लैंड डिस्प्यूट में उलझा नया सिविल एयरपोर्ट

2020-01-22T05:46:26Z

-6 किसानों से भूमि अधिग्रहण अभी तक नहीं हुआ पूरा, 4 किसानों ने कोर्ट में दायर किया मामला

-बिना रजिस्ट्री हुए पूरा नहीं हो सकता सिविल एयरपोर्ट का विस्तार, एडीएम एलए ने शुरू कराया सर्वे

-रिपोर्ट के बाद लैंड लेने के ऑप्शन पर होगा विचार, नए शासनादेश से अधिग्रहण हुआ तो लगेगा 1 साल

kanpur@inext.co.in

KANPUR : कानपुर को मिलने वाले नए सिविल एयरपोर्ट में जमीन का रोड़ा फंस सकता है। जिससे प्रोजेक्ट को समय से पूरा करने में मुश्किलें आ सकती हैं। क्योंकि एयरपोर्ट एक्सपेंशन के लिए 16.745 हेक्टेअर मिलने वाली जमीन का कुछ हिस्सा विवादित होने के कारण उसका बैनामा तक नहीं हो सका है। 0.963243 हे। लैंड की रजिस्ट्री भी नहीं हो सकी है। एयरपोर्ट अथॉरिटी ने एडीएम लैंड से मामले को निस्तारित करने की गुजारिश की है। ऐसे में पीडब्ल्यूडी और लेखपाल ने जमीनों को सर्वे शुरू कर दिया है। रिपोर्ट आने के बाद जमीन अधिग्रहण के 2 ऑप्शन पर विचार किया जाएगा। अधिग्रहण पूरा होने के बाद ही टर्मिनल बिल्डिंग का निर्माण शुरू हो सकेगा।

सरकार से मिली थी जमीन

ईयर 2014 में कानपुर में नया सिविल एयरपोर्ट बनाने का मसौदा तैयार हुआ था। इसके लिए यूपी गवर्नमेंट और एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया के बीच एमओयू साइन हुआ था। 82 करोड़ से मवइया में जमीन अधिग्रहित की गई थी। 11 जनवरी 2018 को 40.201575 एकड़ लैंड अथॉरिटी के नाम रजिस्ट्री कर ट्रांसफर कर दी गई थी। लेकिन जमीन का कुछ हिस्सा विवादित होने के कारण उसका न तो बैनामा हुआ और न ही वो लैंड अधिग्रहित हो पाई।

--------------

इन ऑप्शन पर होगा विचार

एडीएम लैंड प्रमोद शंकर शुक्ला के मुताबिक सिविल एयरपोर्ट एक्सपेंशन पर सर्वे रिपोर्ट आने के बाद लिया जाएगा। जमीन अधिग्रहण के लिए 2 ऑप्शन हैं। इसमें पहला 19 मार्च 2019 का शासनादेश है, जिसमें किसानों से सहमति के आधार पर बैनामा कर अधिग्रहण किया जा सकता है। ये प्रॉसेस जल्द हो जाता है। इसके बाद दूसरे ऑप्शन की बात करें तो नए शासनादेश के मुताबिक अगर अधिग्रहण हुआ तो इसमें 1 साल का वक्त लग सकता है। 6 किसानों से जमीन अधिग्रहण कोर्ट की निगरानी में भी हो सकता है। मुआवजे का पैसा कोर्ट में जमा किया जाता है और कोर्ट के फैसले के आधार पर अधिग्रहण किया जा सकता है।

-------------

ऐसा बनना है नया एयरपोर्ट

मौजूदा एयरपोर्ट से 3 किमी। की दूरी पर मवइया में नया एयरपोर्ट महज 16 महीने में बनकर तैयार किया जाना है। लेकिन अब इस पर खतरा मंडराने लगा है। इसके लिए एविएशन मिनिस्ट्री ने 106 करोड़ का फंड भी रिलीज कर दिया है। टोटल 400 करोड़ रुपए में नया एयरपोर्ट बनाकर तैयार किया जाना है। नए एयरपोर्ट में जहां इंटरनेशनल लेवल की शानदार फैसिलिटीज पैसेंजर को मिलेंगी, वहीं 300 से ज्यादा की पैसेंजर कैपेसिटी भी होगी। वहीं 6 एयरप्लेन एयरपोर्ट पर एक साथ पार्क हो सकेंगे। मौजूदा समय में सिर्फ 1 प्लेन ही पार्क हो सकता है।

-------------

इस लैंड का है विवाद

लैंड एरिया कमेंट

0.056 हेक्टेअर कोर्ट में विचाराधीन

0.420 हेक्टेअर प्रपोज्ड लिस्ट में नाम नहीं

0.099828 हे। कोर्ट में विचाराधीन

0.16282 हे। कोर्ट में विचाराधीन

0.034185 हे। कोर्ट में विचाराधीन

0.19041 हे। विवादित है

-------------

इन आंकड़ों पर गौर कीजिए

-16.745 हेक्टेअर लैंड एयरपोर्ट एक्सपेंशन के लिए चाहिए।

-15.781757 हे। लैंड की रजिस्ट्री अथॉरिटी के नाम हो चुकी है।

-0.963243 हे। लैंड की रजिस्ट्री अब तक नहीं हो सकी है।

--------------

एयरपोर्ट के आंकड़ों पर एक नजर

-500 पैसेंजर्स की क्षमता का होगा नया टर्मिनल

-400 करोड़ रुपए की लागत से बनकर होगा तैयार

-2.5 करोड़ से पीडब्ल्यूडी ने पूरा किया बाउंड्री निर्माण

-82 करोड़ की कीमत से खरीदी गई है टोटल जमीन

-------------

डिस्प्यूटेड लैंड का सर्वे शुरू किया जा चुका है। रिपोर्ट आने के बाद जमीन के अधिग्रहण पर डिसिजन लिया जाएगा। नए शासनादेश के मुताबिक अधिग्रहण करना पड़ा तो इसमें 1 साल तक का समय लग सकता है।

-प्रमोद शंकर शुक्ला, एडीएम एलए।

Posted By: Inextlive

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.