हैलट रोड पर मेट्रो दौड़ाने को ग्रीन सिग्नल

2019-07-15T11:01:00Z

-पीडब्ल्यूडी ने जारी की एनओसी, जीटी रोड के लिए पीडब्ल्यूडी एनएच ने शर्तो के साथ एनओसी जारी का प्रपोजल मिनिस्ट्री को भेजा

-आईआईटी से मोतीझील तक मेट्रो वर्क के लिए एलएमआरसी ने पीडब्ल्यूडी और पीडब्ल्यूडी एनएच से मांगी है एनओसी

KANPUR: कानपुर मेट्रो के रास्ते की सबसे बड़ी रुकावट खत्म होते नजर आ रही है। हैलट रोड पर मेट्रो वर्क के लिए पीडब्ल्यूडी ने एनओसी जारी कर दी है। वहीं जीटी रोड पर मेट्रो दौड़ाने के लिए पीडब्ल्यूडी नेशनल हाइवे डिवीजन के सिटी ऑफिसर्स ने शर्तो के साथ एनओसी देकर मामला मिनिस्ट्री को भेज दिया है। इससे एलएमआरसी के ऑफिसर इसी वीक पीडब्ल्यूडी एनएच से एनओसी जारी कर दिए जाने के दावे कर रहे हैं।

पीडब्ल्यूडी एनएच ने लगाई शर्ते

कानपुर में दो रूट पर मेट्रो दौड़ाई जानी है। पहला रूट आईआईटी से फूलबाग होते हुए नौबस्ता और दूसरे रूट में सीएसए से बर्रा-8 तक मेट्रो दौड़नी है। फिलहाल प्रॉयरिटी सेक्शन आईआईटी से मोतीझील तक मेट्रो वर्क शुरू करने की लखनऊ मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन ने तैयारी शुरू कर दी है। आईआईटी से मोतीझील तक 8 किलोमीटर के लिए वायाडक्ट और 9 मेट्रो स्टेशन के लिए टेंडर भी किए जा जा सके है। पर मेट्रो वर्क शुरू करने के रास्ते में सबसे बड़ी बाधा पीडब्ल्यूडी एनएच और पीडब्ल्यूडी की एनओसी बनी हुई थी।

फाइनल डिसिजन लखनऊ से

आईआईटी से मेडिकल कॉलेज चौराहा जीटी रोड तक एलएमआरसी ने पीडब्ल्यूडी नेशनल हाइवे डिवीजन से एनओसी मांगी है। वहीं मेडिकल कॉलेज से मोतीझील तक हैलट रोड के लिए पीडब्ल्यूडी से एनओसी की एलएमआरसी को जरूरत है। एलएमआरसी ऑफिसर्स के मुताबिक मेडिकल कॉलेज चौराहा से मोतीझील तक मेट्रो वर्क के लिए पीडब्ल्यूडी ने एनओसी जारी कर दी है। वहीं दूसरी ओर पीडब्ल्यूडी एनएच डिवीजन के सिटी लेवल के ऑफिसर्स ने शर्तो के साथ एनओसी जारी करने के लिए ग्रीन सिग्नल दे दिया है। हालांकि एनओसी पर फाइनल डिसीजन सेंट्रल मिनिस्ट्री ऑफ ट्रांसपोर्ट के लखनऊ ऑफिस से होगा।

ढाई-ढाई मीटर चाैड़ी होगी

इन शर्तो में मेट्रो वर्क के लिए जीटी रोड पर गलियारा के एवज में एलएमआरसी को दोनो साइड 2.5-2.5 मीटर सर्विस रोड बनानी होगी। जिससे गाडि़यों के आवागमन के लिए जीटी रोड के दोनों ओर 7.5- 7.5 मीटर रोड बनी रहे। जीटी रोड पर गलियारा देने के लिए पीडब्ल्यूडी एनएच ने लैंडयूज चार्ज मांगा है जो कि मेट्रो वर्क के लिए ली गई टोटल जमीन का डीएम सर्किल रेट का एक तिहाई होगा। यह वन टाइम ही देना होगा। सर्विस रोड बनाने के लिए एलएमआरसी ऑफिसर्स तैयार हो गए हैं।

बॉक्स

लैंडयूज चार्ज माफ होगा

अन्य मेट्रो प्रोजेक्ट्स की तरह लैंडयूज चार्ज माफ किए जाने के लिए एलएमआरसी ने सेंट्रल मिनिस्ट्री ऑफ ट्रांसपोर्ट को लेटर भेजा है। पीडब्ल्यूडी एनएच के सुपरिटेंडेंड इंजीनियर एसए उस्मानी ने बताया कि सर्विस रोड बनाने और लैंडयूज जमा करने की शर्तो के साथ एलएमआरसी को एनओसी देने का प्रपोजल सेंट्रल मिनिस्ट्री ऑफ ट्रांसपोर्ट के लखनऊ ऑफिसर को भेज दिया है। फाइनल डिसीजन मिनिस्ट्री के लखनऊ ऑफिस से ही होगा।

-- 8003 मीटर है आईआईटी से मोतीझील मेट्रो स्टेशन की डिस्टेंस

-- 6775 मीटर डिस्टेंस है आईआईटी से मेडिकल चौराहा

-- 1228 मीटर दूर है मेडिकल कॉलेज चौराहा से मोतीझील मेट्रो स्टेशन

-- 9 मेट्रो स्टेशन बनाए जाने है आईआईटी से लेकर मोतीझील तक

-- 676 करोड़ के एलएमआरसी ने किए हैं टेंडर, 12 अगस्त को खुलेंगे


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.