कानपुर की निर्मल गंगा अब बनी देश के लिए प्रेरणा

Updated Date: Fri, 13 Dec 2019 05:45 AM (IST)

-एक हफ्ते में दूसरी बार कानपुर पहुंचे सीएम, अटल घाट से सीसीमऊ नाले तक किया स्पेशल बोट से इंस्पेक्शन

- कहा, सीसामऊ नाला कल तक था बदनामी की पहचान, नमामि गंगे के कार्यो से सीवेज गिरने की जगह अब सेल्फी प्वाइंट

KANPUR: नमामि गंगे प्रोजेक्ट ने गंगा को मैला करने के लिए पूरे विश्व में बदनाम 130 साल पुराना सीसामऊ नाला की पहचान बदल दी है। जहां से कभी करोड़ों लीटर सीवेज गंगा में गिरता था, वो आज सेल्फी प्वाइंट बन गया है। जिस चीज को लेकर कानपुराइट्स को मलाल हुआ करता था आज वो गर्व का विषय बन गया है। गंगा बैराज से सीसामऊ नाला तक स्पेशल बोट से इंस्पेक्शन करने के दौरान सीएम योगी आदित्यनाथ ने यह बात कही। उन्होंने कहा कि कानपुर में गंगा की निर्मलता, अविरलता हर राज्य शहर के लिए प्रेरणा बन गई है। इस उपलब्धि को कई स्टेट के सीएम और सेंट्रल मिनिस्टर अपनी आंखों से देखेंगे।

एक वीक में दूसरी बार

सैटरडे को प्राइम मिनिस्टर नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में नेशनल गंगा काउंसिल की मीटिंग होगी। इस मीटिंग में सेंट्रल गवर्नमेंट के 10 मिनिस्टर के अलावा यूपी, उत्तराखंड सहित 5 स्टेट के सीएम के आने की संभावना है। उनके गंगा में भ्रमण करने और सीसामऊ नाला के साथ सेल्फी लेने का भी प्रोग्राम है। इसी वजह से लगातार तैयारियां की जा रही है। इसकी गंभीरता का अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि एक वीक के अंदर ही सीएम योगी आदित्यनाथ थर्सडे को दूसरी बार तैयारियां देखने कानपुर आए। इससे पहले उन्होंने 7 दिसंबर को अाकर तैयारियां देखी थी।

पहले हवाइर् निरीक्षण फिर बोट से

थर्सडे की सुबह 11.30 बजे के करीब सीएम ने हेलीकॉप्टर के जरिए गंगा बैराज से लेकर जाजमऊ तक निरीक्षण किया। इसके बाद सीएसए पहुंचे। वहां से बाई रोड गंगा बैराज के पास अटल घाट पहुंचे। उन्होंने मिनिस्टर डॉ। महेन्द्र सिंह, कमलरानी वरूण, नीलिमा कटियार आदि के साथ प्रयागराज से मंगाई गई स्पेशल बोट में सवार होकर सीसामऊ नाला को देखने के लिए चले गए।

सीसामऊ नाले के सेल्फी

करीब 50 मिनट बाद सीएम बोट से ही वापस गंगा बैराज स्थित अटल घाट लौटे। इस बीच वह सीसामऊ नाला सेफ्टी प्वाइंट भी गए। यहां प्रदेश के जलशक्ति मंत्री डॉ। महेन्द्र सिंह को सीसामऊ नाले के साथ सेल्फी लेते देख सीएम खुद को नहीं रोक सके। उन्होंने मिनिस्टर से सेलफोन लेकर कई सेल्फी ली।

कीड़े स्वच्छता की पहचान

सीसामऊ नाला के पास उन्होंने नाले में सफेद रंग के कीड़े दिखाए पड़े। यह देखकर उन्होंने कहा कि यह कीड़े स्वच्छ गंगा की पहचान हैं। स्वच्छ पानी में ही ये कीड़े होते हैं। जाजमऊ में गंगा प्रदूषित होने के सवाल पर कहा कि पहले वहां मछलियां मर जाती थीं, अब गंगा स्वच्छ होने से जाजमऊ में गंगा जल में मछलियां तैरती हुई नजर आती हैं।

झलकियां

अंतिम संस्कार छोड़ खींचने लगे फोटो

स्पेशल बोट में सवार चीफ मिनिस्टर के साथ और आगे- पीछे कई और बोट चल रही थी। जब यह काफिला भैरवघाट मोक्षधाम के पास पहुंचा तो वहां अंतिम संस्कार में शामिल होने पहुंचे कई लोग गंगा किनारे पहुंच गए और फोटो खींचने लगे

बच्चे को दिया ऑटोग्राफ

अटल घाट गेट पर मैनावती मार्ग स्थित एक स्कूल के बच्चे स्वच्छता अभियान में लगे हुए थे। सीएम लौटकर इन बच्चों से मिले। उनकी हौसला आफजाई की। क्लास 4 के स्टूडेंट अगस्त अग्रवाल को बैग में ऑटोग्राफ भी दिया। बच्चों ने पॉलीथिन की जगह लोगों से बैग इस्तेमाल करने की अपील की। साथ ही डिस्ट्रिब्यूट किए।

चलती रहीं तैयारियां

सीएम के सीएसए से अटल घाट आने और जाने के बावजूद भी डिपार्टमेंट रास्ता चमकाने में लगे हुए। विकास नगर से गंगा बैराज को जाने वाली रोड भी बनाई जाती रही। वहीं रोड व फुटपाथ की सफाई की। पेंटिंग का दौर आज भी जारी रहा।

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.