कादर खान के बेटे ने नाम ले बताया बाॅलीवुड में सभी दिखावटी अंत समय में किसी ने नहीं लिया पिता का हाल

2019-01-05T14:54:43Z

बीती 1 जनवरी को बॉलीवुड के दिग्गज एक्टर और स्क्रीनराइटर कादर खान का निधन हो गया। इस पर पूरे बॉलीवुड ने सोशल मीडिया पर मेसेजेस पोस्ट करके दुख जताया लेकिन कादर के बेटे सरफराज को इंडस्ट्री का ऐसा करना पसंद नहीं आया है

feature@inext.co.in

KANPUR: दशकों तक अपने डायलॉग्स और एक्टिंग से सिनेमा को मालामाल करने वाले कादर खान को लेकर इंडस्ट्री की बेरुखी आंखें खोलने वाली है कि यहां उगते सूरज को तो सलाम किया जाता है, मगर आंखों से ओझल होने वालों को याद करना भी मशक्कत का काम हो जाता है। कादर खान का आखिरी वक्त इंडस्ट्री से दूर कनाडा में बीता, जहां 31 दिसम्बर की शाम उन्होंने इस दुनिया को अलविदा कहा और वहीं उन्हें सुपुर्दे-खाक भी किया गया।
हालचाल की भी किसी ने नहीं ली सुध
उनके निधन पर सोशल मीडिया तो श्रद्धांजलि संदेशों से भर गया, मगर उनके आखिरी सफर में ऐसे दोस्तों की कमी खली, जो कभी उनके हुनर पर न्योछावर रहते थे। इंडस्ट्री से ऐसे बहुत कम लोग थे, जिन्होंने कादर का हालचाल लेने की कभी जहमत उठाई हो। कादर खान के जाने के बाद उनके बेटे सरफराज ने अपना ये दर्द बयां किया। उन्होंने ये भी कहा कि जिंदगी के आखिरी पलों में वह कहीं न कहीं ये जान गए थे कि इंडस्ट्री के लोगों के व्यवहार में बदलाव आ ही जाता है। उन्होंने गोविंदा के स्टेटमेंट को भी आड़े हाथों लिया।
इनके साथ किया सबसे ज्यादा काम
कादर खान ने सबसे ज्यादा जिन लोगों के साथ काम किया है, उनमें अमिताभ बच्चन, गोविंदा और डेविड धवन के नाम आते हैं। उनके जाने पर गोविंदा ने सोशल मीडिया में कादर खान के निधन पर अफसोस जताते हुए फादर फिगर बताया था। लेकिन सरफराज ने उन्हें आड़े हाथों लिया। एक इंटरव्यू में सरफराज ने गोविंदा के अंदाज-ए-मातमपुरसी पर तंज कसते हुए कहा, 'गोविंदा से पूछिए कि उन्होंने कितनी बार उनके पिता की सेहत के बारे में जानकारी ली थी। मेरे पिता के निधन के बाद क्या उन्होंने एक बार भी फोन करके पूछा? फिल्म इंडस्ट्री इसी तरह चलती है। इंडस्ट्री खेमों में बंटी हुई है। सबके अपने-अपने वफादार हैं। जो नजरों से ओझल हुआ, उसे भुला दिया जाता है।
'जिंदा हैं वो लोग जो मौत से टकराते हैं...' कादर खान के 7 यादगार डायलाॅग
कादर खान ने 81 की उम्र में ली आखिरी सांस, देश के बाहर यहां होगा अंतिम संस्कार



This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.