सुविधा! 139 पर कॉल कर कैंसिल कराएं ट्रेन का टिकट, स्टेशन जाने की जरूरत नहीं

2020-02-28T13:04:00Z

सफर पर जाने से पहले यदि अचानक प्रोग्राम कैंसिल हो जाए तो रेलवे टिकट कैंसिल कराने के लिए अब रेलवे स्टेशन जाने की जरुरत नही है।

मेरठ (ब्यूरो)इस बाबत रेलवे ने रेलवे खिड़की से बुक आरक्षित टिकट को कैंसिल कराने के लिए 139 हेल्पलाइन नंबर जारी किया है। रेलवे के इस हेल्पलाइन नंबर पर कॉल करके मोबाइल से घर बैठे टिकट कैंसिल हो सकेगा। हालांकि टिकट का रिफंड लेने के लिए उपभोक्ता को स्टेशन के काउंटर तक जाना होगा।

इस बात का रखें ध्यान

- शाम छह बजे से सुबह छह बजे तक की ट्रेन के लिए दूसरे दिन काउंटर खुलने के दो घंटे में रिफंड लेना होगा।

- सुबह छह बजे के बाद की ट्रेन के लिए डिपॉर्चर टाइम के चार घंटे के अंदर रिफंड लेना होगा।

- ऐसा इसलिए क्योंकि ट्रेन के जाने के समय से चार घंटे पहले कंफर्म और आधे घंटे पहले तक वेटिंग टिकट निरस्त होते हैं।

ऐसे कैंसिल होगा टिकट

- रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर से 139 पर करना होगा कॉल

- कैंसिल ऑप्शन के लिए 6 नंबर का बटन दबाना होगा

- पीएनआर नंबर के बाद मिलेगा ओटीपी

- ओटीपी फीड करने के बाद मिल जाएगा कैंसिलेशन का मैसेज

- इस मैसेज को दिखाकर काउंटर से मिलेगा रिफंड

'यात्रियों की सुविधा के लिए यह सुविधा अपडेट की गई है। इस हेल्पलाइन नंबर पर टिकट को ट्रेन जाने के निर्धारित समय से पहले कैंसिल कराया जा सकेगा।'

- आरपी शर्मा, स्टेशन अधीक्षक

तथ्य एक नजर में

- अब यात्रा में बदलाव पर कॉल करके कैंसिल करा सकते हैं टिकट

- नई व्यवस्था के तहत सेंटर फॉर रेलवे इंफार्मेशन सिस्टम यानि क्रिस ने इंडियन रेलवे कैट¨रग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन के साथ दी सुविधा

- 139 पर कैंसिल टिकट का रिफंड आवेदक को स्टेशन पर ही मिलेगा।

- यह सुविधा टिकट में भरे गए आवेदन फार्म में दर्ज मोबाइल नंबर पर ही मिलेगी।

- एक पीएनआर पर अधिकतम छह में से दो या चार यात्रियों का टिकट भी कैंसिल हो जाएगा।

- अचानक यात्रा में बदलाव होने पर नहीं जाना पड़ेगा रेलवे स्टेशन

- टिकट निरस्त होने पर रिफंड के लिए जाना होगा काउंटर

meerut@inext.co.in

Posted By: Meerut Desk

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.