Lathmaar Holi 2020: मथुरा में बारिश व ठंड के बीच धूम-धाम से मनाई गई होली, देखें तस्वीर

2020-03-07T17:35:30Z

Lathmaar Holi 2020: मथुरा में हर साल की तरह इस बार भी धूम-धाम से लठमार होली मनाई जा रही है। तो आइये मथुरा की होली पर एक नजर डालें।

मथुरा (पीटीआई)Lathmaar Holi 2020: रुक-रुक कर बारिश और ठंड की स्थिति के बावजूद, मथुरा में श्री कृष्ण जन्मस्थान मंदिर परिसर में हर साल की तरह इस बार भी लठमार होली बड़े धूमधाम से मनाई गई। बता दें कि लठमार होली मथुरा में त्योहार का एक स्थानीय उत्सव है जो होली के पहले होता है और इसको देखने के लिए वहां हर साल हजारों लोग एकत्र होते हैं। लठमार होली का मतलब है कि ऐसी होली जिसमें लोग दूसरों को लाठी से मारते हैं।

बारिश के चलते कुछ कार्यक्रमों को रोका गया

श्री कृष्ण जन्मस्थान सेवा संस्थान के सचिव कपिल शर्मा ने बताया कि शुक्रवार को हल्की से भारी बारिश के कारण कुछ कार्यक्रमों पर रोक लगा दी गई लेकिन प्रसिद्ध चरकुला नृत्य और मयूर नृत्य को देखने के लिए दर्शक रोमांचित थे। उन्होंने कहा कि मंदिर में मनाई जाने वाली होली त्योहार प्रेमियों के लिए एक विशेष आकर्षण है और उन्हें मथुरा में यह देखने को मिलता है।

होली को देखने के लिए कई गांवों से आते हैं लोग

शर्मा ने बताया कि बरसाना या नंदगाँव (भगवान कृष्ण से जुड़े मथुरा के गाँव) में मनाई जाने वाली होली को देखने के लिए भी विभिन्न गाँवों के लोग आते है, वहीं, रावल (मथुरा में एक और गाँव) में मनाई जाने वाली होली के उत्सव में गाँव के पुरुष और महिलाएँ बड़े उत्साह के साथ भाग लेती हैं। उन्होंने बताया जब लठमार होली शुरू हुई तो उत्सव को देखने के लिए भीड़ उमड़ पड़ी।

लोगों ने खेली होली

लठमार होली की शुरुआत में, महिलाएं अपने लाठी से पुरुषों को भागने के तरीके ढूंढती हैं और पुरुष खुद को हिट होने से बचाने की कोशिश करते हैं। पुलिसकर्मियों को भी कवर के लिए दौड़ते हुए देखना दिलचस्प था क्योंकि महिलाओं ने उन्हें भी लाठी से पीटा। मथुरा के जिलाधिकारी सर्वज्ञ राम मिश्रा ने कहा कि इस उत्सव के दौरान कोई अप्रिय घटना नहीं हुई है। दोपहर में, भगवान कृष्ण की मूर्ति को एक रथ पर रखा गया और शहर के मुख्य मार्गों से होकर गुजरा। बाद में शाम को, भक्तों ने क्षेत्र के विभिन्न मंदिरों में एक दूसरे पर रंग फेंकते हुए होली खेली।

बांकेबिहारी मंदिर और वृंदावन के सात प्राचीन मंदिरों में देखी गई भीड़

सबसे अधिक भीड़ बांकेबिहारी मंदिर और वृंदावन के सात प्राचीन मंदिरों में देखी गई। प्रधान पुजारी विजई कृष्ण गोस्वामी ने कहा कि बांके बिहारी मंदिर में, गुलाब पाउडर या गुलाल 'प्रसादम' के रूप में भक्तों पर फेंका गया, सभी ने प्रधान देवता के साथ होली खेली। वहीं, एक अन्य पुजारी ने कहा कि शुक्रवार से शुरू हुआ उत्सव 10 मार्च तक यहां जारी रहेगा जब पूरे देश में होली मनाई जाएगी।

Posted By: Mukul Kumar

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.