य के विभिन्न केंद्रों पर हुआ पीटी

23 फरवरी 2017

पीटी का परिणाम जारी। 5333 अभ्यर्थी सफल

7 अप्रैल 2017

सीएम ने पीटी का परिणाम फिर से जारी करने के दिए आदेश

25 मई 2017

से 9 जून तक होने वाला मेन्स एग्जाम रद

एक साल में पूरी करने के थे निर्देश

2015 के मॉनसून सेशन में सरकार ने सदन में आश्वासन दिया था कि सिविल सर्विसेज की परीक्षा हर साल पूरी की जाएगी, लेकिन इसमें आयोग अक्षम साबित हो रहा है। छठी सिविल सेवा के पीटी में ही दो साल गुजर चुके हैं, जबकि मेन्स और इंटरव्यू का दौर बचा है। ऐसे में खुद जारी एग्जाम कैलेंडर को आयोग लागू नहीं कर पा रहा है।

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.