कर्नाटक के मनोनीत मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई आज मंत्रिमंडल की बैठक की अध्यक्षता करेंगे और राज्य में कोविड-19 और बाढ़ की स्थिति की भी समीक्षा करेंगे।बोम्मई कर्नाटक के मुख्यमंत्री के रूप में आज सुबह 11 बजे शपथ लेंगे।


बेंगलुरु (एएनआई)। बसवराज बोम्मई ने कहा, मैं आज बाद में कैबिनेट की बैठक की अध्यक्षता करूंगा। उसके बाद मैं राज्य में कोविड-19 और बाढ़ की स्थिति की समीक्षा के लिए वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक करूंगा। बसवराज बोम्मई ने बेंगलुरु के भगवान श्री मारुति मंदिर में भी पूजा-अर्चना की। कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एसआर बोम्मई के बेटे एक मैकेनिकल इंजीनियरिंग स्नातक और जनता दल (यूनाइटेड) के पूर्व नेता बसवराज बोम्मई को कार्यवाहक मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा के इस्तीफे के एक दिन बाद मंगलवार को भाजपा आलाकमान ने कर्नाटक का 23 वां मुख्यमंत्री नियुक्त किया। बसवराज बोम्मई2008 से शिगगांव से कर्नाटक विधान सभा के तीन बार के सदस्य 1998 और 2008 के बीच कर्नाटक विधान परिषद के सदस्य रहे। कर्नाटक के पूर्व गृह मंत्री बोम्मई भाजपा के एक वरिष्ठ नेता


कर्नाटक के मुख्यमंत्री के रूप में अपने चुनाव के तुरंत बाद बसवराज बोम्मई ने मंगलवार को कहा कि वह गरीबों के कल्याण के लिए काम करने का प्रयास करेंगे।यह जन-समर्थक और गरीब-समर्थक शासन होगा। हम राज्य में कोविड-19 और बाढ़ से लड़ने के लिए सभी उपाय करेंगे। कर्नाटक के पूर्व गृह मंत्री बोम्मई भाजपा के एक वरिष्ठ नेता हैं। कर्नाटक के विधानमंडल सहित कई विभागों को संभाला

बसवराज बोम्मई ने इससे पहले येदियुरप्पा मंत्रालय में सिंचाई, कानून, संसदीय मामलों और कर्नाटक के विधानमंडल सहित कई विभागों को संभाला है। उन्होंने हावेरी और उडुपी जिला प्रभारी मंत्री के रूप में भी काम किया है। उन्होंने पहले 2008 और 2013 के बीच जल संसाधन और सहकारिता मंत्री के रूप में कार्य किया।येदियुरप्पा की तरह ही सदारा लिंगायत जाति से बोम्मई28 जनवरी, 1960 को जन्मे बोम्मई अपने पूर्ववर्ती येदियुरप्पा की तरह ही सदारा लिंगायत जाति से हैं। लिंगायत कर्नाटक का सबसे बड़ा समुदाय है जिसमें लगभग 17 प्रतिशत आबादी शामिल है और यह 35 से 40 प्रतिशत विधानसभा सीटों पर परिणाम निर्धारित कर सकता है। समुदाय ने लंबे समय से सत्ताधारी पार्टी का समर्थन किया है। बोम्मई को येदियुरप्पा का करीबी सहयोगी जाना जाता बोम्मई को येदियुरप्पा और उनके अनुयायी के करीबी सहयोगी के रूप में जाना जाता है। भाजपा में कई लोगों का मानना ​​है कि बोम्मई को उनके उत्तराधिकारी के रूप में घोषित करना येदियुरप्पा की जीत है। बोम्मई को दिल्ली में पार्टी आलाकमान के साथ-साथ पार्टी में विभिन्न समुदायों के नेताओं के साथ अच्छे संपर्क के लिए भी जाना जाता है।

Posted By: Shweta Mishra