कस्तूरबा स्कूल से भागीं 60 छात्राएं

2018-08-09T06:01:09Z

CHAIBASA: पश्चिम सिंहभूम के मझगांव प्रखंड में संचालित कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय की 60 छात्राएं बुधवार की अहले सुबह 5.30 बजे स्कूल से चुपचाप भाग गईं। एक साथ 60 लड़कियों के बिना किसी को कुछ बताए निकल जाने से शिक्षा विभाग में हड़कंप मच गया। विद्यालय की वार्डन संगीता कुमारी ने लड़कियों के भागने की सूचना मझगांव थाना, बीडीओ और जिला शिक्षा विभाग को दी। सूचना मिलने पर पुलिस ने तलाशी अभियान चलाकर देर शाम तक विद्यालय से 60 में से 18 छात्राओं को अभी तक बरामद कर वापस विद्यालय पहुंचा दिया है।

शिक्षकों का कर रहीं समर्थन

बताया जा रहा है कि शिक्षा विभाग ने मैट्रिक के खराब प्रदर्शन के लिए जिम्मेदार पार्ट टाइम टीचर्स को हटाने का आदेश दिया है। इसी के तहत कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय मझगांव के 4 शिक्षक-शिक्षिकाओं को मंगलवार से हटाने का नोटिस स्कूल मैनेजमेंट को दिया गया था। छात्राएं संबंधित शिक्षकों के समर्थन में हैं। इस फरमान का विरोध करते हुए छात्राएं अपने अपने घर चली गई हैं। विद्यालय लौटी एक छात्रा ने बताया कि कस्तूरबा गांधी विद्यालय में शिक्षकों की कमी है। लेकिन शिक्षा विभाग ने चार शिक्षक- शिक्षिकाओं को हटाने का आदेश दे दिया। जिसके चलते शिक्षकों ने विद्यालय आना बंद कर दिया है। इस वजह से विद्यालय में पढ़ाई नहीं हो रही है और जब पढ़ाई नहीं हो रही है तो स्कूल में रहने क्या मतलब है।

इन टीचर्स को हटाया गया है

1. शम्स तबरेज

2. पूनम मौलिक

3. मंजू बिरुवा

4. बंजा तेलंगना

शिक्षा विभाग से आदेश है कि अनुबंधित शिक्षक शम्स तबरेज, पूनम मौलिक, मंजू बिरुवा व बंजा तेलंगना हो हटाकर नए शिक्षक-शिक्षिकाओं की बहाली की जाए। कुछ शिक्षकों ने विद्यालय उसी दिन से आना बंद कर दिया। बुधवार की सुबह छात्राएं बिना सूचना दिए सुबह 5:30 जब विद्यालय का गेट खुला तो दौड़ते हुए निकलकर भागने लगीं। 18 छात्राओं को वापस विद्यालय किसी प्रकार लाया गया है। सभी 10वीं की छात्राएं हैं।

- संगीता कुमारी, वार्डेन, कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय, मझगांव

डीएसई ने ली वार्डेन व छात्राओं की क्लास

छात्राओं के भागने की सूचना मिलते ही जिला शिक्षा अधीक्षक नीलम आइलिन टोप्पो स्कूल पहुंचकर वार्डेन संगीता कुमारी से मामले की जानकारी ली। मौके पर जगन्नाथपुर अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी मनोज कुमार झा, मझगांव के बीईईओ शेख शकील अहमद और भाजपा बीस सूत्री सदस्य मो। मुम्ताज भी आ गए। डीएसई नीलम आइलिन टोप्पो ने विद्यालय वापस लौटी छात्राओं से भी भागने का कारण पूछा। छात्राओं ने बताया कि 22 अगस्त से परीक्षा होनी है। अभी एक दिन पहले ही चार शिक्षक-शिक्षिकाओं को विद्यालय से हटा दिया गया। शिक्षकों की कमी के चलते परीक्षा की तैयारी में काफी परेशानी हो रही है। छात्राओं ने कहा कि हटाए गए शिक्षक-चिक्षिकाएं अच्छा पढ़ाते हैं। कम समय में नए शिक्षक-शिक्षिकाओं की पढ़ाई समझना मुश्किल होगा। छात्राओं के मुख से यह बात सुनकर डीएसई भड़क गईं। सख्त लहजे में कहा कि अगर हटाएच्गए टीचर्स अच्छा पढ़ाते थे तो मैट्रिक में रिजल्ट प्रतिशत में कमी क्यों आई। उन्होंने कहा कि शिक्षा विभाग के दिशा-निर्देश पर ही चारों को हटाया है। मैट्रिक में खराब प्रदर्शन की वजह से ही वार्डेन संगीता कुमारी के दो माह के वेतन में भी कटौती की गई है।

चार नई शिक्षिकाओं की प्रतिनियुक्ति

मझगांव के बीईईओ शेख शकील अहमद ने बताया कि स्कूल से हटाये गए शिक्षकों के बदले तत्काल मध्य विद्यालय खैरपाल की शालिनी पुरती, मध्य विद्यालय मझगांव की चांदु कुई, बालिका मध्य विद्यालय पड़सा की सोनी कुमारी व मध्य विद्यालय घोड़ाबंधा की ललिता जरीकी को कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय में प्रतिनियुक्त किया गया है। उन्होंने चेतावनी दी कि अगर भविष्य में छात्राएं फिर से विद्यालय छोड़कर भागती हैं तो उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। इसको लेकर छात्राओं से लिखित में लिया गया।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.