अमनमणि ने रसूख से कोर्ट और पुलिस को बनाया मजाक

2015-06-24T07:00:22Z

- कुर्की नोटिस फाड़, पानी से दीवार किया साफ

- फरार अमनमणि को तलाश रही लखनऊ पुलिस

GORAKHPUR: कवित्री मधुमिता हत्याकांड में सजा काट रहे नेता अमरमणि जहां एक ओर गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में मौज कर रहे हैं वहीं दूसरी तरफ पिछले दस महीने से लखनऊ पुलिस उनके सुपुत्र अमनमणि को ढूढ़ने में लगी है। नाकाम पुलिस पर कोर्ट को आदेश देना पड़ा कि अमनमणि के घर की कुर्की की जाए। ट्यूजडे को लखनऊ पुलिस अमनमणि के घर पर कुर्की का आदेश भी चस्पा करने आई। आदेश चस्पा हुआ लेकिन पुलिस के जाते वह भी पानी से धुल दिया गया। ऐसे में सवाल खड़ा होता है कि आखिर जब कोर्ट के आदेश का यह हाल है तो पुलिस क्या कभी अमनमणि को पकड़ पाएगी?

ट्यूज्डे दोपहर लखनऊ पुलिस ने चस्पा की नोटिस

लखनऊ पुलिस की एक टीम ट्यूज्डे दोपहर गोरखपुर पहुंची। कोतवाली थाना के बेनीगंज चौकी से फोर्स लेकर लखनऊ पुलिस अमनमणि के आवास गई। घर के भीतर घरेलू नौकरों के सिवा कोई नहीं मिला। मेन गेट पर पुलिस ने नोटिस चस्पा किया। दोपहर करीब सवा दो बजे अमनमणि के दुर्गाबाड़ी रोड स्थित आवास पर पहुंची। वहां नोटिस चस्पा करके चली गई। पुलिस के जाते ही घर के भीतर से निकले लोगों ने नोटिस उखाड़ दिया। नोटिस वाली जगह को पानी से धोकर भीतर चले गए। पूछने पर बताया कि पुलिस ने कोई अफवाह फैला दी है।

गौतमपल्ली थाना में दर्ज कराया गया था मुकदमा

ठेकेदार ऋषि पांडेय ने अमनमणि और अन्य सहयोगियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। ऋषि पांडेय ने आरोप लगाया कि पांच अगस्त 2014 की रात लालबत्ती लगे वाहन पर सवार अमनमणि, रवि व अन्य ने उन्हें आवास विकास मुख्यालय के पास से अगवा कर बंधक बनाकर पीटा। वह अपनी पत्‍‌नी का उपचार कराने जा रहे थे। तभी अमनमणि अपने गुर्गो के साथ वीआइपी गेस्ट हाउस के पास वाहन से धकेल कर भाग गए। अमनमणि एक लाख रुपये की रंगदारी मांग रहे थे। मुकदमा दर्ज होने के बाद लखनऊ पुलिस ने दो आरोपियों को अरेस्ट कर लिया है। लेकिन अमनमणि की परछाई नहीं छू सकी।

लगातार सार्वजनिक कार्यक्रमों में आते रहे नजर

मुकदमा दर्ज होने के बाद अमनमणि लगातार सार्वजनिक कार्यक्रमों में नजर आते रहे। गोरखपुर, महराजगंज सहित कई जगहों वह नजर आए। लेकिन फरार आरोपी को पुलिस ने अरेस्ट नहीं किया। पुलिस ने सरकार के मंत्रियों के अगल-बगल नजर आने वाले अमनमणि को अरेस्ट करने की हिम्मत नहीं दिखाई। फरार अमनमणि पर गोरखपुर के तिवारीपुर, कैंट थानों में तहरीर देकर जानमाल की धमकी देने, मारपीट का आरोप लगा। ठेकेदार और उसके बेटों ने पुलिस को सूचना देकर कार्रवाई की मांग की। इसके अलावा हाल ही में ऋणि पांडेय के एक मित्र ने कैंट एरिया के सिविल लाइंस स्थित एक होटल में मारपीट करने का मुकदमा अमनमणि के खिलाफ दर्ज कराया था। उधर ठेकेदार अपहरण की विवेचना कर रही गौतमपल्ली थाना की पुलिस ने चार्जशीट दाखिल की। कोर्ट में अर्जी देकर कुर्की का आदेश मांगा। कोर्ट ने कुर्की की नोटिस चस्पा करने, अगली तारीख 13 जुलाई को कार्रवाही से अवगत कराने का आदेश दिया।

कोर्ट ने अमनमणि को भगोड़ा घोषित किया है। अमनमणि के सभी संभावित ठिकानों पर कुर्की की नोटिस चस्पा की जाएगी। कोतवाली पुलिस की मदद से नोटिस लगा दी गई है। अमनमणि के घर पर सिर्फ नौकर-चाकर मिले।

एके त्रिपाठी, एसआई, थाना गौतमपल्ली, लखनऊ


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.