पीएम के स्वागत को तैयार कबीर चौरा

2018-06-27T11:48:18Z

सद्गुरु कबीर साहब का 620वां प्राकट्य महोत्सव 28 जून को मनाया जाएगा इसके लिए तैयारियों का दौर फाइनल स्टेज में पहुंच चुका है

- आज पहुंचेंगे सीएम योगी आदित्यनाथ, गुरुवार को है पीएम का प्रोग्राम

- मगहर में सुबह 10 बजे से मौजूद रहेंगे पीएम, राज्यपाल और सीएम

- मगहर को मिलेंगी कई सौगातें

बुलेट प्रूफ गाड़ी की भी व्यवस्था
Gorakhpur@inext.co.in
GORAKHPUR: कबीर चौरा देश के मुखिया पीएम नरेंद्र मोदी के साथ ही राज्यपाल और सीएम के स्वागत को पूरी तरह तैयार है. गोरखपुर के एयरपोर्ट पर पीएम का स्वागत करने के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ भी उन्हीं के साथ मगहर स्थित कबीर चौरा के लिए रवाना होंगे. इसके लिए सुरक्षा व्यवस्था चाक-चौबंद कर दी गई है. चप्पे-चप्पे पर पुलिस की निगाहबानी होगी, तो वहीं एसपीजी और एनएसजी कमांडो भी सुरक्षा की कमान पहले ही संभाल चुके हैं. हैलीपैड से स्टेज तक पहुंचाने के लिए बुलेट प्रूफ गाड़ी की भी व्यवस्था की गई है.

दिन भर अधिकारियों की आवाजाही
पीएम का वेलकम करने के लिए जहां जिम्मेदार तैयारियों में जुटे हुए हैं, वहीं सुरक्षा और व्यवस्था चाक-चौबंद रहे, इसके लिए सभी परेशान भी हैं. तैयारियों का जायजा लेने के लिए प्रशासनिक अमले के साथ पुलिस के अधिकारी भी सभा स्थल की दिनभर दौड़ लगाते रहे. जोन के एडीजी, कमिश्नर और आईजी ने जहां मौके का मुआयना किया, वहीं जिले के डीएम और आलाधिकारी भी कार्यक्रम स्थल पर डेरा जमाए रहे. दोपहर बाद सभा स्थल पर ही सभी अधिकारियों को एडीजी ने ब्रीफिंग की और जरूरी दिशा-निर्देश दिए.

डॉग स्क्वॉयड ने छाना चप्पा-चप्पा
पीएम के आगमन को लेकर सुरक्षा एजेंसियों ने जहां दो दिन पहले से डेरा जमा लिया है. वहीं मुकामी पुलिस के साथ ही डॉग और बॉम्ब स्क्वॉयड के मेंबर्स ने भी मौके पर पहुंचकर सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया. उन्होंने सभा स्थल के साथ ही कबीर की मजार और मंदिर का भी जायजा लिया, जहां उन्होंने चप्पे-चप्पे पर चेकिंग की. कार्यक्रम स्थल पर पहुंचकर कुर्सियों और स्टेज के आसपास भी डॉग स्क्वॉयड ने सघन जांच की. इस दौरान बॉम्ब स्क्वॉयड भी अपने लेवल पर जांच में लगा था.

लगते रहे टेंट, सजती रही कुर्सियां
कार्यक्रम स्थल पर टेंट लगाने का काम काफी तेजी से चल रहा था. इस दौरान जमीन को बराबर करने के लिए अलग से कर्मचारी लगे हुए थे. कुर्सियों के आने के साथ ही उन्होंने सभा स्थल पर लगाने का काम भी चल रहा था. वहीं एंट्री करने के साथ ही वहां पर पार्किंग व्यवस्था भी बनाने में मजदूर जी-जान से जुटे हुए थे. वहां पर लगे मजदूरों की मानें तो करीब एक लाख कुर्सियां मंगवाई गई हैं, यानि कि इतने लोगों के लिए बैठने की व्यवस्था की गई है.


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.